Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजसादिक ने बकरीद पर शराब पीने से रोका तो बड़े भाई शाहजहाँ ने कर...

सादिक ने बकरीद पर शराब पीने से रोका तो बड़े भाई शाहजहाँ ने कर दी हत्या, केरल के अलप्पुझा का मामला: गिरफ्तार

सादिक शाहजहाँ को शराब पीने नहीं जाने देना चाहता था। शाहजहाँ शराब पीने ना सजा सके, इसके लिए सादिक ने उसकी मोटरसाइकिल के तार काट दिए थे। इसके बाद भी शाहजहाँ नहीं माना और बकरीद के दिन शराब पीने बाहर चला गया। वह थोड़ी देर बाद शराब पीकर लौटा।

केरल के अलप्पुझा में शाहजहाँ ने बकरीद के मौके पर शराब पीने से रोके जाने पर छोटे भाई सादिक की चाकू मार कर हत्या कर दी। शाहजहाँ अपने भाई की हत्या करने के बाद फरार हो गया। केरल पुलिस ने शाहजहाँ को गिरफ्तार करके हत्या का मामला दर्ज कर लिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अलप्पुझा के कयमकुलम में रहने वाला 42 वर्षीय शाहजहाँ शराब का आदी था। वह रोज शराब पीकर घर आके लड़ाई करता था। वह बकरीद (17 जून, 2024) को भी घर से शराब पीने जाने की जिद कर रहा था। इसके लिए उसने घर में लड़ाई भी की थी। उसका छोटा भाई सादिक (38), शाहजहाँ के शराब पीने के खिलाफ था।

सादिक शाहजहाँ को शराब पीने नहीं जाने देना चाहता था। शाहजहाँ शराब पीने ना सजा सके, इसके लिए सादिक ने उसकी मोटरसाइकिल के तार काट दिए थे। इसके बाद भी शाहजहाँ नहीं माना और बकरीद के दिन शराब पीने बाहर चला गया। वह थोड़ी देर बाद शराब पीकर लौटा।

शराब पीकर लौटने के बाद शाहजहाँ घर पर लड़ाई-झगड़ा करने लगा। उसने अपने छोटे भाई सादिक से मारपीट भी चालू कर दी। दोनों भाईयों की लड़ाई यहाँ तक बढ़ी कि शाहजहाँ ने अपने छोटे भाई सादिक पर चाकू से वार कर दिया। शाहजहाँ ने सादिक के छाती के नीचे चाकू मारा जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया।

सादिक को इसके बाद अस्पताल ले जाया गया जहाँ अगली सुबह उसकी मौत हो गई। दूसरी तरफ हत्या करने के बाद शाहजहाँ मौके से फरार हो गया था। पुलिस ने उसकी तलाश की और उसे पास के ही इलाके के एक बार से गिरफ्तार कर लिया, उसे कोर्ट में पेश करके आगे की कार्रवाई की जा रही है। कोर्ट ने उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

बताया गया कि दोनों भाई यहाँ अपनी माँ के साथ रहते थे। छोटा भाई सादिक का निकाह हुआ था लेकिन वह अपनी पत्नी से अलग हो चुका था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -