Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजलंच ब्रेक में लगा जय श्रीराम का नारा... सेंट जोसेफ स्कूल ने 18 छात्रों...

लंच ब्रेक में लगा जय श्रीराम का नारा… सेंट जोसेफ स्कूल ने 18 छात्रों को सस्पेंड किया, प्रिंसिपल बोलीं- सिर्फ 1 को किया है, NCPCR ने जवाब माँगा

मामला सेंट जोसेफ कान्वेंट स्कूल का है। यहाँ क्लास 10 में पढ़ने वाले बच्चों पर लंच ब्रेक के दौरान जय श्रीराम के नारे लगाने का आरोप लगा। इसके बाद प्रशासन ने पूरे क्लास के 30 बच्चों से माफ़ीनामा लिखवाया और कथिततौर पर कुल 18 छात्रों को कॉलेज से निलंबित कर दिया गया।

मध्यप्रदेश के सागर जिले में एक मिशनरी स्कूल में जय श्रीराम बोलने पर डेढ़ दर्जन छात्रों के सस्पेंड किए जाने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि इस बावत स्कूल प्रशासन ने क्लास में मौजूद 30 बच्चों से लिखित माफीनामा भी लिया है। राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग ने इस घटना का संज्ञान लेते हुए सागर जिले के DM को नोटिस जारी किया है। वहीं स्कूल प्रबंधन ने सफाई देते हुए बताया कि कार्रवाई जय श्री राम बोलने पर नहीं बल्कि जूनियर छात्रों को परेशान करने पर की गई है।

पत्रिका की खबर के मुताबिक मामला सेंट जोसेफ कान्वेंट स्कूल का है। यहाँ क्लास 10 में पढ़ने वाले बच्चों पर लंच ब्रेक के दौरान जय श्रीराम के नारे लगाने का आरोप लगा। मामले की शिकायत स्कूल की प्रिंसिपल से की गई। आरोप है कि इसके बाद स्कूल प्रशासन ने पूरे क्लास के सभी 30 बच्चों से माफ़ीनाम लिखवा डाला। इतना ही नहीं, आरोप तो यह भी है कि कुल 18 छात्रों को कॉलेज से निलंबित कर दिया गया।

सागर जिले के जिला शिक्षा अधिकारी अखिलेश पाठक ने इस घटना पर बयान दिया है। उन्होंने कहा कि छात्रों का निलंबन बेहद गलत है। अखिलेश पाठक ने स्कूल को फ्रीडम ऑफ़ स्पीच का भी सम्मान करने की नसीहत दी। इन तमाम आरोपों के बीच स्कूल की प्रिंसिपल सिस्टर मोली ने कार्रवाई की जद में आए छात्रों पर जूनियर छात्रों को परेशान करने का आरोप लगाया है। सिस्टर मोली थॉमस के मुताबिक सिर्फ एक विद्यार्थी को निलंबित किया गया है।

NCPCR ने जारी किया नोटिस

छात्रों का अभिभावकों ने स्कूल प्रबंधन के एक्शन पर असंतोष जताते हुए कहा कि सस्पेंड करने के बजाए उन्हें चेतवानी दी जा सकती है। इस घटना का संज्ञान राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग के चेयरपर्सन प्रियांक कानूनगो ने लिया है। शनिवार (10 दिसंबर 2022) को उन्होंने ट्वीट कर के अख़बार की कटिंग शेयर की और जिलाधिकारी सागर को नोटिस जारी होने की जानकारी दी।

NCPCR की इस नोटिस में प्रकाशित हुई खबर का हवाला दिया गया है। नोटिस में पूरे मामले की जाँच करवा कर 7 दिनों के अंदर आख्या सौंपने के लिए कहा गया है। इस नोटिस में DM से इस बात का भी ध्यान रखने को कहा गया है कि बच्चों की पढ़ाई किसी भी रूप में बाधित न होने पाए।

ऑपइंडिया ने आरोपों की पुष्टि के लिए सेंट जोसेफ कान्वेंट स्कूल को फोन किया लेकिन उनका फोन उठा नहीं। स्कूल प्रबंधन का बयान आने के बाद उसे खबर में अपडेट किया जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -