Thursday, July 29, 2021
Homeदेश-समाजइलाज से नाखुश रफीक ने डॉक्टर की पत्नी को मार डाला, बेटे को भी...

इलाज से नाखुश रफीक ने डॉक्टर की पत्नी को मार डाला, बेटे को भी किया घायल

पुलिस के मुताबिक आरोपित 2015 में भी एक मर्डर के केस में शामिल था, अभी वो बेल पर बाहर है। रफीक हमेशा अपने पास चाकू रखता है।

इंदौर में डॉक्टर के इलाज से नाखुश रफीक राशिद नाम के व्यक्ति ने गुरुवार (जून 6, 2019) को गुस्से में डॉक्टर की पत्नी की हत्या कर दी। खबरों के अनुसार राशिद डॉक्टर से मिलने मालवा हिल्स पर मौजूद उनके क्लिनिक पर गया था। लेकिन वहाँ डॉक्टर राम कृष्ण मौजूद नहीं थे बल्कि उनकी पत्नी लता वर्मा थीं जो अपने पति को क्लिनिक के काम में मदद करती थीं।

लता ने रफीक को बताया कि उनके पति शहर से बाहर गए हुए हैं। इस पर रफीक ने लता से बहस करनी शुरु कर दी। थोड़ी देर में ये बहस इतनी ज्यादा बढ़ गई कि रफीक ने महिला को चाकू मारना शुरू कर दिया। जब डॉक्टर का बेटा अभिषेक अपनी माँ को बचाने के लिए बीच में आया तो रफीक़ ने लड़के पर भी चाकू से वार किए। अस्पताल पहुँचने के बाद लता को मृत घोषित कर दिया गया, जबकि अभिषेक अभी खतरे से बाहर बताया जा रहा है।

तुकोगंज के सीएसपी बीपीएस परिहार ने हिन्दुतान टाइम्स से हुई बातचीत में बताया कि 45 वर्षीय रफीक राशिद त्वचा सम्बंधी रोग से पीड़ित था। उसका इलाज पिछले 6 महीने से डॉक्टर रामकृष्ण वर्मा कर रहे थे, लेकिन उसे इससे कोई फायदा नहीं हो रहा था। गुरुवार को सुबह 11 बजे जब रफीक डॉक्टर के पास पहुँचा तो लता ने उसे बताया कि डॉक्टर दिल्ली गए हुए हैं।

जिसके बाद रफीक को गुस्सा आ गया और उसने 50 वर्षीय महिला पर लगातार चाकू से वार किए। पुलिस ने बताया कि आरोपित चाकू को अपने साथ लेकर आया था। मदद के लिए माँ की आवाज सुनते ही जब डॉक्टर का बेटा अभिषेक अपनी माँ को बचाने आया तो रफीक ने उसे भी चाकू मारे और भाग निकला। कुछ लोगों ने चीखने चिल्लाने की आवाज सुनी और रफीक को धर पकड़ा। बाद में उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया।

फ़िलहाल, पुलिस रफीक से पूछताछ कर रही है। पुलिस पता करने की कोशिश कर रही है कि डॉक्टर की गैर मौजूदगी में कहीं रफीक ने महिला के साथ शारीरिक सम्बंध बनाने का प्रयास तो नहीं किया। पुलिस के मुताबिक आरोपित 2015 में भी एक मर्डर के केस में शामिल था, अभी वो बेल पर बाहर है। रफीक हमेशा अपने पास चाकू रखता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,743FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe