Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजपोलैंड भागने की तैयारी में था तिहरे हत्याकांड वाला लल्लन खान, योगी सरकार ने...

पोलैंड भागने की तैयारी में था तिहरे हत्याकांड वाला लल्लन खान, योगी सरकार ने बाप-बेटे पर लगा दिया NSA: नेपाल जाने से पहले ही धरा गया ‘गब्बर’

भले ही आखिरी मुकदला 1999 में दर्ज हुआ हो, लेकिन 70 साल की उम्र में जिस खौफनाक तरीके से उसने ट्रिपल मर्डर को अंजाम दिया, उससे उसकी दबंगई का अंदाजा लगाया जा सकता है।

उत्तर प्रदेश के लखनऊ के मलिहाबाद में हुए तिहरे हत्याकांड के मुख्य आरोपित लल्लन खान उर्फ सिराज और उसके बेटे फराज पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) लगाया जाएगा। पुलिस ने दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस का मानना है कि यह हत्याकांड सिर्फ आपसी रंजिश का मामला नहीं है, बल्कि इसके पीछे पाकिस्तान और नेपाल से तार जुड़े हो सकते हैं। पुलिस दोनों आरोपितों से पूछताछ कर रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, लल्लन खान उर्फ गब्बर खान उर्फ सिराज (उम्र 70) ने अपने बेटे फराज के साथ शुक्रवार (2 फरवरी, 2024) शाम जमीन विवाद में 15 साल के मासूम बच्चे समेत 3 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद से दोनों फरार हो गए थे और मुरादाबाद में जाकर छिप गए थे। अब दोनों को ही पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। लल्लन खान के दो बेटे पोलैंड रहते हैं, वो किसी तरह से नेपाल भाग जाना चाहता था और वहाँ से वो भी अपने तीसरे बेटे के साथ पोलैंड ही भागने की जुगत में था। जब उसके सारे रास्ते बंद हो गए, तब वो अपने वकीलों के माध्यम से कोर्ट में सरेंडर की योजना बनाने लगा, लेकिन वो सरेंडर कर पाता, इससे पहले ही पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

लल्लन खान का पाकिस्तान से भी कनेक्शन सामने आ रहा है, साथ ही वो जिस नेपाल के रास्ते पोलैंड भागने की फिराक में था, वहाँ से भी उसका और पोलैंड में बैठे बेटों का कनेक्शन है। लल्लन खान को इस वारदात के महज 36 घंटों में ही गिरफ्तार कर लिया गया। दरअसल, उसके पास पासपोर्ट समेत जरूरी चीजें मौजूद थी। उसके पास पैसों की भी कोई कमीं नहीं। ऐसे में पुलिस ने आशंका जताई थी कि वो विदेश भागने का प्रयास कर सकता है।

लल्लन खान खुद को गब्बर खान कहलवाना पसंद करता था, उसके ऊपर कभी दो दर्जन मामले दर्ज हुआ करते थे। भले ही आखिरी मुकदला 1999 में दर्ज हुआ हो, लेकिन 70 साल की उम्र में जिस खौफनाक तरीके से उसने ट्रिपल मर्डर को अंजाम दिया, उससे उसकी दबंगई का अंदाजा लगाया जा सकता है। ऐसे में पुलिस ने उसे पकड़ने के लिए मजबूत जाल बिछाया। उसकी तस्वीरें एयरपोर्ट से लेकर बड़े बस अड्डों को भी भेजी गई। पुलिस ने एयरपोर्ट के साथ-साथ यूपी के सभी जिलों और एसएसबी को भी अलर्ट पर रखा था। चूँकि मुरादाबाद की तरफ उसका लोकेशन मिल रहा था, ऐसे में पुलिस ने मुरादाबाद की तरफ ध्यान केंद्रित किया।

यूपी तक के मुताबिक, डीसीपी वेस्ट राहुल राज ने बताया कि 36 घंटे के अंदर दोनों मुख्य संदिग्धों को पकड़ लिया गया। उन्होंने यह भी कहा कि सिराज के दो बेटे नेपाल कनेक्शन के कारण पोलैंड में हैं, जिससे उनके भागने की चिंता बढ़ गई थी। पुलिस ने हवाई अड्डों और सीमाओं पर अधिकारियों को सतर्क कर दिया और पाँच टीमों के साथ निगरानी शुरू कर दी। हालाँकि, अब वो पकड़ लिया गया है और उससे पूछताछ शुरू कर दी गई है।

लखनऊ पुलिस ने बताया है कि लल्लन खान जैसे आपराधिक रिकॉर्ड वाला व्यक्ति इतने समय तक शांत कैसे बैठा था, ऐसे में उसकी जाँच बेहद जरूरी है। पुलिस ने बताया है कि वो अब लल्लन खान पर गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई करेगी। इसके तहत लल्लन खान की अवैध संपत्तियाँ भी कुर्क की जाएँगी। यही नहीं, इनके नेपाल, पोलैंड और पाकिस्तानी कनेक्शन को देखते हुए एनएसए लगाया जा रहा है और इन कनेक्शन की भी पूरी तरह से जाँच की जाएगी। अब ये अपराधी किसी भी सूरत में बच नहीं पाएंगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -