Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजमोनू मानेसर के साथ VHP, कहा- मुस्लिम वोट बैंक के लिए राजस्थान ले गई...

मोनू मानेसर के साथ VHP, कहा- मुस्लिम वोट बैंक के लिए राजस्थान ले गई पुलिस: नूहं हिंसा में गिरफ्तारी से बचने के लिए हाई कोर्ट पहुँचा MLA मामन खान

मोनू मानेसर को राजस्थान पुलिस नासिर-जुनैद से जुड़े केस में ट्रांजिट रिमांड पर ले गई है। लेकिन अगस्त में राजस्थान के पुलिस महानिदेशक (DGP) उमेश मिश्रा ने बताया था कि अब तक की जाँच में इस घटना में उसकी सीधी संलिप्तता के कोई प्रमाण नहीं मिले हैं।

मोनू मानेसर को ट्रांजिट रिमांड पर राजस्थान पुलिस ले गई है। विश्व हिन्दू परिषद (VHP) ने इसे राजस्थान चुनावों में मुस्लिम वोट बैंक को खुश करने की कोशिश करार दिया है। दूसरी तरफ नहूं हिंसा में गिरफ्तारी से बचने के लिए कॉन्ग्रेस विधायक मामन खान ने हाई कोर्ट में अर्जी लगाई है।

मोनू मानेसर को फेसबुक पर भड़काऊ पोस्ट लिखने के मामले में नूहं साइबर क्राइम पुलिस ने 12 सितंबर 2023 को गिरफ्तार किया था। कोर्ट ने पहले उसे 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजने के निर्देश दिए। फिर उसे ट्रांजिट रिमांड पर राजस्थान पुलिस को सौंप दिया गया।

VHP ने मोनू मानेसर को हर प्रकार की सहायता देने और जरूरत पड़ने पर आंदोलन की बात कही है। विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा है, “निर्दोष गौभक्त मोनू मानेसर को राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार किया है, जबकि कुछ समय पहले ही राजस्थान पुलिस ने निर्दोष माना था। चुनावों में मुस्लिम वोट बैंक लिए गौभक्त मोनू की गिरफ्तारी हुई है, जो उन्हें बहुत भारी पड़ेगा। विश्व हिंदू परिषद गौभक्त मोनू मानेसर को हर प्रकार से सहायता करेगी और आवश्कता पड़ी तो आंदोलन भी करेंगे।”

गौरतलब है कि राजस्थान के भरतपुर के पहाड़ी थाना क्षेत्र के घाटमीका गाँव के रहने वाले नासिर और जुनैद के अपहरण का मामला 15 फरवरी 2023 को दर्ज हुआ था। अगले दिन दोनों के शव हरियाणा के भिवानी में जली हुई गाड़ी में मिले थे। इसी मामले में मोनू मानेसर का नाम आया था। लेकिन अगस्त में राजस्थान के पुलिस महानिदेशक (DGP) उमेश मिश्रा ने बताया था कि अब तक की जाँच में इस घटना में उसकी सीधी संलिप्तता के कोई प्रमाण नहीं मिले हैं।

मामन खान ने खटखटाया हाईकोर्ट का दरवाजा

वहीं नूहं हिंसा में हिंसक भीड़ को भड़काने के आरोपों का सामना कर रहे फ़िरोज़पुर झिरका से कॉन्ग्रेस विधायक मामन खान ने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में अपने वकील अर्शदीप सिंह चीमा के माध्यम से उन्होंने नूहं हिंसा की उच्च अधिकारियों की देखरेख में SIT जाँच कराए जाने की माँग की है। अपनी याचिका में मामन ने उच्च न्यायालय से यह भी अपील की है कि जाँच पूरी होने तक उनके खिलाफ पुलिस को दंडात्मक एक्शन न ले।

गौरतलब है कि 31 जुलाई को नूहं में बृजमंडल यात्रा पर हुए हमला हुआ था। हरियाणा पुलिस 25 अगस्त से अब तक मामन खान को 2 अलग-अलग बार पेश होने के लिए नोटिस दे चुकी है। लेकिन दोनों ही मौकों पर मामन खान पुलिस के आगे पेश नहीं हुआ।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -