Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजझारखंड के एक घर में प्रार्थना सभा के नाम पर लगा था जमावड़ा, ग्रामीणों...

झारखंड के एक घर में प्रार्थना सभा के नाम पर लगा था जमावड़ा, ग्रामीणों ने किया विरोध: कहा- बाहर से आते हैं पादरी, लालच दे करते हैं धर्मांतरण

ग्रामीणों का आरोप है कि बाहर से आने वाले पादरी लोगों को हिंदू देवी देवताओं की पूजा करने से रोकते हैं। उनसे कहते हैं कि ईसा मसीह का नाम लेने पर सभी दिक्क्त दूर हो जाएगी।

झारखंड के बोकारो जिले से ईसाई धर्मांतरण का मामला सामने आया है। गोमिया प्रखंड के देवीपुर गाँव के एक घर में प्रार्थना सभा के नाम पर जुटे लोगों को स्थानीय ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा। विरोध करने वाले ग्रामीणों का कहना है बाहर से पादरी आते हैं और लालच देकर धर्मांतरण करते हैं। हंगामे की सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुँची और हालात पर काबू पाया।

घटना रविवार (8 जनवरी 2023) की है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गाँव देवीपुर में रविवार को पाछू लाल यादव के घर में प्रार्थना के नाम पर सैकड़ों महिलाओं को जमा किया गया था। इस बात की जानकारी जब ग्रामीणों को हुई तो वे भी मौके पर पहुँचे। कुछ ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि प्रार्थना के नाम पर बाहरी पादरी भोले-भाले हिन्दुओं का धर्मान्तरण करवा रहे हैं। उन्होंने विरोध करते हुए हंगामा शुरू कर दिया। इसके खिलाफ पाछू लाल यादव के घर में जमा लोग भी बाहर निकल आए और दो पक्ष आमने-सामने हो गए।

मामले की जानकारी जब पुलिस को हुई तो वह मौके पर पहुँच कर लोगों को समझाने-बुझाने में जुट गई। देवीपुर गाँव के निवासी अमित साव ने आरोप लगाया कि कई महीनों से मिशनरियों और पादरियों का आना-जाना लगा है। आरोप है कि उनके द्वारा करवाई जा रही प्रार्थना सभा में न सिर्फ ईसाइयत का प्रचार किया जाता है, बल्कि हिन्दू देवी-देवताओं की पूजा करने से भी रोका जाता है। आरोपों के मुताबिक सभा में ईसा मसीह का नाम लेने पर सभी दिक्क्तों के दूर होने और बच्चों की बीमारी ठीक होने की बात समझाई जाती है।

ग्रामीणों के विरोध को देखते हुए पुलिस ने जमा भीड़ को वहाँ से हटा दिया। हालाँकि इस दौरान बाहर से जमा लोग प्रार्थना सभा जारी रखने पर अड़े हुए थे। ग्रामीणों ने शिकायत देकर गोमिया पुलिस से मामले में कठोर कार्रवाई की माँग की है। इसमें बताया गया है कि देवीपुर गाँव में प्रार्थना के नाम पर जमा होने वाली भीड़ आसपास के गाँवों से आती है। इन गाँवों में गोमिया, साड़म, होसिर, कथारा, विष्णुगढ़, तुलबुल, ढेंढे और बिरसा शामिल है। गोमिया के थाना प्रभारी राजेश रंजन ने कहा है कि मामले की जाँच की जा रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -