मुश्किल चुनावों के दौरान सोनिया और इंदिरा भी भागी थीं दक्षिण भारत, जीत कर छोड़ दी थीं सीटें

कॉन्ग्रेस जब-जब मुश्किल में होती है, अपने सुप्रीम नेता के लिए दक्षिण भारत में एक सेफ पैसेज खोजती है। राहुल गाँधी ने भी दक्षिण भारत का रुख कर अपनी पारिवारिक परंपरा को ही निभाया है।

लोकसभा चुनाव आते ही बड़े से बड़े नेताओं को हार का डर सताने लगता है और जिन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र में कुछ काम ही नहीं किया हो, उनका कहना ही क्या! कुछ ऐसी ही स्थिति राहुल गाँधी की हो चली है। अमेठी में स्मृति ईरानी द्वारा चौतरफा घिरे राहुल को जब कुछ नहीं सूझा, उन्होंने दक्षिण भारत का रुख कर अपनी पारिवारिक परंपरा को निभाया है। केरल के वायनाड से राहुल गाँधी की उम्मीदवारी का ऐलान कर कॉन्ग्रेस ने लोगों की इस आशंका को बल दे दिया है कि राहुल गाँधी के लिए अमेठी में इस बार राह आसान नहीं है। स्मृति ईरानी ने हारने के बावजूद समय-समय पर क्षेत्र का दौरा किया है और जनसम्पर्क किया है। राहुल ने हमेशा की तरह अमेठी को फिर से नज़रअंदाज़ किया, शायद इस कारण उन्हें दो जगहों से परचा भरना पड़ रहा है। लेकिन क्या आपको पता है गाँधी परिवार के दो और लोग दक्षिण भारत से चुनाव लड़ चुके हैं?

यूपी में हारी इंदिरा गाँधी पहुँचीं चिकमंगलूर

दरअसल, इंदिरा गाँधी 1977 में रायबरेली से चुनाव हार गई थीं। प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी को भारतीय लोक दल (BLD) के दिग्गज नेता राज नारायण ने हराया था। बीएलडी का जन्म स्वतंत्र पार्टी और सोशलिस्ट पार्टी सहित 7 कॉन्ग्रेस विरोधी पार्टियों को मिलाकर हुआ था और चौधरी चरण सिंह इसके नेता थे। 1977 में यह जनसंघ के साथ मिलकर जनता पार्टी बना और बीएलडी के चुनाव चिह्न पर ही चुनाव में हिस्सा लिया गया। इंदिरा गाँधी की करारी हार से कॉन्ग्रेस को तगड़ा झटका लगा क्योंकि न सिर्फ़ रायबरेली बल्कि पूरे देश में पार्टी की हालत बदतर हो चली थी। तब पूर्ण बहुमत के साथ जनता पार्टी ने मोरारजी देसाई के नेतृत्व में केंद्र में सरकार बनाई थी।

रायबरेली में 55,000 से भी अधिक वोटों से हारी इंदिरा ने वापस संसद पहुँचने के लिए चिकमंगलूर का रुख किया था। कर्नाटक के चिकमंगलूर की जीत इंदिरा गाँधी के करियर के लिए एक टर्निंग पॉइंट साबित हुई और उन्होंने एक बार फिर से खोई सत्ता हासिल करने की कवायद शुरू की। चिकमंगलूर में एक महीने के गहन प्रचार-प्रसार के दौरान इंदिरा ने रेलगाड़ी, बैलगाड़ी से लेकर बिना एसी वाली एम्बेसडर से भी प्रचार किया। उस दौरान वह एक दिन में 18 घंटे प्रचार किया करती थीं। उस दौरान कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने नारा गढ़ा था- “एक शेरनी, सौ लंगूर – चिकमंगलूर, चिकमंगलूर”।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जनता पार्टी ने दिवंगत जदयू नेता जॉर्ज फर्नांडिस से प्रचार करवाया था। उन्होंने इंदिरा गाँधी को कोबरा बताया था। इंडियन एक्सप्रेस के एक पत्रकार के अनुसार, रामनाथ गोयनका उस समय कॉन्ग्रेस के विरोधी थे और उन्होंने सभी पत्रकारों को इंदिरा गाँधी के ख़िलाफ़ हर एंगल से लिखने के निर्देश जारी किए थे। अंतरराष्ट्रीय मीडिया में भी यह चुनाव चर्चा का विषय बना था। चिकमंगलूर से इंदिरा के 70,000 वोटों से जीतने के बावजूद बाद में यह कॉन्ग्रेस का गढ़ नहीं रहा। भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवारों ने यहाँ कई बार जीत का परचम लहराया। लेकिन, इतिहास में ये दर्ज हो गया कि जब इंदिरा गाँधी रायबरेली हार गईं, तब दक्षिण भारतीय राज्य के एक संसदीय क्षेत्र ने उन्हें वापस संसद पहुँचाया।

जब बेल्लारी में हुआ सोनिया बनाम सुषमा मुक़ाबला

इसी तरह जब सोनिया गाँधी ने पहली बार चुनाव लड़ा, तो उन्होंने अमेठी के साथ-साथ कर्नाटक के बेल्लारी से पर्चा भरा। उस समय सोनिया गाँधी के विदेशी मूल के होने के कारण उन्हें लेकर देश में विवादों का दौर चल रहा था। भाजपा की फायरब्रांड नेता रहीं सुषमा स्वराज ने तो यहाँ तक कह दिया था कि अगर सोनिया देश की प्रधानमंत्री बनती हैं तो वो अपना बाल मुँड़वा लेंगी। 1999 में कॉन्ग्रेस ने सोनिया गाँधी को 2 सीटों पर लड़ाने की सोची क्योंकि शायद उन्हें जनता के मूड का अंदाज़ा नहीं था और वे इस बात से निश्चिंत नहीं थे कि क्या भारत की जनता इतालवी मूल की महिला को नेता के रूप में स्वीकार करेगी? बेल्लारी में सोनिया को टक्कर देने ख़ुद सुषमा स्वराज पहुँचीं।

वहाँ 56,000 वोटों से हार-जीत का निर्णय हुआ और चूँकि सोनिया गाँधी ने अमेठी से भी जीत दर्ज की थी, उन्होंने बेल्लारी लोकसभा क्षेत्र को छोड़ दिया। बेल्लारी भी 2004 से 2018 तक भाजपा का गढ़ रहा। 2018 में हुए उपचुनाव में कॉन्ग्रेस ने पिछले 15 वर्षों में पहली बार इस सीट को फतह किया। उस समय भी कॉन्ग्रेस ने सेफ सीट के चक्कर में ही बेल्लारी को चुना था। सुषमा को वहाँ भेजे जाने के साथ ही सोनिया की एकतरफा जीत का सपना धरा का धरा रह गया था। इंडिया टुडे ने इसे ‘बहनजी बनाम बहूजी’ का नाम दिया था। एक तरफ बिंदी और भारतीय रीति-रिवाजों को मानने वाली सुषमा स्वराज थीं तो दूसरी तरफ विदेशी मूल की सोनिया गाँधी।

बेल्लारी को कॉन्ग्रेस के सबसे बड़े गढ़ों में से एक माना जाता था। इंदिरा गाँधी का जादू यहाँ सर चढ़ कर बोला करता था। फिर भी, सोनिया को यहाँ जीतने के लिए नाकों चने चबाने पड़े। कॉन्ग्रेस ने भाजपा को मूर्ख बनाने और सोनिया को आसान जीत दिलाने के लिए उनके दक्षिण भारत के किसी तीन में से एक सीट से लड़ने का अफवाह उड़ाया। सोनिया गाँधी को हैदराबाद ले जाया गया ताकि भाजपा को छला जा सके लेकिन उस समय हैदराबाद में बैठे वेंकैया नायडू को इसकी भनक लग गई कि सोनिया को बेल्लारी से लड़ाया जा रहा है। वहाँ एसपीजी की तैयारियों से भी भाजपा को बहुत कुछ पता चल गया।

सोनिया द्वारा कुडप्पा से लड़ने की स्थिति में भाजपा ने लोकप्रिय तेलुगु अभिनेत्री विजयशंति से चुनाव लड़ने की पेशकश की थी। आख़िरकार वाजपेयी की सहमति के बाद बेल्लारी से सुषमा स्वराज को लड़ने को कहा गया और उन्होंने अपनी सहमति भी दे दी। इस तरह डरी हुई कॉन्ग्रेस की तरफ से लड़ रही सोनिया गाँधी को भी दक्षिण भारत के एक संसदीय क्षेत्र ने जिताया और तमाम आशंकाओं के बावजूद उन्हें वहाँ से जीत मिली।

अब बारी हार के डर से जूझ रहे राहुल की

अब राहुल गाँधी ने अपनी मुश्किल राजनीतिक परिस्थितियों में केरल के वायनाड को चुना है। उनके इस निर्णय से केरल में राज कर रही वामपंथी सरकार भी नाराज़ हो गई है। मुख्यमंत्री विजयन और वामपंथी नेता प्रकाश करात ने राहुल के इस क़दम को पार्टी के ख़िलाफ़ लड़ाई माना है। आपको बता दें कि मुस्लिम मतों का यहाँ पर ख़ासा प्रभाव है और कॉन्ग्रेस को उम्मीद है कि मुस्लिमों का वोट राहुल गाँधी को जिताने के लिए काफ़ी होगा। केरल में राहुल गाँधी के कई भरोसेमंद बड़े नेता भी हैं जो अपनी कुशल मशीनरी के साथ उनकी इस सीट पर जीत सुनिश्चित करने के लिए मेहनत करेंगे ताकि राहुल देश के अन्य इलाक़ों में प्रचार कर सकें। इस पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि राहुल को ‘हार का डर’ है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, राहुल की उम्मीदवारी पर निर्णय से पहले कॉन्ग्रेस ने मुस्लिम लीग के नेताओं से भी बातचीत की ताकि मुस्लिमो मतों को अपनी तरफ किया जा सके। वाम नेता सीताराम येचुरी ने भी राहुल की मंशा पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि वो ऐसी भी सीट से लड़ सकते थे, जहाँ भाजपा से उनकी सीधी टक्कर हो। कॉन्ग्रेस इस क्षेत्र में बढ़ी माओवादी घटनाओं को लेकर राज्य और केंद्र सरकारों पर निशाना साधेगी ताकि यहाँ वोट बटोरे जा सकें। कुल मिलकर यह कि कॉन्ग्रेस जब-जब मुश्किल में होती है, अपने सुप्रीम नेता के लिए दक्षिण भारत में एक सेफ पैसेज खोजती है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

ये पढ़ना का भूलें

लिबरल गिरोह दोबारा सक्रिय, EVM पर लगातार फैला रहा है अफवाह, EC दे रही करारा जवाब

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

जाकिर मूसा

वर्तमान गर्लफ्रेंड से मिलने गया था Alt News का ‘अलगाववादी’ जाकिर मूसा, भूतपूर्व गर्लफ्रेंड ने मरवा दिया

जाकिर मूसा कुत्ते की मौत मरने से पहले एनकाउंटर वाले दिन अपनी दूसरी प्रेमिका से मिलने आया था और यही बात उसकी पहली प्रेमिका को पसंद नहीं आई। इसी वजह से भूतपूर्व प्रेमिका ने जज्बाती होकर सुरक्षाबलों से मुखबिरी कर दी और मूसा कुत्ते की मौत मारा गया।
स्मृति ईरानी

उम्मीद है कि वाड्रा मैडम जान गई होंगी कि ‘Who is Smriti Irani’

प्रियंका गाँधी अक्सर ईरानी पर यह आरोप लगाती थी कि वो एक बाहरी व्यक्ति हैं और उन्हें अमेठी के मतदाताओं की कोई परवाह नहीं है। उनके इन बेबुनियादी आरोपों का जवाब, राहुल को न चुनकर स्मृति को चुनकर जनता ने ख़ुद ही दे दिया।
अखिलेश यादव

निराशाजनक हार के बाद टोंटी-चोर अखिलेश यादव की बड़ी कार्रवाई, सभी प्रवक्ताओं की हुई छुट्टी

लोकसभा चुनाव में न केवल जातीय गणित फेल हुआ है, बल्कि वंशवादी राजनीति को भी भारी झटका लगा है। राजनीतिक परिवार से आने वाले अधिकांश उम्मीदवारों को इस बार हार का सामना करना पड़ा है।
अलका लाम्बा

AAP ने अलका लाम्बा को किया व्हाट्सएप्प ग्रुप से पदच्युत, जोड़ने-निकालने पर अलका ने किए मार्मिक ट्वीट

घमंड वाली बात से ही अरविन्द केजरीवाल 'ट्रिगर' हो गए और उनके हारे हुए प्रत्याशियों ने उनके इशारे पर अलका लाम्बा को ग्रुप से बाहर कर दिया। इसके बाद आज अलका लाम्बा ने कुछ और बेहद करुणामय और मार्मिक ट्वीट के माध्यम से अपनी बात सामने रखते हुए लिखा है कि बार-बार व्हाट्सएप्प ग्रुप में जोड़ने-निकालने से बेहतर होता इससे ऊपर उठकर कुछ सोचते, बुलाते, बात करते, गलतियों और कमियों पर चर्चा करते, सुधार कर के आगे बढ़ते।
मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव

पिता की बात मान लेते अखिलेश तो 5 सीटों पर नहीं सिमटना पड़ता

बसपा से गठबंधन होने के बाद सपा के पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने अपनी नाराज़गी जाहिर की थी। उनका कहना था कि उनके बेटे अखिलेश ने उनसे बिना पूछे ये कदम उठाया।

AltNews वालो, ज़ाकिर मूसा ‘अलगाववादी’ नहीं, आतंकी था जो इस्लामी ख़िलाफ़त चाहता था

एक आतंकवादी संगठन के सरगना को अलगाववादी नेता कहना न केवल भ्रम फैलाने जैसा है, बल्कि आतंकवादियों द्वारा मानवता पर किए गए क्रूर अत्याचारों पर पर्दा डालने के भी समान है, जो किसी अपराध से कम नहीं।
स्वरा भास्कर

वो सब हार गए जिनके लिए स्वरा भास्कर ने लिए थे नए साड़ी-ब्लाउज़, ट्विटर पर लोगों ने कहा- ‘पनौती’

स्वरा भास्कर उन लोगों में शामिल हैं जिन्होंने भाजपा को सत्ता से हटाने से लिए विपक्षी नेताओ के लिए कैंपेनिंग की थी। लेकिन मोदी लहर के आगे उनका जलवा नहीं चल पाया। वो सभी कैंडिडेट्स रुझानों में भाजपा नेताओं से पिछड़ते नजर आए, जिनकी कैम्पेनिंग करने के लिए स्वरा ने...
दि प्रिंट और दीपक कल्लाल

सेक्स ही सेक्स… भाई साहब आप देखते किधर हैं, दि प्रिंट का सेक्सी आर्टिकल इधर है

बढ़ते कम्पटीशन के दौर में सर्वाइवल और नाम का भार ढोते इन पोर्टलों के पास नग्नता और वैचारिक नकारात्मकता के अलावा फर्जीवाड़ा और सेक्स ही बचता है जिसे हर तरह की जनता पढ़ती है। लल्लनपॉट यूनिवर्सिटी से समाज शास्त्र में पीएचडी करने वाले ही ऐसा लिख सकते हैं।
राहुल गाँधी

Fact Check: राहुल गाँधी ने साढ़े 8 लाख वोट से जीतकर 542 सीटों में सबसे बड़ी जीत का रिकॉर्ड बनाया?

जनता कॉन्ग्रेस और उसके अध्यक्ष राहुल गाँधी को खदेड़कर भगा चुकी है, लेकिन लग ये रहा है कि जनता के सन्देश को कॉन्ग्रेस अभी भी स्वीकार कर पाने में असमर्थ है। इसीलिए अभी भी कॉन्ग्रेस की आई टी सेल और व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी अपने युवराज को मसीहा बनाने के कार्यक्रम में तत्परता से जुटी हुई है।
राहुल गाँधी

राहुल गाँधी ने दोहराया इतिहास, 2014 के बाद 2019 में फिर हुआ उनका इस्तीफा नामंजूर

एक बार फिर कॉन्ग्रेस में वर्ष 2014 की ही तरह इस्तीफ़ा देने और अस्वीकार कर दिए जाने का शिष्टाचार निभाया गया है। कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी द्वारा कॉन्ग्रेस कार्यकारिणी समिति को इस्तीफ़ा को इस्तीफ़ा सौंपा गया और कमेटी द्वारा इसे नामंजूर कर दिया गया है।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

42,285फैंसलाइक करें
8,048फॉलोवर्सफॉलो करें
65,111सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: