राहुल और हथियार दलाल के ख़ुलासे को बौखलाए मीडिया गिरोह ने दबाया, चलाई बेकार और बकवास ख़बरें, देखें सैम्पल

कॉन्ग्रेस अध्यक्ष का हथियार दलालों से संबंधों का ख़ुलासा। प्रतिद्वंद्वी पार्टी के तीन बड़े मंत्रियों द्वारा राहुल-वाड्रा नेक्सस का घेरा जाना और PM का समर्थन करना... एक दिन में इतना कुछ हो गया लेकिन मीडिया गिरोह रावण और ट्विटर की डीपी पर टिका रहा!!!

ऑपइंडिया ने बुधवार (मार्च 13, 2019) को राहुल गाँधी और हथियार दलाल संजय भंडारी के बीच क़रीबी संबंधों का ख़ुलासा कर बताया था कि कैसे कॉन्ग्रेस अध्यक्ष ने हसनपुर, पलवल में 6.5 एकड़ ज़मीन ख़रीदी थी। भंडारी रॉबर्ट वाड्रा का ख़ास आदमी है। उस ख़ुलासे में इसके अलावा अन्य रक्षा दलालों एचएल पाहवा और सीसी थम्पी के साथ उनके संबंधों को लेकर भी सबूत पेश किए गए। ख़बर का असर काफ़ी दूर तक हुआ और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर राहुल गाँधी से जवाब माँगा। रिपब्लिक भारत ने इस ख़बर को प्रमुखता से चलाई और केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ सहित अन्य भाजपा नेताओं ने जीजा-साले की इस हेराफेरी के आधार पर राहुल को घेरा। वित्त मंत्री और कद्दावर नेता अरुण जेटली ने ब्लॉग लिख कर कॉन्ग्रेस की करतूतों को जनता के सामने रखा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी बात का समर्थन किया। एक दिन में इतना कुछ हो गया लेकिन कुछ लोग ऐसे भी थे, जिन्हे साँप सूंघ गया था।

कुछ मुट्ठी भर लोग ऐसे भी थे जो हतप्रभ थे कि आख़िर चल क्या रहा है? तैमूर की लंगोट गीली होने की ख़बर को प्रमुखता से चलाने वाले इस गिरोह विशेष ने राहुल गाँधी, संजय, भंडारी, एचएल पाहवा और सीसी थम्पी के क़रीबी संबंधों वाले ख़ुलासे को ऐसे नज़रअंदाज़ किया, जैसे कुछ हुआ ही न हो। भाजपा के ग्राम प्रधान के साले के ससुर के किसी बयान को उठा कर भाजपा के झूठ के रूप में प्रचारित कर एक-एक घंटे का शो कर लेने वाली तथाकथित पत्रकारों की इस जमात ने भ्रष्टाचार, वित्तीय हेराफेरी, अवैध करार से सम्बंधित इस ख़बर को तवज्जोह ही न दी। अपनी नई ‘कुलदेवी’ प्रियंका गाँधी की आराधना में व्यस्त इन डिजाइनर पत्रकारों ने इस ख़बर को कहीं भी स्थान नहीं दिया। उलटा उन्होंने इसे ढकने की भरपूर कोशिश की। अगर आप इनकी करतूतों को देखेंगे तो आप भी अपनी हँसी नहीं रोक पाएँगे। इसकी कुछ बानगी आपको नीचे दिख जाएगी।

सबसे पहले बात शुरू करते हैं लेखक, विचारक, दार्शनिक, समाचार एंकर, पत्रकार, भविष्यवक्ता और समाजसेवी रवीश कुमार से। सुदूर किसी गाँव के छोटे से जंगल में एक बिजली खम्भे में जंग लगने पर एक घंटे का प्राइम टाइम करने वाले रवीश ने कल राहुल गाँधी के पोल-खोल को दरकिनार करते हुए चंद्रशेखर आजाद की बात की। अब आप सोच रहे होंगे कि ये तो अच्छी बात है कि रवीश अब स्वतंत्रता सेनानियों के गुण गा रहे हैं। लेकिन यहाँ पेंच है। जरा ठहरिए। ये वो वाले चंद्रशेखर आजाद नहीं हैं। ये ‘चंद्रशेखर आजाद रावण’ है, जो एक वर्ष से भी अधिक जेल में रह कर बाहर निकला है। राष्ट्रीय सुरक्षा एक्ट के तहत आरोपित आजाद सहारनपुर में दंगा भड़काने के लिए कुख्यात है। भीम आर्मी के अध्यक्ष आजाद को उभरता हुआ दलित नेता बता कर रवीश ने उसके गुणगान में कसीदे पढ़े और अपने चैनल पर राहुल गाँधी वाली ख़बर को चालाकी से छिपाया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

‘बिहारी’ रवीश कुमार ने राहुल गाँधी द्वारा यूपी-बिहार के लिए कहे गए अपमानजनक शब्दों को भी अपने प्राइम टाइम को कोई स्थान नहीं दिया। उलटा राहुल गाँधी को बेबाक नेता की तरह पेश करते हुए बताया गया कि देखिए कैसे उन्होंने परिपक्वता से हर एक सवाल का जवाब दिया। कुल मिला कर इस प्राइम टाइम में वो सब कुछ था जिस से असली मुद्दे को छिपाने की कोशिश की जाए। इसमें राहुल तो थे पर भंडारी नहीं था, इसमें प्रियंका तो थी पर वाड्रा नहीं थे, इसमें आजाद तो था लेकिन पाहवा और थम्पी नहीं थे, इसमें राजनीति तो थी पर कॉन्ग्रेस की करतूतों का जिक्र नहीं था।

रवीश ने राहुल गाँधी को बचाने के लिए ढूँढा नया मसीहा

उधर फेक न्यूज़ में दक्ष ‘द वायर’ का तो कहना ही क्या। उसने तो प्रियंका गाँधी को घृणा की हवा के ख़िलाफ़ प्रेम की आँधी बता कर उनकी सफलता की कामना करने वाली ओपिनियन पीस को भ्रष्टाचार के मुद्दे के ऊपर प्राथमिकता दी। प्रियंका गाँधी की डिक्शनरी को समझाते हुए इस रिपोर्ट में उन्हें राष्ट्रप्रेम की प्रतिमूर्ति दर्शाया गया। पोर्टल अभी तक ज़ोया अख्तर की अमेज़न सीरीज, नोटबंदी के कथित घाटे इत्यादि पर ही अटका पड़ा है। वायर के सौतेले भाई ‘द क्विंट’ की बात करें तो उसने आमिर खान, राफेल, योगेंद्र यादव के चुनाव आयोग से सवाल, इन्हीं चीजों को प्राथमिकता दी और राहुल गाँधी-संजय भंडारी के रिश्तों के बारे में कुछ भी नहीं कहा। क्विंट और वायर के बुआ के बेटे स्क्रॉल ने तो दो क़दम और आगे बढ़ कर प्रियंका गाँधी की ट्विटर प्रोफाइल पिक्चर को अपनी हेडलाइन बना दिया। स्क्रॉल ने प्रियंका गाँधी द्वारा ट्विटर प्रोफाइल पिक्चर बदलने को एक बड़ी बहस की चिंगारी कहा।

जींस और और टॉप पर अटका पड़ा है स्क्रॉल

ये सोचनीय है कि अगर कोई राजनेता या राजनेत्री (जिसकी अभी-अभी राजनीति में एंट्री हुई है) अपनी डीपी बदल ले तो उसे एक बड़ी बहस का आधार बता दिया जाता है। लेकिन, देश की पुरानी पार्टी के अध्यक्ष के रक्षा दलालों के साथ क़रीबी सम्बन्ध होने की बात सामने आती है तो उसे दबा दिया जाता है। ये आज का मीडिया है। प्रियंका गाँधी ने जीन्स पहन रखी है और अगर ट्विटर पर किसी ने कह दिया कि ये रिफ्रेशिंग है तो ये उनके लिए सबसे बड़ी ख़बर बन जाती है। अब कोई राजनेता जीन्स टॉप पहने या कुर्ता-पाजामा, मीडिया वालों के लिए ये चुनावी मुद्दा है और इसी आधार पर राजनेताओं की विश्वसनीयता तय की जाएगी। भ्रष्टाचार उनके लिए बस एन राम द्वारा लिखे बिना सिर-पैर के लेखों तक ही सीमित है। ऐसे लेख, जिसमें तथ्यों को घुमा-फिरा कर पाठक को एक भूल-भुलैया में ऐसा उलझाया जाता है, जैसे कि वो कोई अर्थशास्त्र की पुस्तक पढ़ रहा हो।

आख़िर क्या कारण है कि जिस ख़बर पर विश्व की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, रिपब्लिक भारत जैसे बड़े चैनल पर बहस चली, राहुल गाँधी द्वारा इस से जुड़े सवालों को दरकिनार कर दिया गया लेकिन मीडिया के इस वर्ग विशेष के कानों में जूँ तक न रेंगी। गिरोह ने जिस तरह इतनी आसानी से इस ख़बर को दरकिनार किया और अलूल-जलूल ख़बरों को प्रकाशित कर इसे दबाने की कोशिश की, उसे लगा कि लोगों को कुछ भी पता नहीं चलेगा। लेकिन ऐसा नहीं है। दक्षिणपंथियों को बेवकूफ, अनपढ़ और अज्ञानी दिखाने के चक्कर में सर्फ एक्सेल और माइक्रोसॉफ्ट एस्केल को लेकर ख़बरें बनाने वाली मीडिया के इस जमात की पोल अब खुल चुकी है। जनता जागरूक है, इनके कुटील प्रयासों को देख रही है और समझ भी रही है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

हम 'हिन्दू होमलैंड' इज़राइल की तर्ज पर बना सकते हैं, जहाँ हर नागरिक के अधिकार समान होंगे, लेकिन प्रताड़ित हिन्दुओं के लिए हिंदुस्तान 'होमलैंड' दे सकता है।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

हरीश जाटव

दलित युवक की बाइक से मुस्लिम महिला को लगी टक्कर, उमर ने इतना मारा कि हो गई मौत

हरीश जाटव मंगलवार को अलवर जिले के चौपांकी थाना इलाके में फसला गाँव से गुजर रहा था। इसी दौरान उसकी बाइक से हकीमन नाम की महिला को टक्कर लग गई। जिसके बाद वहाँ मौजूद भीड़ ने उसे पकड़कर बुरी तरह पीटा।
मोहम्मद अंसारी

गाय से दुष्कर्म के आरोपित को पकड़वाने वाले कार्यकर्त्ता गिरफ्तार, ‘धार्मिक भावना आहत करने’ का आरोप

अभि, सुशांत और प्रज्वल के खिलाफ 'धार्मिक भावनाओं को आहत' करने के साथ ही अन्य मामलों में केस दर्ज किया गया है। इन तीनों ने ही गाँव के लोगों के साथ मिलकर अंसारी को गाय से दुष्कर्म करते हुए रंगे हाथ पकड़ा था।
गाय, दुष्कर्म, मोहम्मद अंसारी, गिरफ्तार

गाय के पैर बाँध मो. अंसारी ने किया दुष्कर्म, नारियल तेल के साथ गाँव वालों ने रंगे हाथ पकड़ा: देखें Video

गुस्साए गाँव वालों ने अंसारी से गाय के पाँव छूकर माफी माँगने को कहा, लेकिन जैसे ही अंसारी वहाँ पहुँचा, गाय उसे देखकर डर गई और वहाँ से भाग गई। गाय की व्यथा देखकर गाँव वाले उससे बोले, "ये भाग रही है क्योंकि ये तुमसे डर गई। उसे लग रहा है कि तुम वही सब करने दोबारा आए हो।"
मोहसिन अब्बास हैदर

कई बार लात मारी, चेहरे पर मुक्के मारे: एक्टर मोहसिन अब्बास हैदर की पत्नी ने लगाए गंभीर आरोप

“जब मैं अस्पताल में कराह रही थी तब मेरा मशहूर पति अपनी गर्लफ्रेंड के साथ सो रहा था। 2 दिन बाद केवल दिखावे और प्रचार के लिए वो अस्पताल आया, बच्चे के साथ फोटो ली और फिर उसे पोस्ट कर दिया। उसे बच्चे की फिक्र नहीं थी। वह केवल प्रचार करना चाहता था।”
ये कैसा दमा?

प्रियंका चोपड़ा का अस्थमा सिगरेट से नहीं, केवल दिवाली से उभरता है?

पिछले साल दिवाली के पहले प्रियंका चोपड़ा का वीडियो आया था- जिसमें वह जानवरों, प्रदूषण, और अपने दमे का हवाला देकर लोगों से दिवाली नहीं मनाने की अपील की थी। लेकिन इस 'मार्मिक' अपील के एक महीने के भीतर उनकी शादी में पटाखों का इस्तेमाल जमकर हुआ।
प्रेम विवाह

मुस्लिम युवती से शादी करने वाले हिन्दू लड़के पर धर्म परिवर्तन का दबाव, जिंदा जलाने की धमकी

आरजू अपने पति अमित के साथ एसपी से मिलने पहुँची थी। उसने बताया कि उन दोनों ने पिछले दिनों भागकर शादी की थी। कुछ दिन बाद जब इसकी भनक ग्रामीणों को लगी तो उन्होंने लड़के और उसके परिवार को मारपीट करके गाँव से निकाल दिया।
राजनीतिक अवसरवादिता

जिस हत्याकाण्ड का आज शोक मना रहीं ममता, उसी के ज़िम्मेदार को भेजा राज्य सभा!

हत्यकाण्ड के वक्त प्रदेश के गृह सचिव रहे गुप्ता ने तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के पीएमओ को जवाब देते हुए ममता बनर्जी के आरोपों को तथ्यहीन बताया था।
अरुप हलधर

राष्ट्रगान के दौरान ‘अल्लाहु अकबर’ का विरोध करने पर रफीकुल और अशफुल ने 9वीं के छात्र अरुप को पीटा

इससे पहले 11 जुलाई 2019 को पश्चिम बंगाल के हावड़ा स्थित श्री रामकृष्ण शिक्षालय नामक स्कूल में पहली कक्षा में पढ़ने वाले छात्र आर्यन सिंह की शिक्षक ने क्लास में 'जय श्री राम' बोलने पर बेरहमी से पिटाई कर दी थी।
भाजपा नेता

गाजियाबाद में भाजपा नेता की हत्या, शाहरुख़ और तसनीम गिरफ्तार

तोमर जहाँ गोलियाँ मारी गई वहां से पुलिस स्टेशन से मात्र 50 मीटर की दूरी पर है। एसएचओ प्रवीण शर्मा को निलंबित कर दिया गया है।
मुजफ्फरनगर दंगा

मुजफ्फरनगर दंगा: अखिलेश ने किए थे हिंदुओं पर 40 केस, मुस्लिमों पर 1, सारे हिंदू बरी

हत्या से जुड़े 10, सामूहिक बलात्कार के 4 और दंगों के 26 मामलों के आरोपितों को अदालत ने बेगुनाह माना। सरकारी वकील के हवाले से बताया गया है कि अदालत में गवाहों के मुकरने के बाद अब राज्य सरकार रिहा आरोपितों के संबंध में कोई अपील नहीं करेगी।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

57,816फैंसलाइक करें
9,859फॉलोवर्सफॉलो करें
74,910सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: