Saturday, March 6, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे प्रिय अमर्त्य सेन जी, मजहबी नारा पढ़कर हत्या करने वालों पर आपके नोबल विचारों...

प्रिय अमर्त्य सेन जी, मजहबी नारा पढ़कर हत्या करने वालों पर आपके नोबल विचारों का सबको इंतजार है

जब आप छींकते भी हैं तो वो महज आप नहीं छींकते, बल्कि नोबेल पुरस्कार से सम्मानित आदमी छींकता है। इसलिए उस पुरस्कार का लिहाज तो कीजिए। आपने कहा कि आपके विचार से, राम का बंगाल की संस्कृति से कोई लेना-देना नहीं है। जबकि राम न होते तो बंगाल में दुर्गा पूजा ही नहीं होती।

नोबेल पुरस्कार मिलने के बाद से अमर्त्य सेन अमूमन वाहियात बातें बोलने के लिए ही चर्चा में आते हैं। नालंदा विश्वविद्यालय के कुलपति के नाम पर इन्होंने जो-जो कांड किए, उसके लिए भी इन्हें याद किया जाता है। लेकिन जब-जब लोग इनके विचित्र बयानों को भूलने लगते हैं, इनका नया बयान तुरंत आ जाता है।

हाल ही में उन्होंने बताया कि ‘जय श्री राम’ के नारे का बंगाल से कोई लेना-देना नहीं है क्योंकि उनकी चार साल की पोती की फ़ेवरेट देवी तो दुर्गा हैं। अपनी उम्र का एक बड़ा हिस्सा बंगाल और भारत से अलग बिताने के कारण, सेन साहब शायद भूल रहे हैं कि बंगाल में देवी दुर्गा की पूजा की शुरुआत भी तब से हुई जब से कृत्तिवासी रामायण में राम की शक्तिपूजा का संदर्भ आता है। वही रामायण और रचनाकार जिनसे वो व्यक्ति (टैगोर) भी प्रभावित थे जिन्होंने अमर्त्य सेन को उनका नाम दिया था। कृत्तिवासी ओझा ने बाल्मीकि रामायण का बंगाली अनुवाद किया था और तुलसीदास तक उनकी कृति से प्रभावित थे। यही बकवास प्रीतिश नंदी ने भी की थी तब बंगाल में राम के महत्व और ऐतिहासिकता पर एक लेख हमने लिखा था, जो कि यहाँ पढ़ा जा सकता है।

आजकल लिबरल गिरोह, जिसके सेन साहब एक जानेमाने हस्ताक्षर हैं, ‘जय श्री राम’ के नारे से समस्या पाले बैठा है। कुछ दिनों पहले इसी नारे के फ़ालतू नैरेटिव के नाम पर कि ‘गली में एक समुदाय विशेष के शख्स को ‘जय श्री राम’ न बोलने पर हिन्दुओं ने मार डाला’, इस्लामी भीड़ इकट्ठा की गई और दुर्गा का मंदिर तोड़ दिया गया। ये वही दुर्गा हैं जो सेन साहब की पोती की फ़ेवरेट देवी हैं। अमर्त्य सेन ने इस पर कुछ बयान नहीं दिया क्योंकि ये उन्हें सूट नहीं करता होगा।

अमर्त्य सेन यह भूल जाते हैं कि ‘जय श्री राम’ का नारा भले ही किसी की जान न ले रहा हो, लेकिन उनके गिरोह के सदस्यों द्वारा इस नैरेटिव की हवाबाज़ी के कारण भीड़ इकट्ठा हो रही है, मंदिर तोड़ रही है, पुलिस के ऊपर हमला बोल रही है। कल ही सूरत में इसी नैरेटिव के दम पर, बिना प्राशसनिक अनुमति के समुदाय विशेष की एक भीड़ निकली और पुलिस पर हमला किया। पाँच पुलिसकर्मी घायल हुए, उनकी गाड़ियों में आग लगा दिया गया। अब अमर्त्य सेन ही बता दें कि इसको जलाते वक्त, पुलिस पर पत्थरबाज़ी के वक्त कौन सा नारा लगाया जा रहा होगा। उनको बोलने में परेशानी होगी क्योंकि वो नारा ‘जय श्री राम’ का तो बिलकुल नहीं था।

सेन साहब आप डेमोनाइज करते रहिए एक नारे को क्योंकि ये आपके गैंग के नैरेटिव को सूट करता है। लेकिन आप यह मत भूलिए कि आप जो कर रहे हैं वो बहुत घातक है। आप एक आग लगा रहे हैं फर्जी बातें फैला कर। आपके जैसे लोगों ने भीड़ों के हाथ में आहत होकर लड़ने का हथियार दे दिया है जो चंद मिनटों में कहीं भी इकट्ठा हो रही है और मंदिर तोड़ने से लेकर किसी की जान तक लेने को उतारू हो जाती है। दंगाइयों को अपनी हवाबाज़ी के माध्यम से लेजिटिमेसी मत दीजिए।

जब आप छींकते भी हैं तो वो महज आप नहीं छींकते, बल्कि नोबेल पुरस्कार से सम्मानित आदमी छींकता है। इसलिए जब आप कुछ भी कहते हैं तो उस पुरस्कार का लिहाज तो कीजिए। आपने कहा कि आपके विचार से, राम का बंगाल की संस्कृति से कोई लेना-देना नहीं है। आपने कहा है, और भले ही आपको समाज शास्त्र, इतिहास या इंडोलॉजी के लिए नोबेल नहीं मिला है लेकिन आम जनता तो यही मानेगी कि सेन साहब ने कहा है तो सच ही कह रहे होंगे, पढ़े-लिखे आदमी हैं।

आज कल पढ़े-लिखे लोग आम जनता की इसी अनभिज्ञता का फायदा उठा कर अपनी धूर्तता से तथ्यों को अपने हिसाब से, ‘मेरे विचार से’ कह कर मोड़ लेते हैं। शोध के छात्र और अब प्रोफेसर बने सेन साहब को ये तो मालूम होगा कि किसी भी चीज को ‘सामान्यीकृत’ करने से पहले उस हिसाब से साक्ष्य या आँकड़े भी तो होने चाहिए। आपने दस ख़बरें सुनी या फिर आपके गैंग के लोगों ने जितनी बार ट्वीट किया, आपको लगा कि हर बार अलग घटना के बारे में कहा जा रहा है, और आप उसे ही आधार बना कर यह कह दिया कि आजकल इसका प्रयोग तो लोगों को पीटने के लिए बहाने के तौर पर इस्तेमाल होता है। ये ‘आजकल’ वाली बारम्बारता की दर कितनी है सेन साहब? उसमें भी पता चलता है कि दोनों एक मजहब वाले लोग ही एक दूसरे को वीडियो बनाने के लिए ‘जय श्री राम’ बुलवाते हैं ताकि आपके जैसों की दुकान चलती रहे।

अमर्त्य सेन साहब ने आगे कहा कि आजकल कोलकाता में रामनवमी ज्यादा मनाया जाता है जो उन्हें पहले देखने को नहीं मिलता था। सही बात है। आजकल जो हो रहा है, वो गलत क्यों है, कैसे है? दुर्गापूजा भी बंगाल में आदमी के बसते ही शुरु नहीं हुई थी। वो भी एक रामभक्त ने ही शुरु की थी। उसी तरह रामनवमी भी अगर पहले नहीं होती थी, जो कि स्वयं में एक झूठ है, तो अब होने में क्या समस्या है? ‘जय श्री राम’ बोल कर कोई देह में बम बाँध कर फट तो नहीं रहा। अगर एक त्योहार शुरु हो रहा है तो आपके पेट में मरोड़ें क्यों उठ रही हैं? आप ‘समय’ तो हैं नहीं कि आपके पैदा होने के साथ जो था वही सही और शाश्वत है, और बुढ़ापे में जो दिख रहा है वो ब्लासफेमी हो जाएगा!

सेन साहब नारा तो एक और है जिससे भारत नहीं पूरा विश्व परेशान है। वो नारा ‘जय श्री राम’ का नहीं है। आप दिमाग पर ज़ोर डालिएगा तो भी आपको याद नहीं आएगा क्योंकि वो आपके सिस्टम में है ही नहीं। वो आपने फ़ायरवाल से रोक रखा है। वो नारा न तो आपको सुनाई देता है, न ही उसके नाम पर होने वाली घटनाओं की खबर आप तक पहुँचती है, न ही आप उसे सुनना चाहते हैं।

वो नारा है ‘अल्लाहु अकबर’ का। इस नारे को चिल्लाती भीड़ मंदिर तोड़ती है, मॉब लिंचिंग करती है। इसे बुलंद आवाज में बोलते हुए बम धमाके किए जाते हैं, आत्मघाती विस्फोट होते हैं। इस नारे को चिल्लाते हुए हिंसा करने वाले पूरे विश्व के लिए एक कैंसर बन चुके हैं। यूरोप का हर बड़ा शहर इनके आतंकी दस्तखत से दहल चुका है। भारत के एक बड़े हिस्से में इसका आतंक बरक़रार है। अमेरिका से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक इस नारे से लड़ रहा है क्योंकि लोन वुल्फ़ हमले से लेकर सुसाइड बॉम्बिंग तक आम हो गई है।

लेकिन आपकी मति यहाँ भ्रष्ट हो जाती है। आपकी औकात नहीं है किसी भी पब्लिक स्टेज पर यह बोलने की कि ‘मजहबी नारे’ का प्रयोग आतंकी हमलों के लिए किया जाता है। एक तरफ हजारों लोगों की हत्या का ज़िम्मेदार एक नारा है, दूसरी तरफ आपके पास बस इतना है कहने को कि आजकल इस नारे का प्रयोग लोगों को पीटने के लिए किया जा रहा है। पीटने के लिए उपयोग किए गए नारे में और काले झंडे पर लिख कर, अपने आत्मघाती हमले या टेरर अटैक के पहले लिखे पोस्ट या वीडियो में बोले जाने वाले नारे में ‘पीटने’ और ‘कई लोगों की जान ले लेने’ जितना का अंतर है।

आप तो ज्ञानी आदमी हैं। आपके लिए किसी को पीटना ज्यादा दुखदायी है, जान ले लेना तो दुखों का अंत करना है। एक ही दिल है सेन साहब, कितना जहर उसमें लेकर घूम रहे हो!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वह शिक्षित है… 21 साल की उम्र में भटक गया था’: आरिब मजीद को बॉम्बे हाई कोर्ट ने दी बेल, ISIS के लिए सीरिया...

2014 में ISIS में शामिल होने के लिए सीरिया गया आरिब मजीद जेल से बाहर आ गया है। बॉम्बे हाई कोर्ट ने उसकी जमानत बरकरार रखी है।

अमेज़न पर आउट ऑफ स्टॉक हुई राहुल रौशन की किताब- ‘संघी हू नेवर वेंट टू अ शाखा’

राहुल रौशन ने हिंदुत्व को एक विचारधारा के रूप में क्यों विश्लेषित किया है? यह विश्लेषण करते हुए 'संघी' बनने की अपनी पेचीदा यात्रा को उन्होंने साझा किया है- अपनी किताब 'संघी हू नेवर वेंट टू अ शाखा' में…"

मुंबई पुलिस अफसर के संपर्क में था ‘एंटीलिया’ के बाहर मिले विस्फोटक लदे कार का मालिक: फडणवीस का दावा

मनसुख हिरेन ने लापता कार के बारे में पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी। आज उसी हिरेन को मुंबई में एक नाले में मृत पाया गया। जिससे यह पूरा मामला और भी संदिग्ध नजर आ रहा है।

कल्याणकारी योजनाओं में आबादी के हिसाब से मुस्लिमों की हिस्सेदारी ज्यादा: CM योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश में आबादी के अनुपात में मुसलमानों की कल्याणकारी योजनाओं में अधिक हिस्सेदारी है। यह बात सीएम योगी आदित्यनाथ ने कही है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘हिंदू भगाओ, रोहिंग्या-बांग्लादेशी बसाओ पैटर्न का हिस्सा है मालवणी’: 5 साल पहले थे 108 हिंदू परिवार, आज बचे हैं 7

मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढ़ा ने महाराष्ट्र विधानसभा में मालवणी में हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार का मसला उठाया है।

प्रचलित ख़बरें

16 महीने तक मौलवी ‘रोशन’ ने चेलों के साथ किया गैंगरेप: बेटे की कुर्बानी और 3 करोड़ के सोने से महिला का टूटा भ्रम

मौलवी पर आरोप है कि 16 माह तक इसने और इसके चेले ने एक महिला के साथ दुष्कर्म किया। उससे 45 लाख रुपए लूटे और उसके 10 साल के बेटे को...

‘मैं 25 की हूँ पर कभी सेक्स नहीं किया’: योग शिक्षिका से रेप की आरोपित LGBT एक्टिविस्ट ने खुद को बताया था असमर्थ

LGBT एक्टिविस्ट दिव्या दुरेजा पर हाल ही में एक योग शिक्षिका ने बलात्कार का आरोप लगाया है। दिव्या ने एक टेड टॉक के पेनिट्रेटिव सेक्स में असमर्थ बताया था।

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘जाकर मर, मौत की वीडियो भेज दियो’ – 70 मिनट की रिकॉर्डिंग, आत्महत्या से ठीक पहले आरिफ ने आयशा को ऐसे किया था मजबूर

अहमदाबाद पुलिस ने आयशा और आरिफ के बीच हुई बातचीत की कॉल रिकॉर्ड्स को एक्सेस किया। नदी में कूदने से पहले आरिफ से...

अंदर शाहिद-बाहर असलम, दिल्ली दंगों के आरोपित हिंदुओं को तिहाड़ में ही मारने की थी साजिश

हिंदू आरोपितों को मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने साजिश का पर्दाफाश करते हुए दो को गिरफ्तार किया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,958FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe