Friday, December 4, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे संविधान और शरीयत में से शरीयत को चुन चुका है शाहीन बाग़

संविधान और शरीयत में से शरीयत को चुन चुका है शाहीन बाग़

अगर सिर्फ सत्ता के विरोध के लिए 'फ़क़ हिंदुत्व' कहने वाली इस्लामिक विचारधारा के सामने ही अगर दूसरी भीड़ को खड़ा कर के 'फ़क़ *स्लाम' बुलवा दिया जाए, तो शार्ली हेब्दो जैसी घटना होते देर नहीं लगेगी।

जब देशभर में नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर का विरोध शुरू हुआ था, तब किसी ने यह शायद ही सोचा होगा कि कानून और सत्ता के विरोध के बहाने मजहबी घृणा और मजहबी प्रभुत्व की लड़ाई इतनी जल्दी अपने वास्तविक स्वरुप में आ जाएगी। शाहीन बाग़ में जो कुछ घट रहा है, या फिर घटित हो चुका है, वह भारत जैसे एक संवैधानिक देश में होते देखना निराश करने वाला है।

यदि इस पूरे CAA-NRC विरोध के घटनाक्रम पर नजर डालें तो हम देखते हैं कि नागरिकता संशोधन कानून की जगह यह पूरा विवाद ओवैसी द्वारा फैलाए गए डिटेंशन कैम्प और मीडिया गिरोहों की भ्रामक करतूतों से ही शुरू हुआ। मीडिया गिरोह में रवीश कुमार जैस बौद्धिक दैन्य पत्रकारों ने लोगों को डराने और उन्हें गुमराह करने में पूरी भूमिका निभाई।

रवीश कुमार और उनकी सेना ने तुरंत मोर्चा संभाला और उन्हें मानो अपने सदियों पुराने फासिज़्म के शगल पर चर्चा करने का बहाना ही मिल गया। फ़ौरन हायब्रिड कम्युनिस्ट फासिज़्म की ढपली उठाकर उसे बजाने लगे। प्राइम टाइम से लेकर उनकी सोशल मीडिया प्रोफाइल तक गैस चैंबर की ‘रूमानी’ शायरियों से भर दी गईं। बाकी बची हुई कसर पूरी करने के लिए उनके छोटे-बड़े स्क्रॉल, ऑल्ट न्यूज़ और दी क्विंट जैसे घातक दस्ते तो हैं ही।

इसके बाद शाहीन बाग़ मानो आज़ादी के इन फ़र्ज़ी चितेरों का मक्का बन गया। बुर्के और हिजाब में लोग अल्लाह हू अकबर और इस्लामिक नारे लगाते हुए इकट्ठे हुए। इस सबके बीच राजनीतिक विरोधी दल अपने वर्षों पुराने लक्ष्य में आधे कामयाब होते नजर आए। वर्ष 2014 के चुनाव के बाद से ही हमने देखा कि कॉन्ग्रेस जैसे विपक्षी दल जनता से खुद को सत्ता न सौंपने की भड़ास निकालते रहे। देश में जाति, धर्म आदि के नाम पर समय-समय पर दंगे करवाए गए। यह कहने में कोई अतिश्योक्ति नहीं है कि कॉन्ग्रेस इन दंगों को सरकार में न होने के बदले दंड के रूप में जनता को सौंपती है।

2014 से ही विपक्ष निरंतर यह चाहता रहा कि वह एक अनियंत्रित भीड़ को सत्ता के विरोध में सड़क पर लेकर आए। पहले किसानों के जरिए यह जोर आजमाया गया, फिर पुरस्कार वापसी गैंग को मैदान में उतरा गया। यही तरीका कश्मीर में अनुच्छेद 370 के निष्क्रीय किए जाने पर भी अपनाया गया। और भी ऐसे ही न जाने कितने तरीकों से सरकार विरोधी माहौल विपक्ष द्वारा तैयार किया गया। इस पूरे प्रकरण में सबसे दिलचस्प बात यह रही कि विरोधी हमेशा इस सरकार को संविधान को तोड़ने वाले और संविधान के प्रहरियों की लड़ाई के रूप में स्थापित करने का प्रयास करते हुए देखा गया।

लेकिन वास्तविकता आज बुरका पहनकर शाहीन बाग़ में अल्लाह हू अकबर के नारे लगाते हुए पत्रकारों की सामूहिक लिंचिंग कर रही है। शाहीन बाग़ कानून निर्माताओं द्वारा देश के सबसे पवित्र धर्मस्थल, संसद में बनाए गए कानून को प्राथमिकता देने के बजाए इस्लामिक नारे लगाते हुए जिहादियों की भाषा बोल रहा है। प्रोग्रेसिव लिबरल्स आज शाहीन बाग़ में अपनी विषैली मानसिकता के जहर को हवाओं में फेंकने के लिए आठ-दस साल के बच्चों तक को अपना हथियार बनाने से भी पीछे नहीं हट रहा है। सेकुलर शाहीन बाग़ आज ला इलाहा इल्लल्लाह और अल्हम्दुलिल्लाह का स्वर बोल रहा है, और क्योंकि यह स्वर क्रांतिजीवों, JNU-मतावलम्बियों के श्रीमुख से निकला है, इसलिए प्रोग्रेसिव लिबरल भी उनकी हाँ में हाँ मिलाता नजर आ रहा है।

शाहीन बाग़ की भीड़ कल तक इस देश को एक सीमाओं से बंधा देश मानने से इंकार करती थी, लेकिन आज वह यह साबित करते देखे जा रहे हैं कि इस देश की मिट्टी में उनका भी खून है। शाहीन बाग़ का शरजील भी आज द्वि-राष्ट्र सिद्धांत को समय से बहुत पहले कह देने वाले मुस्लिम धर्म सुधारक सर सैयद अहमद खान की भाषा बोल रहा है। वो शाहीन बाग़ की भीड़ से कह रहा है कि वो असम को भारत से काट देना चाहता है। इस सबके बीच सवाल बस यह है कि इस सबके बीच संविधान के रक्षक कौन नजर आ रहे हैं?

क्या इस भीड़ का नायक यह नव-द्विराष्ट्र सिद्धांत का प्रणेता शरजील है या, इसकी नेता नव-कम्युनिस्ट शेहला रशीद है, जो अल्हम्दुलिल्लाह कहकर जम्मू कश्मीर में राजनीति में कूदने के दाँव खेलकर सारे वामपंथी समाज को चकमा दे चुकी है? या फिर लालू प्रासाद यादव के पैर छूकर फासीवाद से लड़ने वाला मौकापरस्त कन्हैया कुमार इस भीड़ का नायक है? इसी भीड़ के लिए हरिशंकर परसाई कह गए थे कि तुम क्रांतिकारी नहीं, बल्कि तुम एक बुर्जुआ बौड़म हो।

आर्यों को विदेशी सिद्ध करने में ही अपनी सारी बौद्धिक शक्ति झोंक देने वाली इस शाहीन बाग़ की भीड़ को आज अगर संविधान निर्माता आकर यूनिफॉर्म सिविल कोड (UCC) और शरीयत का विकल्प दें, तो हम सब जानते हैं कि यह भीड़ क्या चुनने वाली है। हमारे देश में ही हमारे ही संविधान के विपरीत कुछ उतावले लोग खड़े होकर हिंदुत्व विरोधी नारे लगाते हुए अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता की भी दुहाई देते हैं। याद रखें कि यह भीड़ उन्हीं लोगों का झुण्ड है, जो यह मानता है कि राष्ट्रीय एकता और अखंडता की निष्ठा अपरिहार्य होना ‘हायपर नेशनलिज़्म’ है।

हम सब जानते हैं कि अगर सिर्फ सत्ता के विरोध के लिए ‘फ़क़ हिंदुत्व’ कहने वाली इस्लामिक विचारधारा के सामने ही अगर दूसरी भीड़ को खड़ा कर के ‘फ़क़ *स्लाम’ बुलवा दिया जाए, तो शार्ली हेब्दो जैसी घटना होते देर नहीं लगेगी। कौन ‘प्रोग्रेसिव क्रांतिबीज’ कब और कहाँ से फूट पड़ेगा, यह तय करना मुश्किल हो जाएगा। खुसर-पुसर तो इस बात को भी लेकर खूब हो रही है कि ‘प्रोग्रेसिव लिबरल्स’ की जुबान पर इस्लामिक नारों का इस तरह से खुलकर आना राम मंदिर के फैसले और कश्मीर में अनुच्छेद 370 को निष्क्रीय करने के बाद से उमड़ कर आ रहा है। लेकिन अफवाहों पर ध्यान नहीं दिया जाना चाहिए।

यह इस देश की सहिष्णुता ही है, जिसने हमेशा से शरणार्थियों से लेकर आतताइयों तक को भी सर आँखों पर बिठाए रखा और जो हम आज शाहीन बाग़ में देख रहे हैं वह इस सहिष्णुता का ही नतीजा है। CAA या NRC जरुरी है या नहीं लेकिन इस पूरे प्रकरण में कम से कम यह तो साबित हो ही चुका है कि इस देश का विचारक वर्ग देश के संविधान और इस्लामिक शरीयत कानून में से शरीयत को चुन चुका है। देखना अब यह बाकी है कि कानून के विरोध के नाम पर चल रहा यह देश विरोधी इस्लामिक एजेंडा अभी और कितनी करवटें लेता है।

‘हम असम को हिंदुस्तान से परमानेंटली काट देंगे’ – शाहीन बाग के ‘मास्टरमाइंड’ की खुलेआम धमकी, वीडियो Viral

सबसे बड़ा फासिस्ट था गाँधी, संविधान और कोर्ट मुस्लिमों का दुश्मन: शाहीन बाग़ का सपोला शरजील

शाहीन बाग में रवीश Vs दीपक चौरसिया: एक से याराना, दूसरे संग मारपीट – Video में प्रदर्शनकारियों का दोहरा चरित्र

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हैदराबाद में बीजेपी से ओवैसी पस्त: 4 साल में 12 गुना से ज्यादा बढ़ी सीटें, ट्रेंड में भाग्यनगर; कॉन्ग्रेस 2 पर सिमटी

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन चौंकाने वाला रहा है। AIMIM को बीजेपी ने तीसरे नंबर पर धकेल दिया है।

‘हर शुक्रवार पोर्क खाने को करते हैं मजबूर’: उइगरों के इलाकों को ‘सूअर का हब’ बना रहा है चीन

प्रताड़ना शिविर में रह चुकी उइगर महिलाओं ने दावा किया है कि चीन पोर्क खाने को मजबूर करता है। इनकार करने पर प्रताड़ित करता है।

‘इंदिरा सरकार के कारण देश छोड़ना पड़ा, पति ने दम तोड़ दिया’: आपातकाल के जख्म लेकर 94 साल की विधवा पहुँचीं सुप्रीम कोर्ट

आजाद भारत के इतिहास में आपातकाल का काला दौर आज भी लोगों की स्मृतियों से धुँधला नहीं हुआ है। यही वजह है कि 94 साल की विधवा वीरा सरीन 45 साल बाद इंसाफ माँगने सुप्रीम कोर्ट पहुँची हैं।

टेरर फंडिंग वाले विदेशी संगठनों से AIUDF के अजमल फाउंडेशन को मिले करोड़ों, असम में कॉन्ग्रेस की है साथी

LRO ने तुर्की, फिलिस्तीन और ब्रिटेन के उन इस्लामी आतंकी समूहों के नाम का खुलासा किया है, जिनसे अजमल फाउंडेशन को फंड मिला है।

हिजाब वाली पहली मॉडल का इस्लाम पर करियर कुर्बान, कहा- डेनिम पहनने के बाद खूब रोई; नमाज भी कई बार छोड़ी

23 वर्ष की हिजाब वाली मॉडल हलीमा अदन ने इस्लाम के लिए फैशन इंडस्ट्री को अलविदा कहने का फैसला किया है।

राहुल गाँधी की क्षमता पर शरद पवार ने फिर उठाए सवाल, कहा- उनमें निरंतरता की कमी, पर ओबामा को नहीं कहना चाहिए था

शरद पवार ने कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी की नेतृत्व क्षमता पर सवाल उठाते हुए कहा है कि उनमें 'निरंतरता' की कमी लगती है।

प्रचलित ख़बरें

‘ओ चमचे चल, तू जिनकी चाट के काम लेता है, मैं उनकी रोज बजाती हूँ’: कंगना और दिलजीत दोसांझ में ट्विटर पर छिड़ी जंग

कंगना ने दिलजीत को पालतू कहा, जिस पर दिलजीत ने कंगना से पूछा कि अगर काम करने से पालतू बनते हैं तो मालिकों की लिस्ट बहुत लंबी हो जाएगी।

जब नक्सलियों की ‘क्रांति के मार्ग’ में डिल्डो अपनी जगह बनाने लगता है तब हथियारों के साथ वाइब्रेटर भी पकड़ा जाता है

एक संघी ने कहा, "डिल्डो मिलने का मतलब वामपंथी न तो क्रांति कर पा रहे न वामपंथनों को संतुष्ट। कामपंथियों के बजाय रबर-यंत्र चुनने पर वामपंथनों को सलाम!"

एक ही परिवार के 3 भाइयों का शव बरामद, आँखें निकली हुईं: हत्या का आरोप लगा परिजनों ने मिर्जापुर में किया चक्का जाम

पुलिस अधीक्षक का कहना है कि लेहड़िया बंधी के पानी में तीन लड़कों का शव बरामद हुआ है। हत्या की आशंका जताई गई है, पोस्टमॉर्टम के लिए...

‘गुजराती कसम खा कर पलट जाते हैं, औरंगजेब की तरह BJP नेताओं की कब्रों पर थूकेंगे लोग’: क्रिकेटर युवराज सिंह के पिता की धमकी

जब उनसे पूछा गया कि इस 'किसान आंदोलन' में इंदिरा गाँधी की हत्या को याद कराते हुए पीएम मोदी को भी धमकी दी गई है, तो उन्होंने कहा कि जिसने जो बोया है, वो वही काटेगा।

‘स्टैचू ऑफ यूनिटी या ताजमहल?’ – स्टैचू ऑफ लिबर्टी से भी ज्यादा पर्यटकों के आँकड़े चिढ़ा रहे ध्रुव राठी को

यूट्यूब की जनता को एंगेज रखना है, खुद को वामपंथी ब्रिगेड की यूथ विंग का मुखिया साबित करना है तो यह सब करना ही पड़ेगा। सरकार को गाली...

15274 मौतें, एंडरसन, शहरयार… सुषमा स्वराज ने जब राहुल गाँधी से कहा- अपनी ममा से पूछें डैडी ने…

सन् 1984। ऑपरेशन ब्लू स्टार का साल। इंदिरा गॉंधी की हत्या का साल। सिखों के नरसंहार का साल। सबसे प्रचंड बहुमत से...

हैदराबाद में बीजेपी से ओवैसी पस्त: 4 साल में 12 गुना से ज्यादा बढ़ी सीटें, ट्रेंड में भाग्यनगर; कॉन्ग्रेस 2 पर सिमटी

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन चौंकाने वाला रहा है। AIMIM को बीजेपी ने तीसरे नंबर पर धकेल दिया है।

TV पर कंडोम और ‘लव ड्रग्स’ के विज्ञापन पॉर्न फिल्मों जैसे: मद्रास HC ने अश्लील एड को प्रसारित करने से किया मना

टीवी चैनलों पर अश्लील और आपत्तिजनक विज्ञापन दिखाने के मामले में मद्रास हाईकोर्ट ने अंतरिम आदेश पास किया है।

‘हर शुक्रवार पोर्क खाने को करते हैं मजबूर’: उइगरों के इलाकों को ‘सूअर का हब’ बना रहा है चीन

प्रताड़ना शिविर में रह चुकी उइगर महिलाओं ने दावा किया है कि चीन पोर्क खाने को मजबूर करता है। इनकार करने पर प्रताड़ित करता है।

फ्रांस में ED ने विजय माल्या की 1.6 मिलियन यूरो की संपत्ति जब्त की, किंगफिशर के अकाउंट से भेजा था पैसा

ED ने भगोड़े विजय माल्या के ख़िलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए फ्रांस में उसकी 1.6 मिलियन यूरो की प्रॉपर्टी जब्त की है।

‘तारक मेहता…’ के राइटर ने की आत्‍महत्‍या: परिवार ने कहा- उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे, हमें दे रहे हैं धमकी

'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के लेखक अभिषेक मकवाना ने आत्महत्या कर ली है। शव कांदि‍वली स्‍थ‍ित उनके फ्लैट से 27 नवंबर को मिला।

‘हमने MP और शाजापुर को शाहीन बाग बना दिया’: जमानत देते हुए अनवर से हाईकोर्ट ने कहा- जाकर काउंसलिंग करवाओ

सीएए-एनआरसी को लेकर भड़काऊ मैसेज भेजने वाले अनवर को बेल देते हुए मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने काउंसलिंग का आदेश दिया है।

भारत ने कनाडा के उच्चायुक्त को किया तलब, ‘किसानों के प्रदर्शन’ पर जस्टिन ट्रूडो ने की थी बयानबाजी

कनाडा के उच्चायुक्त को तलब कर भारत ने जस्टिन ट्रूडो और वहाँ के अन्य नेताओं की टिप्पणी को देश के आंतरिक मामलों में "अस्वीकार्य हस्तक्षेप" के समान बताया है।

‘इंदिरा सरकार के कारण देश छोड़ना पड़ा, पति ने दम तोड़ दिया’: आपातकाल के जख्म लेकर 94 साल की विधवा पहुँचीं सुप्रीम कोर्ट

आजाद भारत के इतिहास में आपातकाल का काला दौर आज भी लोगों की स्मृतियों से धुँधला नहीं हुआ है। यही वजह है कि 94 साल की विधवा वीरा सरीन 45 साल बाद इंसाफ माँगने सुप्रीम कोर्ट पहुँची हैं।

‘विरोध-प्रदर्शन से कोरोना भयावह होने का खतरा’: दिल्ली बॉर्डर से प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका

कोविड 19 महामारी के ख़तरे का हवाला देते हुए दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र की सीमा के नज़दीक से किसानों को हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है।

टेरर फंडिंग वाले विदेशी संगठनों से AIUDF के अजमल फाउंडेशन को मिले करोड़ों, असम में कॉन्ग्रेस की है साथी

LRO ने तुर्की, फिलिस्तीन और ब्रिटेन के उन इस्लामी आतंकी समूहों के नाम का खुलासा किया है, जिनसे अजमल फाउंडेशन को फंड मिला है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,530FollowersFollow
359,000SubscribersSubscribe