Wednesday, July 24, 2024
Homeराजनीति'कहो अशोक गहलोत जिंदाबाद, राहुल-सोनिया गाँधी मुर्दाबाद' : राजस्थान में कॉन्ग्रेस नेता ने मंच...

‘कहो अशोक गहलोत जिंदाबाद, राहुल-सोनिया गाँधी मुर्दाबाद’ : राजस्थान में कॉन्ग्रेस नेता ने मंच से लगवाए नारे, Video वायरल

बाबूलाल नागर ने समर्थकों को चुप करवाते हुए कहा,"आप सब लोग सुनें, बोलना है कॉन्ग्रेस पार्टी और अशोक गहलोत जिंदाबाद, राहुल सोनिया गाँधी मुर्दाबाद।" इस दौरान मंच पर उनके पीछे ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मौजूद थे।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सलाहकार और राजस्थान की दूदू विधानसभा से प्रत्याशी बाबूलाल नागर ने मंच से राहुल गाँधी सोनिया गाँधी मुर्दाबाद के नारे लगवाए हैं। यह पूरा वाकया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मौजूदगी में हुआ।

जानकारी के अनुसार, राजस्थान के अजमेर जिले की दूदू विधानसभा से कॉन्ग्रेस प्रत्याशी बाबूलाल नागर के नामांकन से पहले आयोजित रैली के दौरान कॉन्ग्रेस समर्थक नारेबाजी करने लगे। यह नारेबाजी राजस्थान कॉन्ग्रेस प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा के भाषण के दौरा हुई।

बाबूलाल नागर ने समर्थकों को चुप करवाते हुए कहा,”आप सब लोग सुनें, बोलना है कॉन्ग्रेस पार्टी और अशोक गहलोत जिंदाबाद, राहुल सोनिया गाँधी मुर्दाबाद।” इस दौरान मंच पर उनके पीछे ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मौजूद थे।

बाबूलाल नागर 4 बार के विधायक हैं और अशोक गहलोत के करीबी हैं। वह राजस्थान सरकार में मंत्री भी रहे हैं और वर्तमान में अशोक गहलोत के सलाहकार हैं। उन्हें कॉन्ग्रेस ने इस बार भी दूदू से प्रत्याशी बनाया है।

बाबूलाल नागर का यह बयान अब सोशल मीडिया पर वायरल है। राजस्थान कॉन्ग्रेस के बड़े नेताओं के सामने बाबूलाल नागर का यह बयान अब कॉन्ग्रेस की दरारों को सामने ला रहा है। दरअसल, अशोक गहलोत और कॉन्ग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के बीच सब कुछ ठीक नहीं है।

यह झगड़ा बीते वर्ष से चला आ रहा है जब कॉन्ग्रेस में नए अध्यक्ष को चुना जाना था। इस दौरान कयास लगाए गए थे कि अशोक गहलोत को कॉन्ग्रेस का अध्यक्ष बनाया जाएगा और सचिन पायलट मुख्यमंत्री बनेंगे।

हालाँकि, अशोक गहलोत के समर्थक विधायकों ने दिल्ली पहुंचे प्रभारी अजय माकन और मल्लिकार्जुन खडगे की बैठक में नहीं पहुंचे थे। कहा गया था कि यह सब अशोक गहलोत के इशारे पर हुआ था। अशोक गहलोत के इस कदम को पार्टी हाईकमान सोनिया गांधी और राहुल गांधी की नाफरमानी के तौर पर देखा गया था।

इसके बाद मल्लिकार्जुन खडगे कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष बन गए। तब से ही राजथान कॉन्ग्रेस में अशोक समर्थक विधायकों और हाईकमान के बीच तकरार चल रही है। बाबूलाल नागर का यह सार्वजनिक बयान इसी कड़ी में आया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -