Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीतिजहाँ वनवास के दौरान रुके थे रघुकुल नायक, वहाँ बनेगा उनका भव्य मंदिर: शिलान्यास...

जहाँ वनवास के दौरान रुके थे रघुकुल नायक, वहाँ बनेगा उनका भव्य मंदिर: शिलान्यास के लिए कर्नाटक पहुँचेंगे योगी आदित्यनाथ, ऐसी होगी ‘दक्षिण की अयोध्या’

बता दें कि इससे पहले, सीएन अश्वथ नारायण ने मुख्यमंत्री बोम्मई और राज्य की धर्मादा मंत्री शशिकला जोले को एक पत्र लिखकर मंदिर निर्माण की माँग की थी।

अयोध्या में राम लला के भव्य-दिव्य मंदिर का निर्माण जोरों-शोरों से चल रहा है। इस बीच कर्नाटक सरकार ने, रामनगर जिले में स्थित प्राचीन रामदेवरा बेट्टा (Ramdevara Betta) मंदिर को अयोध्या की तरह ही भव्य बनाने का ऐलान किया है। इस मंदिर का शिलान्यास उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कर्नाटक की बसवराज बोम्मई सरकार अयोध्या में बन रहे राम लला के मंदिर ही तरह रामदेवरा बेट्टा को दक्षिण भारत की अयोध्या बनाना चाहती है। इस मंदिर निर्माण को लेकर राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ सीएन अश्वथ नारायण ने कहा है कि रामदेवरा बेट्टा में राम मंदिर बनाने के फैसले की घोषणा राज्य के अगले बजट में की जाएगी।

उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा है, “जिस तरह उत्तर भारत के अयोध्या में राम मंदिर बन रहा है, उसी तरह कर्नाटक में राम मंदिर का निर्माण होगा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कर्नाटक आएँगे और मंदिर के लिए चिह्नित की जाने वाली भूमि का निरीक्षण करेंगे।” बता दें कि इससे पहले, सीएन अश्वथ नारायण ने मुख्यमंत्री बोम्मई और राज्य की धर्मादा मंत्री शशिकला जोले को एक पत्र लिखकर मंदिर निर्माण की माँग की थी। पत्र में उन्होंने कहा था कि रामदेवराबेट्टा में धर्मादा विभाग की 19 एकड़ जमीन का इस्तेमाल करके श्रीराम मंदिर का निर्माण किया जाना चाहिए।

रामदेवरा बेट्टा मंदिर को लेकर मान्यता है कि त्रेतायुग में इस मंदिर का निर्माण वानर राज सुग्रीव ने कराया था। सुग्रीव ने ही प्रभु श्रीराम की मूर्ति भी मंदिर में स्थापित की थी। यही नहीं, स्थानीय लोगों की मान्यता है कि भगवान श्रीराम ने वनवास के समय, माता सीता और लक्ष्मण के साथ यहाँ एक वर्ष बिताया था।

हालाँकि, अब इस मंदिर निर्माण को लेकर विरोध के स्वर भी उठने लगे हैं। जेडीएस नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा, “मैं अपने दम पर एक मंदिर का निर्माण कर सकता हूँ। यूपी के सीएम को लाने की कोई जरूरत नहीं है। कर्नाटक दिवालिया नहीं हुआ है। मेरे पास अपने दम पर मंदिर बनाने की ताकत है। मैं शिलान्यास समारोह के लिए वोक्कालिगा समुदाय के धार्मिक प्रमुखों और सुत्तूर संत को भी ला सकता हूँ।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -