BJP से हाथ मिला लें मुस्लिम: कॉन्ग्रेसी MLA ने अपनी ही पार्टी के बड़े नेताओं को दी ‘गाली’

"राजग की सरकार बनने की स्थिति में मुसलमान भाइयों को परिस्थितियों से समझौता कर लेना चाहिए। अगर ज़रूरत पड़ती है तो मुसलमानों को भाजपा से हाथ मिलाने से भी नहीं हिचकना चाहिए।"

कर्नाटक में कॉन्ग्रेस पार्टी के विधायक ने अपनी ही पार्टी के बड़े नेताओं को अपशब्द कहे हैं। साथ ही उन्होंने पार्टी छोड़ने के भी संकेत दिए। कर्नाटक में एग्जिट पोल के सामने आने के बाद से ही अंदरूनी कलह शुरू हो गई है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी ने राज्य के कई नेताओं से मुलाक़ात कर धीरज रखने की सलाह दी थी। एग्जिट पोल्स में भाजपा को राज्य में 28 में से 25 सीटें तक मिलती हुई दिखाई दे रही हैं। इससे कॉन्ग्रेस खेमे में हड़कंप है और नेता पार्टी आलाकमान से गठबंधन पर पुनर्विचार करने की माँग कर रहे हैं। सार्वजनिक तौर पर बयानबाज़ी रोकने की लाख कोशिशों के बावजूद विधायक रौशन बेग ने हालिया लोकसभा चुनावों में पार्टी के ख़राब प्रदर्शन को लेकर नाराज़गी जताई है।

कॉन्ग्रेस द्वारा राज्य में आशानुरूप प्रदर्शन न कर पाने के लिए बेग ने सीधे तौर पर पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और राज्य में पार्टी के प्रभारी केसी वेणुगोपाल को ज़िम्मेदार ठहराया। उन्होंने इन दोनों नेताओं के लिए अपशब्दों का भी प्रयोग किया। साथ ही उन्होंने मुस्लिमों को भी ख़ास सलाह दी। विधायक बेग ने मुस्लिमों से कहा कि अगर अगली बार भी राजग की सरकार बनती है तो वे लोग समझौता कर लें। उन्होंने कहा कि राजग की सरकार बनने की स्थिति में मुसलमान भाइयों को परिस्थितियों से समझौता कर लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर ज़रूरत पड़ती है तो मुसलमानों को भाजपा से हाथ मिलाने से भी नहीं हिचकना चाहिए।

रौशन बेग मुस्लिमों के बीच राज्य में जाना-पहचाना चेहरा हैं। उन्होंने मुस्लिमों को सलाह देते हुए कहा कि उन्हें किसी ख़ास पार्टी का वफ़ादार नहीं बने रहना चाहिए। उन्होंने कॉन्ग्रेस पर मुसलमानों की उपेक्षा करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पार्टी एक ही मुस्लिम को टिकट दिया है। बेग ने ज़रूरत पड़ने पर पार्टी छोड़ने की भी बात कही। साथ ही मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी का भी बचाव किया। मुख्यमंत्री का बचाव करते हुए विधायक ने कहा कि राज्य में कॉन्ग्रेस के ख़राब या कमजोर प्रदर्शन के लिए वेणुगोपाल, सिद्धारमैया और गुंडु राव ज़िम्मेदार हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

कॉन्ग्रेस पर बड़ा आरोप लगाते हुए विधायक ने कहा कि मुख्यमंत्री लाचार हैं, उन्हें काम ही नहीं करने दिया जा रहा है। बैकॉल रौशन बेग, इसी कारण हार के लिए कुमारस्वामी को ज़िम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। उन्होंने कॉन्ग्रेस पर एक और बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार गठन के दौरान मंत्रालय बेचे गए थे। उन्होंने सिद्धारमैया पर महत्वाकांक्षी होने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनके मन में लगातार मुख्यमंत्री बनने की इच्छा पल रही है।

वहीं कॉन्ग्रेस पार्टी ने विधायक रौशन बेग के आरोपों से किनारा कर लिया है। कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वरा ने कहा कि यह उनकी व्यक्तिगत राय है। उन्होंने आशा जताई कि 23 मई को लोकसभा चुनाव का परिणाम आने के साथ ही राज्य में परिस्थितियाँ बदलेंगी। आगे की रणनीति पर चर्चा के लिए प्रभारी वेणुगोपाल बंगलौर आएँगे। मुस्लिमों के बीच लोकप्रिय रौशन बेग 8 बार विधायक रह चुके हैं और कॉन्ग्रेस की सरकार के दौरान आधा दर्जन मंत्रालय संभाल चुके हैं। गृह मंत्रालय से लेकर हज मामला मंत्रालय संभालने वाले रौशन बेग के आरोपों से पार्टी को झटका लगना तय है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: