Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीतिअमानतुल्लाह से पिंड छुड़ाने की कोशिश में केजरीवाल, दिल्ली वक़्फ़ बोर्ड अध्यक्ष की कुर्सी...

अमानतुल्लाह से पिंड छुड़ाने की कोशिश में केजरीवाल, दिल्ली वक़्फ़ बोर्ड अध्यक्ष की कुर्सी छीनी

ख़ान को पिछली बार चुनाव जीतने के बाद 7 सदस्यीय वक़्फ़ बोर्ड में नॉमिनेट किया गया था। उन्हें सितम्बर 2018 में बोर्ड का अध्यक्ष चुना गया था। अधिकारियों ने बताया कि केजरीवाल सरकार दिल्ली वक़्फ़ बोर्ड का पुनर्गठन करेगी।

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों और शाहीन बाग के प्रदर्शन से साख को लगे बट्टे की भरपाई की कोशिशों में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी सरकार लग गई है। दंगों और प्रदर्शन में पार्टी के कई नेताओं की भूमिका संदिग्ध बताई जाती है। पार्षद ताहिर हुसैन तो दंगों का मास्टरमाइंड बनकर उभरा है। हालॉंकि बाद में पार्टी ने उसे निलंबित कर दिया। बावजूद इसके अमानतुल्लाह ख़ान जैसे पार्टी विधायक उसका खुलकर बचाव करते रहे हैं। सीएए विरोध के नाम पर दिल्ली के जाकिर नगर में जब हिंसा भड़की थी तब भी अमानतुल्लाह मौके पर दिखा था। लेकिन, अब ऐसा लगता है कि डैमेज कंट्रोल के तहत केजरीवाल सरकार उससे पीछा छुड़ाने की कोशिश में है।

उसे दिल्ली वक़्फ़ बोर्ड के अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है। दिल्ली सरकार के रेवेन्यू विभाग ने इसकी जानकारी दी है। ओखला से लगातार दूसरी बार विधायक चुने गए अमानतुल्लाह को मुख्यमंत्री केजरीवाल का क़रीबी माना जाता है। उस पर कई आपराधिक मामले भी दर्ज हैं।

रेवेन्यू विभाग के मुख्य सचिव कार्यालय ने कहा कि फ़रवरी 11, 2020 को छठी विधानसभा भंग होने के साथ ही ख़ान दिल्ली वक़्फ़ बोर्ड के अध्यक्ष व सदस्य नहीं रहे। इसके लिए ‘सेक्शन 14 (1) ऑफ वक़्फ़ बोर्ड 1995’ का हवाला दिया गया है। ख़ान को पिछली बार चुनाव जीतने के बाद 7 सदस्यीय वक़्फ़ बोर्ड में नॉमिनेट किया गया था। उन्हें सितम्बर 2018 में बोर्ड का अध्यक्ष चुना गया था। हालाँकि, दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने इस बात से इनकार किया कि ख़ान को उसके पद से हटा दिया गया है।

अधिकारियों ने बताया कि केजरीवाल सरकार दिल्ली वक़्फ़ बोर्ड का पुनर्गठन करेगी। हाल ही में दिल्ली में हुए हिन्दू-विरोधी दंगों के बाद अमानतुल्लाह बढ़-चढ़ कर कथित मुस्लिम पीड़ितों को मदद करने का दावा कर रहा था। उसने बोर्ड के माध्यम से कई ‘पीड़ित’ मुस्लिमों को वित्तीय मदद भी मुहैया कराई थी। सरकार के फ़ैसले पर टिप्पणी करते हुए विधायक ख़ान ने कहा कि सितंबर 2018 से 20 मार्च 2020 तक का दिल्ली वक़्फ़ बोर्ड़ का सफ़र बहुत अच्छा रहा। मुझे खुशी है कि मैं ग़रीबों और ज़रूरतमंदों तक उनका हक़ पहुँचा पाया और उनकी मदद कर पाया।

हालाँकि, इस बात पर अब तक संशय बना हुआ है कि अमानतुल्लाह ख़ान ने हाल ही में जम कर वित्तीय मदद के नाम पर जो चेक बाँटे हैं, उनका क्या होगा? उसने कई हिन्दुओं की भी मदद करने का दावा किया है। अमानतुल्लाह ख़ान पर अपनी ही साली का यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज है, ऐसे में उसे फिर से इस पद पर बहाल किया जाएगा या नहीं, इसे लेकर सरकार ने फ़िलहाल चुप्पी साध रखी है। कहा जा रहा है कि कुछ ही दिनों में निर्णय होगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -