Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीतिप्राण प्रतिष्ठा के बाद श्रमजीवियों का सम्मान, PM मोदी ने राम मंदिर के निर्माण...

प्राण प्रतिष्ठा के बाद श्रमजीवियों का सम्मान, PM मोदी ने राम मंदिर के निर्माण में लगे श्रमवीरों पर की पुष्पवर्षा: कुबेर टीला पर जटायु की प्रतिमा का भी अनावरण

पीएम मोदी हमेशा से 'श्रमेव जयते' का नारा देते रहे हैं और ये मोदी सरकार की विकास योजनाओं में भी झलकता है। श्रम का सम्मान उनकी सरकार के मुख्य केन्द्रबिन्दुओं में से एक है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में हिस्सा लिया, उसके बाद उन्होंने मंच से लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि कालचक्र बदल रहा है, ये एक नए युग का उद्गम है। इसके बाद वो कुबेर टीला पहुँचे, जहाँ उन्होंने राम मंदिर के निर्माण के शुभ कार्य में लगे मजदूरों से मुलाकात की। पीएम मोदी ने श्रमजीवियों पर पुष्पवर्षा की। बता दें कि वाराणसी में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन हो या फिर दिल्ली में ‘भारत मंडपम’ का उद्घाटन, वो हमेशा से इन मौकों पर श्रमजीवियों का सम्मान करते रहे हैं।

वीडियो में देखा जा सकता है कि पीएम मोदी कुर्सी पर बैठे मजदूरों पर फूल बरसा रहे हैं। उन्होंने टोकरी में से लेकर लाल रंग के फूल बरसा कर इन मजदूरों को सम्मान दिया। ये वही ‘श्रमवीर’ हैं, जिनकी महीनों की मेहनत के बाद राम मंदिर का गर्भगृह तैयार हुआ और आज उसमें प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम संभव हो पाया है। पीएम मोदी हमेशा से ‘श्रमेव जयते’ का नारा देते रहे हैं और ये मोदी सरकार की विकास योजनाओं में भी झलकता है। श्रम का सम्मान उनकी सरकार के मुख्य केन्द्रबिन्दुओं में से एक है।

ये सभी मजदूर अलग-अलग कंपनियों से जुड़े हुए हैं, जिन पर पीएम मोदी ने फूल बरसाया। कुबेर टीला पर उन्होंने पक्षीराज जटायु की मूर्ति का अनावरण भी किया। कुबेर टीला पर ही प्राचीन शिव मंदिर भी स्थित है, जिसका ‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट’ ने पुनर्निर्माण करवाया है। मान्यता है कि यहाँ स्वयं धन के देवता कुबेर ने आकर शिवलिंग की स्थापना की थी। उससे पहले पीएम मोदी ने कहा कि वो भी एक समय था, जब कुछ लोग कहते थे कि राम मंदिर बना तो आग लग जाएगी। उन्होंने रामलला के मंदिर के निर्माण को भारतीय समाज के शांति, धैर्य, आपसी सद्भाव और समन्वय का प्रतीक बताया।

पीएम मोदी ने कहा कि ये निर्माण आग को नहीं, ऊर्जा को जन्म दे रहा है। पीएम मोदी ने कहा, “ये मंदिर, मात्र एक देव मंदिर नहीं है। ये भारत की दृष्टि का, भारत के दर्शन का, भारत के दिग्दर्शन का मंदिर है। ये राम के रूप में राष्ट्र चेतना का मंदिर है। राम भारत की आस्था हैं, राम भारत का आधार हैं, राम भारत का विचार हैं, राम भारत का विधान हैं, राम भारत की चेतना हैं, राम भारत का चिंतन है, राम भारत की प्रतिष्ठा है। मैं आभार व्य​क्त करूँगा भारत की न्यायपालिका का जिसने न्याय की लाज रख ली। न्याय के पर्याय प्रभु श्रीराम का मंदिर भी न्याय बद्ध तरीके से बना।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भिंडराँवाले के बाद कॉन्ग्रेस ने खोजा एक नया ‘संत’… तब पैसा भेजते थे, अब संसद में कर रहे खुला समर्थन: समझिए कैसे नेहरू-गाँधी परिवार...

RA&W और सेना के पूर्व अधिकारी कह चुके हैं कि कॉन्ग्रेस ने पंजाब में खिसकती जमीन वापस पाने के लिए भिंडराँवाले को पैदा किया। अब वही फॉर्मूला पार्टी अमृतपाल सिंह के साथ आजमा रही। कॉन्ग्रेस के बड़े नेता जरनैल सिंह के सामने फर्श पर बैठते थे। संजय गाँधी ने उसे 'संत' बनाया था।

‘वनवासी महिलाओं से कर रहे निकाह, 123% बढ़ी मुस्लिम आबादी’: भाजपा सांसद ने झारखंड में NRC के लिए उठाई माँग, बोले – खाली हो...

लोकसभा में बोलते हुए सांसद निशिकांत दुबे ने कहा, विपक्ष हमेशा यही बोलता रहता है संविधान खतरे में है पर सच तो ये है संविधान नहीं, इनकी राजनीति खतरे में है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -