Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीति'बिहार में पढ़ाई नहीं, राजनीति जरूरी': नीतीश-तेजस्वी की रैली के लिए पूर्णिया यूनिवर्सिटी ने...

‘बिहार में पढ़ाई नहीं, राजनीति जरूरी’: नीतीश-तेजस्वी की रैली के लिए पूर्णिया यूनिवर्सिटी ने परीक्षा को रद्द किया, लोग बोले- शर्मनाक

बिहार में 25 फरवरी को BJP और महागठबंधन की रैली है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पटना और पश्चिमी चंपारण के वाल्मीकि नगर में रैली को संबोधित करेंगे। वहीं, पूर्णिया में महागठबंधन की रैली में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव संबोधित करेंगे। 

पूरे देश क बिहार की शिक्षा की स्थिति के बारे में पता है। वहाँ कई विश्वविद्यालयों के सत्र तो दो वर्ष तक पीछे हैं। ऐसे में हैरान करने वाली बात यह है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की रैली के कारण एक विश्वविद्यालय ने ग्रेजुएशन की प्रस्तावित परीक्षा को रद्द कर दिया।

बिहार की महागठबंधन सरकार ने शनिवार (25 फरवरी 2023) को पूर्णिया में रैली का आयोजन किया है। रैली रंगभूमि मैदान में आयोजित होगी। इस बीच पूर्णिया विश्वविद्यालय ने रैली के कारण स्नातक द्वितीय खंड परीक्षा 2022 की 25 फरवरी को होने वाली परीक्षा स्थगित कर दी है।

पूर्णिया विश्वविद्यालय के परीक्षा विभाग ने इस संबंध में अधिसूचना भी जारी की है। जारी अधिसूचना के अनुसार, अब यह परीक्षा 15 मार्च 2023 को आयोजित की जाएगी। परीक्षा पहले से तय परीक्षा केंद्रों पर होगी।

रैली के कारण परीक्षा रद्द करने पर भाजपा ने बिहार की महागठबंधन सरकार पर हमला बोला है। भाजपा ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई वाली बिहार की महागठबंधन सरकार में परीक्षा की जगह राजनीतिक रैली को प्राथमिकता दी जा रही है।

बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा, “महागठबंधन सरकार पूर्णिया में अपनी रैली को सफल बनाने के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन एवं शिक्षण संस्थानों पर दबाव डालकर परीक्षा तक स्थगित करवा रही है। बिहार सरकार में शामिल गठबंधन दलों की रैली को सफल बनाने के लिए शिक्षण संस्थानों तक को स्वागत में और भीड़ जुटाने में लगा दिया है।”

रैली के कारण परीक्षा रद्द करने को लेकर विपक्ष सरकार पर हमलावर है। वहीं, इस फैसले को लेकर सोशल मीडिया पर भी लोग बिहार की सरकार को घेर रहे हैं।

बता दें कि बिहार में 25 फरवरी को BJP और महागठबंधन की रैली है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पटना और पश्चिमी चंपारण के वाल्मीकि नगर में रैली को संबोधित करेंगे। वहीं, पूर्णिया में महागठबंधन की रैली में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव संबोधित करेंगे। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -