Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीतिकोटा में NEET की तैयारी कर रही छात्रा की आत्महत्या को मंत्री ने दिया...

कोटा में NEET की तैयारी कर रही छात्रा की आत्महत्या को मंत्री ने दिया ‘प्रेम प्रसंग’ का मोड़, पहले भी रेप पर बोल चुके हैं ‘राजस्थान मर्दों का प्रदेश’

"कोटा में रिलेशनशिप की वजह से सुसाइड होते हैं। आपको सुनकर दुख होगा कि आज भी एक लड़की ने आत्महत्या की है, लेकिन आत्महत्या का कारण यह था कि उसने जो लेटर छोड़ा वह लव अफेयर का था।"

राजस्थान के कोटा में  मेडिकल और IIT की तैयारी कर रहे बच्चों द्वारा की जाने वाली सुसाइड की आए दिन आने वाली खबरों ने तमाम पैरेंट्स को चिंता में डाल दिया है। वहीं राजस्थान सरकार पर इस मामले में अनदेखी का आरोप लग रहा है। हाल ही में NEET की तैयारी कर रही 16 साल की छात्रा के सुसाइड मामले में राजस्थान सरकार में मंत्री शांति धारीवाल के बयान से बवाल मचा हुआ है। 

क्या कहा था मंत्री शांति धारीवाल ने 

दरअसल, कोटा के कोचिंग से मेडिकल की तैयारी कर एक छात्रा की आत्महत्या को मंत्री शांति धारीवाल ने प्रेम प्रसंग से जोड़ दिया। इस मामले में राजस्थान सरकार में मंत्री शांति धारीवाल ने कहा, “कोटा में रिलेशनशिप की वजह से सुसाइड होते हैं। आपको सुनकर दुख होगा कि आज भी एक लड़की ने आत्महत्या की है, लेकिन आत्महत्या का कारण यह था कि उसने जो लेटर छोड़ा वह लव अफेयर का था। अब तक जितनी भी आत्महत्या हुई है उनमें स्टडी करने की जरूरत है कि यहाँ पर ऐसा क्यों हुआ?”

वहीं उनके इस बयान पर मृतक छात्रा के परिवार का गुस्सा फूट पड़ा है। इस मामले में मृतका के पिता ने कहा, “ऐसी कोई जानकारी मेरे पास नहीं है, यदि उनके पास इस बात के सबूत हैं तो वो हमें दिखाएँ। मेरी बेटी ऐसा नहीं कर सकती।”

मंत्री के बयान से नाराज हुए मृतक छात्रा के पिता ने बताया, “पुलिस प्रशासन भी यही कह रहा है कि ऐसा कोई नोट नहीं मिला है जिसमें प्रेम प्रसंग जैसा कोई मामला सामने आया हो। फिर मंत्री शांति धारीवाल के पास यह जानकारी कहाँ से आई।”

परिवार ने लगाया आवारा लड़कों द्वारा छेड़ने का आरोप

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कोटा से हाल ही में ये खबर सामने आई थी कि NEET की तैयारी कर रही एक 16 साल की बच्ची ने फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। बच्ची की पहचान रिचा सिन्हा के रूप में हुई है। इस मामले में जो जानकारी सामने आई है उसके अनुसार वह 5 महीने पहले ही नीट की तैयारी करने के लिए कोटा आई थी। वहीं छात्रा के आत्महत्या करने के बाद पिता ने कोटा में आवारा लड़कों द्वारा छेड़ने की भी बात कही है। 

हालाँकि, इस मामले में विज्ञान नगर थाना पुलिस जाँच कर रही है। बता दें कि इससे पहले 10 सितंबर, 2023 को भी कोटा में सुसाइड का एक मामला सामने आया था, जिसमें एक माँ-बेटे ने कथित तौर पर जहर खाकर सुसाइड कर ली थी। मृतकों की पहचान सतविंदर कौर (50) और उसके बेटे रोबिन सिंह (29) के रूप में हुई थी। इस मामले में पुलिस का कहना था कि मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है लेकिन प्राथमिक तौर पर ये आत्महत्या का मामला लग रहा है। 

पहले भी विवादित बयान दे चुके है मंत्री धारीवाल

आत्महत्या की तरह ही राजस्थान रेप के मामलों में भी लगातार घिरा हुआ है। ऐसे ही रेप के मामले में मंत्री शांति धारीवाल ने विधानसभा में खड़े होकर कहा था, “राजस्थान तो मर्दों का प्रदेश है। यहाँ पर बलात्कार क्यों नहीं होंगे।” बता दें कि तब भी उनके इस बयान की काफी आलोचना हुई थी। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-270 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -