Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीति'कब्जा करने से रोकने पर एक माफिया ने मुँह पर फेंका था कागज': CM...

‘कब्जा करने से रोकने पर एक माफिया ने मुँह पर फेंका था कागज’: CM योगी ने बताई राजनीति में आने की वजह, कहा- ये कोरोना से भी अधिक खतरनाक

सीम योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में एक मंत्री द्वारा अवैध करने की घटना और माफियाओं द्वारा हड़पने की घटनाओं ने उन्हें राजनीति में उतरने के लिए मजबूर कर दिया, ताकि माफियाओं का वे सफाया कर सकें और आज बुलडोजर ने माफियाओं के मनोबल को तोड़ दिया है।

हाल ही में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने खुद के राजनीति में आने की वजह बताई। उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में खुलासा किया कि मठ छोड़ कर राजनीति में उनके आने का मकसद माफियाओं का खात्मा करना था और इन साढ़े चार साल के कार्यकाल में सीएम योगी ने एक ऐसे मुख्यमंत्री के रूप में अपनी छवि गढ़ी है, जो प्रदेश में माफियाओं के खिलाफ ऐक्शन लेने में तनिक भी नहीं हिचकते।

इंटरव्यू के दौरान सीएम योगी बताते हैं कि एक बार अवैध कब्जा कर रहे एक माफिया ने उनके चेहरे पर कागज उछाल दिया था। ऐसी कई और घटनाएँ सामने आईं, तब उन्होंने मन बनाया कि वह माफियाओं का सफाया करने के लिए राजनीति में कदम रखेंगे।

इस बारे में विस्तार से बात करते हुए उन्होंने बताया कि उन्हें गोरखपुर में एक अमीर व्यक्ति का फोन आया। उन्होंने कहा कि उनके घर पर एक मंत्री कब्जा करने की कोशिश कर रहे हैं। जब वो उस जगह पर पहुँचे तो देखा कि घर के सामान को बाहर फेंका जा रहा था। 

योगी आदित्यनाथ ने इस पर आपत्ति जताते हुए कहा कि जब मकान मालिक ने घर बेचा नहीं तो कोई उसे कैसे ले सकता है। लोगों की भीड़ सब देख रही थी, लेकिन कोई कुछ बोल नहीं रहा था। योगी के सवाल-जवाब करने पर माफिया ने उनके चेहरे की तरफ कुछ पेपर उछाले। इसके बाद उन्होंने भीड़ से उन्हें पीटने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि ऐसी ही कुछ घटनाएँ थी, जब उन्होंने राजनीति में कदम रखने का मन बना लिया।

एक ऐसी ही घटना का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि साल 1994-95 के दौरान गोरखपुर में एक मशहूर परिवार हुआ करता था। उस परिवार की दो हवेलियाँ थीं। राज्य सरकार ने दोनों हवेलियों को माफियाओं को सौंप दिया। परिवार ने दोनों इमारतों को ढहा दिया। सीएम योगी ने बताया कि वह उस परिवार के लोगों से मिले और पूछा कि क्या हुआ था। उस व्यक्ति ने बताया कि अगर वह बिल्डिंग नहीं गिराते तो वह सब कुछ गँवा देते। अब कम से कम जमीन तो उनके पास रहेगी।

सीएम योगी ने कहा कि आज यूपी में कोई भी इस तरह की हरकत नहीं कर सकता। सभी अपराधी अच्छी तरह से जानते हैं कि अगर वे गैर-कानूनी तरीके से कुछ भी कब्जा करने की कोशिश करेंगे तो बुलडोजर चल जाएगा। उन्होंने माफिया को कोरोना वायरस से भी खतरनाक बताया। इसके साथ ही सीएम ने आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी के प्रचंड जीत की बात भी दोहराई।

उल्लेखनीय है कि यूपी में इस साल घटे बड़े घटनाक्रमों की बात करें तो सबसे ऊपर नाम सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा माफिया के हौसले तोड़ने पर ही होगा। सीएम योगी का बुलडोजर माफिया की संपत्ति पर ऐसा चला कि इन अपराधिक छवि वालों का मनोबल टूट कर ही रह गया। उत्तर प्रदेश के 25 माफिया पर योगी सरकार का बुलडोजर चला है। इससे 11 अरब से अधिक की संपत्ति को जब्त करने में मदद मिली है। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

खालिस्तानी अमृतपाल के लिए संसद में पूर्व CM चन्नी की बैटिंग, सिख किसान नेताओं के साथ राहुल गाँधी की बैठक: क्या पका रही है...

बकौल चरणजीत सिंह चन्नी, अमृतपाल पर NSA लगाना 'अभिव्यक्ति की आज़ादी' के खिलाफ है। वो खालिस्तानी अमृतपाल सिंह की गिरफ़्तारी को आपातकाल बता रहे हैं।

अखलाक की मौत हर मीडिया के लिए बड़ी खबर… लेकिन मुहर्रम पर बवाल, फिर मस्जिद के भीतर तेजराम की हत्या पर चुप्पी: जानें कैसे...

बरेली में एक गाँव गौसगंज में तेजराम नाम के एक युवक की मुस्लिम भीड़ ने मॉब लिंचिंग कर दी। इलाज के दौरान तेजराम की मौत हो गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -