अंसारी गैंग का सरगना जब्बार सहित गिरफ्तार, हाजी अहसान और शादाब की हत्या का आरोपित

हाजी अहसान और शादाब के दोहरे हत्याकांड की पोल तब खुली जब उनकी हत्या की साजिश में शामिल होने के आरोप में शूटरों को बाइक से ले जाने वाले दानिश को पुलिस ने धर दबोचा। उसने शाहनवाज और शादाब के बारे में पुलिस को बताया।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने अंसारी गैंग के ‘किंगपिन’/सरगना शाहनवाज अंसारी और उसके शार्प शूटर जब्बार अंसारी को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों के पास से दो अर्ध-स्वचालित (सेमी-ऑटोमैटिक) पिस्तौलें और 8 ‘जिंदा’ (लाइव) कारतूस बरामद किए हैं। दोनों ही शातिर अपराधी बहुजन समाजवादी पार्टी के नेता हाजी अहसान और उनके भाँजे शादाब के डबल मर्डर मामले में उत्तर प्रदेश में वांछित थे।

साथी ने खोली थी पोल

हाजी अहसान और शादाब के दोहरे हत्याकांड की पोल तब खुली जब उनकी हत्या की साजिश में शामिल होने के आरोप में शूटरों को बाइक से ले जाने वाले दानिश को पुलिस ने धर दबोचा। उसने शाहनवाज और शादाब के बारे में पुलिस को बताया। उसकी दी गई जानकारी के अनुसार इस हत्या की सुपारी के पीछे शाहनवाज का न केवल संपत्ति विवाद, बल्कि उसकी ‘डॉन’ बनने की चाह भी कारक थे। पुलिस तब से दोनों शूटरों के अतिरिक्त शाहनवाज की भी खोज में थी।

लाइव हिंदुस्तान ने खबर की थी कि इस हत्याकांड के शूटर CCTV की जद में आ गए हैं, और इसके आधार पर पुलिस उनके स्केच बनवा रही है। हाजी अहसान और भांजे की हत्या अहसान के ही दफ़्तर में दिन दहाड़े कर दी गई थी।

जेल में रची गई साजिश

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

नजीबाबाद उब्बनवाला निवासी मोहम्मद सेवन का पुत्र दानिश छेड़छाड़ व मारपीट के मामले में जेल में बंद था। उसके पुलिस को दी गए बयान (अमर उजाला के हवाले से) के मुताबिक 14 मई को उसके जमानत पर छूटने के 4-5 दिन पहले जलालाबाद के मोहल्ला कुरैशियान निवासी जब्बार अंसारी अपने एक साथी के साथ उससे मिलने आया था। उन दोनों ने उसे बताया कि कनकपुर गाँव का रहने वाला शाहनवाज़ उससे हाजी अहसान की हत्या कराना चाहता है। उन दोनों में आपसी सम्पत्ति विवाद है।

दानिश के हामी भरने के बाद बनी योजना को अंजाम देते हए जब्बार अपने साथी दानिश (पुत्र इरफ़ान) के साथ हाजी अहसान व उसके भांजे की गोलियों से हत्या के बाद जब बाहर आया तो दानिश (पुत्र मोहम्मद सेवन) ने दोनों को वहाँ से बाइक पर लेकर कोटद्वार की तरफ लेकर भाग गया। वह नजीबाबाद में अपना अकेला वर्चस्व चाहता था, जबकि अहसान का गैंग उसके आड़े आ रहा था। हाजी अहसान का नाम भी कई हत्याओं में आने की बात मीडिया रिपोर्टों में है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"हिन्दू धर्मशास्त्र कौन पढ़ाएगा? उस धर्म का व्यक्ति जो बुतपरस्ती कहकर मूर्ति और मन्दिर के प्रति उपहासात्मक दृष्टि रखता हो और वो ये सिखाएगा कि पूजन का विधान क्या होगा? क्या जिस धर्म के हर गणना का आधार चन्द्रमा हो वो सूर्य सिद्धान्त पढ़ाएगा?"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

115,259फैंसलाइक करें
23,607फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: