Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयब्रिटेन को पहला हिन्दू PM मिलना लगभग तय! रेस से हटे बोरिस जॉनसन, 16...

ब्रिटेन को पहला हिन्दू PM मिलना लगभग तय! रेस से हटे बोरिस जॉनसन, 16 साल में इस पद को संभालने वाले 7वें नेता होंगे ऋषि सुनक

ऋषि सुनक ने अपने आधिकारिक अभियान की शुरुआत इस घोषणा के साथ की कि वह अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के साथ-साथ देश को एकजुट करना चाहते हैं।

ब्रिटेन में प्रधानमंत्री का पद बीते कई महीनों से वैश्विक चर्चा का विषय बन गया है। देश की सत्‍तारूढ पार्टी में ही इस पद के लिए घमासान मचा हुआ है। कुछ दिन पहले पार्टी के अंदर ही महीनों उठापटक के बाद पीएम बनीं ल‍िज ट्रस ने इस्‍तीफा दे दिया। लिज ट्रस ने भारतीय मूल के ऋषि सुनक को हराकर यह पद हासिल किया था। लेकिन, आज वही सुनक इस पद की रेस में सबसे आगे हैं। दरअसल ट्रस के इस्‍तीफे के बाद प्रधानमंत्री पद का दावा ठोंकने वाले जॉनसन ने रेस से पीछे हटने की घोषणा की है। इसके साथ ही सुनक अब प्रधानमंत्री पद के सबसे बड़े दावेदार हैं।

इंडीपेंडेंट की रिपोर्ट के अनुसार, बोरिस जॉनसन ने घोषणा की है कि वह टोरी नेतृत्व प्रतियोगिता के लिए खड़े नहीं होंगे। विवादास्पद पूर्व प्रधानमंत्री ने दावा करते हुए कहा क‍ि उन्होंने कंजरवेटिव सांसदों के मतपत्र पर उपस्थित होने के लिए आवश्यक 102 नामांकन की उच्च बाधा को पार कर लिया है। उन्होंने कहा, “मैं दुख के साथ इस निष्कर्ष पर पहुँचा हूँ कि यह करना सही नहीं होगा। आप प्रभावी ढंग से शासन नहीं कर सकते जब तक कि आपके पास संसद में एक संयुक्त पार्टी न हो।”

जॉनसन के बयान से अब उनके कट्टर प्रतिद्वंद्वी, 42 वर्षीय पूर्व वित्त मंत्री सुनक के प्रधानमंत्री बनने का मार्ग लगभग साफ़ हो गया है। यदि उनके प्रधानमंत्री बनने पुष्टि हो जाति है तो है, तो ऋषि सुनक, लिज़ ट्रस की जगह लेंगे, जिन्हें वित्तीय बाजारों में उथल-पुथल शुरू करने वाले आर्थिक कार्यक्रम शुरू करने के बाद इस्तीफा देने के लिए मजबूर होना पड़ा था। 2007 में टोनी ब्लेयर की सरकार जाने के बाद से अब तक 5 प्रधानमंत्री ब्रिटेन देख चुका है। इस तरह 16 साल में ऋषि सुनक 7वें नेता होंगे, जिन्हें यूरोपीय देश इस पद पर देखेगा।

जॉनससन के प्रधानमंत्री पद की दौड़ से हटने के कुछ देर बाद ही सुनक ने ट्वीट कर कहा कि हम ब्रिटेन में ब्रेक्सिट और वैक्सीन रोलआउट देने के लिए और यूक्रेन पर व्लादिमीर पुतिन के ख‍िलाफ स्‍टैंड लेने के लिए जॉनसन के आभारी हैं।

एक अन्‍य ट्वीट में उन्‍होंने कहा, “हालाँकि उन्होंने फिर से पीएम के लिए चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है, लेकिन मुझे उम्मीद है कि वह देश और विदेश में सार्वजनिक जीवन में योगदान देना जारी रखेंगे।”

द गार्जियन’ की रिपोर्ट के अनुसार, जॉनसन के पीएम पद की रेस से हटने के बाद सुनक को अब 165 सांसदाें का समर्थन प्राप्‍त है। ऋषि सुनक ने रविवार को अपने आधिकारिक अभियान की शुरुआत इस घोषणा के साथ की कि वह अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के साथ-साथ देश को एकजुट करना चाहते हैं। दौड़ में तीसरी उम्मीदवार पेनी मोर्डौंट ने भी अपना अभियान शुरू किया है और उन्हें लगभग 27 सांसदों का समर्थन प्राप्त है।

उल्‍लेखनीय है कि 20 अक्टूबर को लिज ट्रस ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। ट्रस केवल 45 दिनों के लिए प्रधानमंत्री पद पर रहीं। यह किसी भी ब्रिटिश प्रधानमंत्री का अब तक का सबसे छोटा कार्यकाल रहा है। डाउनिंग स्ट्रीट के बाहर उन्होंने कहा था, ”मैं वह काम नहीं कर सकी, जिसके लिए मैं चुनी गई थी।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -