Wednesday, May 19, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया राम कृष्ण के बाद एक और पत्रकार ने इंडिया टुडे की खोली पोल, राजदीप...

राम कृष्ण के बाद एक और पत्रकार ने इंडिया टुडे की खोली पोल, राजदीप को बता दिया- दल्ला

राजदीप पर निशाना साधते हुए कहते हैं कि उनमें कोई नैतिकता नहीं है। वह कॉन्ग्रेस के चुनाव जीतने पर नाचते हैं। सोनिया गाँधी से इंटरव्यू पर सबसे मुश्किल सवाल के नाम पर उनकी कुकिंग के बारे में पूछते हैं। आगे रिया के इंटरव्यू का जिक्र करते हुए वह कहते हैं कि सरदेसाई कोई पत्रकार नहीं, दल्ला हैं।

आजतक की वेबसाइट में कार्यरत राम कृष्ण ने वामपंथी संपादकों की प्रताड़ना से तंग आकर पीएमओ से गुहार लगाई थी। इसके बाद कई लोग इस संस्थान में काम करने के अपने अनुभवों को लेकर सोशल मीडिया में लिख रहे हैं। इनमें से एक नाम राकेश कृष्णन्न सिम्हा का है। वर्तमान में न्यूजीलैंड में पत्रकारिता कर रहे सिम्हा का दावा है कि वे इंडिया टुडे में काम कर चुके हैं।

उन्होंने इंडिया टुडे और आजतक की स्वामित्व वाले लिविंग मीडिया ग्रुप की कार्यसंस्कृति की पोल खोलते हुए कई आरोप लगाए हैं।

राकेश ने ट्वीट कर दावा किया है कि उन्होंने इस संस्थान में 2 साल कॉपी एडिटर के तौर पर काम किया था। जब वह संस्थान से जुड़े थे तो वहाँ रैकेट शुरू हो गया था, जिसमें संपादक लेखक नहीं फिक्सर हो गए थे। खोजी पत्रकारों की स्टोरी मारी जाती थी ताकि सुमित मुखर्जी जैसे जज बच सकें। उनका दावा है कि उस समय कई संपादकों ने राजनेताओं को ब्लैकमेल करने के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल किया।

अपने ट्वीट में उन्होंने जस्टिस मुखर्जी पर रिश्वत लेने का आरोप लगाते हुए कहा है कि वे कॉल गर्ल्स में भी दिलचस्पी लेते थे। उन्हें ‘लेग पीस’ कहकर बुलाते थे। इतने के बावजूद, इंडिया टुडे को जब जस्टिस के ख़िलाफ़ सबूत मिले तो उसने सबूत सीबीआई को सौंपने की बजाए एक्सक्लूसिव स्टोरी के नाम पर पूरी कहानी को मार दिया।

राकेश ने इंडिया टुडे के चुनावी पोल को फर्जी करार देते हुए कहा है कि उन्हें इंडिया टुडे से जुड़े पोलिंग फर्म ने बताया था कि मनमुताबिक नतीजे दिखाने के लिए उन्हें पैसा दिया जाता है। उनका यह भी दावा है कि जब वे इंडिया टुडे से जुड़े तो उसका सर्कुलेशन सुनकर उन्हें गर्व होता था। संस्थान का कहना था कि उनका सर्कुलेशन 2.5 लाख से 4 लाख तक है। जबकि थॉम्पसन प्रेस से जुड़े उनके एक आंतरिक सूत्र ने इसकी हकीकत बताया कि यह 25 000 से ज्यादा नहीं है। ज्यादा से ज्यादा ये 40,000 पहुँचता है।

सिम्हा कहते हैं कि इंडिया टुडे में कॉपी एडिटर्स से ही एडिटर्स को झूठी चिट्ठियाँ लिखवाई जाती थी। दावा किया जाता था कि लाखों में मैग्जीन का वितरण है, जबकि वास्तविकता में पाठकों से उन्हें 5-6 पत्र ही मिला करते थे। कभी-कभी ये संख्या शून्य होती है। कई बार उन लोगों को यह भी लगता था कि इन 5-6 पत्रों में से 2-3 पत्र तो एक ही इंसान लिखता था। इसके अलावा वहाँ ऐसे संपादकों को काम पर रखा गया जो सरकार को प्रभावित कर सके ताकि कंपनी को एफएम और सैटेलाइट टीवी लाइसेंस मिले।

संस्थान के सर्वेक्षणों पर पत्रकार का कहना है कि वह सब दिखावा होता था। जो मुख्यमंत्री सबसे ज्यादा विज्ञापन दे, वही सबसे बेहतर मुख्यमंत्री होता था और उसका स्थान ही सबसे ऊपर रखा जाता था। राकेश कहते हैं कि वह इंडिया टुडे में इंदरजीत बधवार जैसे लोगों को पढ़कर बड़े हुए। लेकिन जैसे ही संस्थान में गए, उन्हें पता लगा कि वहाँ फिक्सर का राज है। वह कहते हैं कि उन्हें हैरानी नहीं है कि राजदीप को लिविंग मीडिया ने हायर किया, क्योंकि वैसे ही लोग उस संस्थान की जरूरत पूरा कर सकते हैं।

राजदीप पर निशाना साधते हुए कहते हैं कि उनमें कोई नैतिकता नहीं है। वह कॉन्ग्रेस के चुनाव जीतने पर नाचते हैं। सोनिया गाँधी से इंटरव्यू पर सबसे मुश्किल सवाल के नाम पर उनकी कुकिंग के बारे में पूछते हैं। आगे रिया के इंटरव्यू का जिक्र करते हुए वह कहते हैं कि सरदेसाई कोई पत्रकार नहीं, दल्ला हैं।

लिविंग मीडिया को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने दावा किया है कि संस्थान का सच्चाई और न्याय से कोई लेना-देना नहीं है। वे सिर्फ हर कीमत पर नकदी चाहते हैं।

बता दें कि आज ऑपइंडिया ने आजतक के ही एक पत्रकार राम कृष्ण की आपबीती पर विस्तृत रिपोर्ट की थी। जिनके आरोपों के बाद इंडिया टुडे को लेकर यह मुद्दा गरमाया। राम कृष्ण का आरोप था कि उनके संपादक उन्हें विचारधारा अलग होने के कारण प्रताड़ित करते हैं और प्रमोशन अप्रेजल भी रोका हुआ है। उनका आरोप है कि जब लॉकडाउन के समय में आर्थिक संकट से जूझते हुए उन्होंने संस्थान से मदद की अपेक्षा की तो संपादक पाणिनि आनंद ने उनसे गाली-गलौच की। उन्हें जान से मारने की धमकी। जिसके कारण अब उन्होंने पीएमओ को पत्र लिखा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी स्ट्रेन’: कैसे कॉन्ग्रेस टूलकिट ने की PM मोदी की छवि खराब करने की कोशिश? NDTV भी हैशटैग फैलाते आया नजर

हैशटैग और फ्रेज “#IndiaStrain” और “India Strain” सोशल मीडिया पर अधिक प्रमुखता से उपयोग किया गया। NDTV जैसे मीडिया हाउसों को शब्द और हैशटैग फैलाते हुए भी देखा जा सकता है।

कॉन्ग्रेस टूलकिट का प्रभाव? पैट कमिंस और दलाई लामा को PM CARES फंड में दान करने के लिए किया गया था ट्रोल

सोशल मीडिया पर पीएम मोदी को बदनाम करने के लिए एक नया टूलकिट सामने आने के बाद कॉन्ग्रेस पार्टी एक बार फिर से सुर्खियों में है। चार-पृष्ठ के दस्तावेज में पीएम केयर्स फंड को बदनाम करने की योजना थी।

₹50 हजार मुआवजा, 2500 पेंशन, बिना राशन कार्ड भी फ्री राशन: कोरोना को लेकर केजरीवाल सरकार की ‘मुफ्त’ योजना

दिल्‍ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने कोरोना महामारी में माता पिता को खोने वाले बच्‍चों को 2500 रुपए प्रति माह और मुफ्त शिक्षा देने का ऐलान किया है।

ख़लीफ़ा मियाँ… किसाण तो वो हैं जिन्हें हमणे ट्रक की बत्ती के पीछे लगाया है

हमने सब ट्राई कर लिया। भाषण दिया, धमकी दी, ज़बरदस्ती कर ली, ट्रैक्टर रैली की, मसाज करवाया... पर ये गोरमिंट तो सुण ई नई रई।

कॉन्ग्रेस के इशारे पर भारत के खिलाफ विदेशी मीडिया की रिपोर्टिंग, ‘दोस्त पत्रकारों’ का मिला साथ: टूलकिट से खुलासा

भारत में विदेशी मीडिया संस्थानों के कॉरेस्पोंडेंट्स के माध्यम से पीएम मोदी को सभी समस्याओं के लिए जिम्मेदार ठहराया गया।

‘केरल मॉडल’ वाली शैलजा को जगह नहीं, दामाद मुहम्मद रियास को बनाया मंत्री: विजयन कैबिनेट में CM को छोड़ सभी चेहरे नए

वामपंथी सरकार की कैबिनेट में सीएम विजयन ने अपने दामाद को भी जगह दी है, जो CPI(M) यूथ विंग के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं।

प्रचलित ख़बरें

मेवात के आसिफ की हत्या में सांप्रदायिक एंगल नहीं, पुरानी राजनीतिक दुश्मनी: हरियाणा पुलिस

आसिफ की मृत्यु की रिपोर्ट आने के तुरंत बाद, कुछ मीडिया हाउसों ने दावा किया कि उसे मारे जाने से पहले 'जय श्री राम' बोलने के लिए मजबूर किया गया था, जिसकी वजह से घटना ने सांप्रदायिक मोड़ ले लिया।

‘ईद खुशियों का त्यौहार, कुंभ कोरोना का सुपर स्प्रेडर’: कॉन्ग्रेस का टूलकिट, मोदी और हिंदुओं को बदनाम करने का खाका

कॉन्ग्रेस के स्थानीय नेताओं को निर्देश दिया गया है कि वो आसपास के अस्पतालों में कुछ बेड्स व अन्य सुविधाएँ पहले से ही ब्लॉक कर के रखें, जिन्हें अपने नेताओं के निवेदन पर ही मुक्त किया जाए।

हरियाणा की सोनिया भोपाल में कॉन्ग्रेस MLA के बंगले में लटकी मिली: दावा- गर्लफ्रेंड थी, जल्द शादी करने वाले थे

कमलनाथ सरकार में वन मंत्री रह चुके उमंग सिंघार और सोनिया की मुलाकात मेट्रोमोनियल वेबसाइट के जरिए हुई थी।

भारत में दूसरी लहर नहीं आने की भविष्यवाणी करने वाले वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने सरकारी पैनल से दिया इस्तीफा

वरिष्ठ वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने भारत में कोविड-19 के प्रकोप की गंभीरता की भविष्यवाणी करने में विफल रहने के बाद भारतीय SARS-CoV-2 जीनोम सीक्वेंसिंग कंसोर्टिया (INSACOG) के वैज्ञानिक सलाहकार समूह के अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया।

163 फुटबॉल मैदान के बराबर था हमास का सुरंग, इजरायल ने ध्वस्त किया: 820 आतंकी ठिकाने भी तबाह

इजरायल ने कहा है कि अब इस 9.3 मील के क्षेत्र का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए नहीं किया जा सकेगा। इसे रातोंरात ध्वस्त कर दिया गया।

मेरठ के जुड़वा: 24 साल पहले 3 मिनट के अंतर पर पैदा हुए, कोरोना से कुछ घंटों के अंतर पर हुई मौत

मेरठ के जुड़वा भाइयों जोफ्रेड वर्गीज ग्रेगरी और राल्फ्रेड जॉर्ज ग्रेगरी की कोरोना के वजह से 24 साल की उम्र में मौत हो गई।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,390FansLike
96,203FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe