Tuesday, March 2, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया राम कृष्ण के बाद एक और पत्रकार ने इंडिया टुडे की खोली पोल, राजदीप...

राम कृष्ण के बाद एक और पत्रकार ने इंडिया टुडे की खोली पोल, राजदीप को बता दिया- दल्ला

राजदीप पर निशाना साधते हुए कहते हैं कि उनमें कोई नैतिकता नहीं है। वह कॉन्ग्रेस के चुनाव जीतने पर नाचते हैं। सोनिया गाँधी से इंटरव्यू पर सबसे मुश्किल सवाल के नाम पर उनकी कुकिंग के बारे में पूछते हैं। आगे रिया के इंटरव्यू का जिक्र करते हुए वह कहते हैं कि सरदेसाई कोई पत्रकार नहीं, दल्ला हैं।

आजतक की वेबसाइट में कार्यरत राम कृष्ण ने वामपंथी संपादकों की प्रताड़ना से तंग आकर पीएमओ से गुहार लगाई थी। इसके बाद कई लोग इस संस्थान में काम करने के अपने अनुभवों को लेकर सोशल मीडिया में लिख रहे हैं। इनमें से एक नाम राकेश कृष्णन्न सिम्हा का है। वर्तमान में न्यूजीलैंड में पत्रकारिता कर रहे सिम्हा का दावा है कि वे इंडिया टुडे में काम कर चुके हैं।

उन्होंने इंडिया टुडे और आजतक की स्वामित्व वाले लिविंग मीडिया ग्रुप की कार्यसंस्कृति की पोल खोलते हुए कई आरोप लगाए हैं।

राकेश ने ट्वीट कर दावा किया है कि उन्होंने इस संस्थान में 2 साल कॉपी एडिटर के तौर पर काम किया था। जब वह संस्थान से जुड़े थे तो वहाँ रैकेट शुरू हो गया था, जिसमें संपादक लेखक नहीं फिक्सर हो गए थे। खोजी पत्रकारों की स्टोरी मारी जाती थी ताकि सुमित मुखर्जी जैसे जज बच सकें। उनका दावा है कि उस समय कई संपादकों ने राजनेताओं को ब्लैकमेल करने के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल किया।

अपने ट्वीट में उन्होंने जस्टिस मुखर्जी पर रिश्वत लेने का आरोप लगाते हुए कहा है कि वे कॉल गर्ल्स में भी दिलचस्पी लेते थे। उन्हें ‘लेग पीस’ कहकर बुलाते थे। इतने के बावजूद, इंडिया टुडे को जब जस्टिस के ख़िलाफ़ सबूत मिले तो उसने सबूत सीबीआई को सौंपने की बजाए एक्सक्लूसिव स्टोरी के नाम पर पूरी कहानी को मार दिया।

राकेश ने इंडिया टुडे के चुनावी पोल को फर्जी करार देते हुए कहा है कि उन्हें इंडिया टुडे से जुड़े पोलिंग फर्म ने बताया था कि मनमुताबिक नतीजे दिखाने के लिए उन्हें पैसा दिया जाता है। उनका यह भी दावा है कि जब वे इंडिया टुडे से जुड़े तो उसका सर्कुलेशन सुनकर उन्हें गर्व होता था। संस्थान का कहना था कि उनका सर्कुलेशन 2.5 लाख से 4 लाख तक है। जबकि थॉम्पसन प्रेस से जुड़े उनके एक आंतरिक सूत्र ने इसकी हकीकत बताया कि यह 25 000 से ज्यादा नहीं है। ज्यादा से ज्यादा ये 40,000 पहुँचता है।

सिम्हा कहते हैं कि इंडिया टुडे में कॉपी एडिटर्स से ही एडिटर्स को झूठी चिट्ठियाँ लिखवाई जाती थी। दावा किया जाता था कि लाखों में मैग्जीन का वितरण है, जबकि वास्तविकता में पाठकों से उन्हें 5-6 पत्र ही मिला करते थे। कभी-कभी ये संख्या शून्य होती है। कई बार उन लोगों को यह भी लगता था कि इन 5-6 पत्रों में से 2-3 पत्र तो एक ही इंसान लिखता था। इसके अलावा वहाँ ऐसे संपादकों को काम पर रखा गया जो सरकार को प्रभावित कर सके ताकि कंपनी को एफएम और सैटेलाइट टीवी लाइसेंस मिले।

संस्थान के सर्वेक्षणों पर पत्रकार का कहना है कि वह सब दिखावा होता था। जो मुख्यमंत्री सबसे ज्यादा विज्ञापन दे, वही सबसे बेहतर मुख्यमंत्री होता था और उसका स्थान ही सबसे ऊपर रखा जाता था। राकेश कहते हैं कि वह इंडिया टुडे में इंदरजीत बधवार जैसे लोगों को पढ़कर बड़े हुए। लेकिन जैसे ही संस्थान में गए, उन्हें पता लगा कि वहाँ फिक्सर का राज है। वह कहते हैं कि उन्हें हैरानी नहीं है कि राजदीप को लिविंग मीडिया ने हायर किया, क्योंकि वैसे ही लोग उस संस्थान की जरूरत पूरा कर सकते हैं।

राजदीप पर निशाना साधते हुए कहते हैं कि उनमें कोई नैतिकता नहीं है। वह कॉन्ग्रेस के चुनाव जीतने पर नाचते हैं। सोनिया गाँधी से इंटरव्यू पर सबसे मुश्किल सवाल के नाम पर उनकी कुकिंग के बारे में पूछते हैं। आगे रिया के इंटरव्यू का जिक्र करते हुए वह कहते हैं कि सरदेसाई कोई पत्रकार नहीं, दल्ला हैं।

लिविंग मीडिया को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने दावा किया है कि संस्थान का सच्चाई और न्याय से कोई लेना-देना नहीं है। वे सिर्फ हर कीमत पर नकदी चाहते हैं।

बता दें कि आज ऑपइंडिया ने आजतक के ही एक पत्रकार राम कृष्ण की आपबीती पर विस्तृत रिपोर्ट की थी। जिनके आरोपों के बाद इंडिया टुडे को लेकर यह मुद्दा गरमाया। राम कृष्ण का आरोप था कि उनके संपादक उन्हें विचारधारा अलग होने के कारण प्रताड़ित करते हैं और प्रमोशन अप्रेजल भी रोका हुआ है। उनका आरोप है कि जब लॉकडाउन के समय में आर्थिक संकट से जूझते हुए उन्होंने संस्थान से मदद की अपेक्षा की तो संपादक पाणिनि आनंद ने उनसे गाली-गलौच की। उन्हें जान से मारने की धमकी। जिसके कारण अब उन्होंने पीएमओ को पत्र लिखा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

45 लाख बिहारी अब होंगे ममता के साथ? तेजस्वी-अखिलेश का TMC को समर्थन, दीदी ने लालू को कहा पितातुल्य

तेजस्वी यादव ने पश्चिम बंगाल में रह रहे बिहारियों से ममता बनर्जी को जिताने की अपील की। बिहार में CPM और कॉन्ग्रेस राजद के साथ गठबंधन में हैं।

नेपाल के सेना प्रमुख ने ली ‘मेड इन इंडिया’ कोरोना वैक्सीन, पड़ोसी देश को भारत ने फिर भेजी 10 लाख की खेप

नेपाल के सेना प्रमुख पूर्ण चंद्र थापा ने 'मेड इन इंडिया' कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लेकर भारत में बनी वैक्सीन की विश्वसनीयता को आगे बढ़ाया।

वरवरा राव को बेल की करें समीक्षा, जज शिंदे की भी हो जाँच: कम्युनिस्ट आतंक के मारे दलित-आदिवासियों की गुहार

नक्सल प्रभावित क्षेत्र के दलितों और आदिवासियों ने पत्र लिखकर वरवरा राव को जमानत देने पर सवाल उठाए हैं।

फुरफुरा शरीफ के लिए ममता बनर्जी ने खोला खजाना, चुनावी गणित बिगाड़ सकते हैं ‘भाईजान’

पश्चिम बंगाल में आदर्श अचार संहित लागू होने से कुछ ही घंटों पहले ममता बनर्जी की सरकार ने फुरफुरा शरीफ के विकास के लिए करोड़ों रुपए आवंटित किए।

‘हिंदू होना और जय श्रीराम कहना अपराध नहीं’: ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष रश्मि सामंत का इस्तीफा

हिंदू पहचान को लेकर निशाना बनाए जाने के कारण रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

बंगाल ‘लैंड जिहाद’: मटियाब्रुज में शेख मुमताज और उसके गुंडों का उत्पात, दलित परिवारों पर टूटा कहर

हिंदू परिवारों को पीटा गया। महिला, बुजुर्ग, बच्चे किसी के साथ कोई रहम नहीं। पीड़ित अस्पताल से भी लौट आए कि कहीं उनके घर पर कब्जा न हो जाए।

प्रचलित ख़बरें

गोधरा में जलाए गए हिंदू स्वरा भास्कर को याद नहीं, अंसारी की तस्वीर पोस्ट कर लिखा- कभी नहीं भूलना

स्वरा भास्कर ने अंसारी की तस्वीर शेयर करते हुए इस बात को छिपा लिया कि यह आक्रोश गोधरा में कार सेवकों को जिंदा जलाए जाने से भड़का था।

‘हिंदू होना और जय श्रीराम कहना अपराध नहीं’: ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष रश्मि सामंत का इस्तीफा

हिंदू पहचान को लेकर निशाना बनाए जाने के कारण रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

आस मोहम्मद पर 50+ महिलाओं से रेप का आरोप, एक के पति ने तलवार से काट डाला: ‘आज तक’ ने ‘तांत्रिक’ बताया

गाजियाबाद के मुरादनगर थाना क्षेत्र स्थित गाँव जलालपुर में एक फ़क़ीर की हत्या के मामले में पुलिस ने नया खुलासा किया है।

नमाज पढ़ाने वालों को ₹15000, अजान देने वालों को ₹10000 प्रतिमाह सैलरी: बिहार की 1057 मस्जिदों को तोहफा

बिहार स्टेट सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड में पंजीकृत मस्जिदों के पेशइमामों (नमाज पढ़ाने वाला मौलवी) और मोअज्जिनों (अजान देने वालों) के लिए मानदेय का ऐलान।

‘मैंने ₹11000 खर्च किया… तुम इतना नहीं कर सकती’ – लड़की के मना करने पर अंग्रेजी पत्रकार ने किया रेप, FIR दर्ज

“मैंने होटल रूम के लिए 11000 रुपए चुकाए। इतनी दूर दिल्ली आया, 3 सालों में तुम्हारा सहयोग करता रहा, बिल भरता रहा, तुम मेरे लिए...”

‘अल्लाह से मिलूँगी’: आयशा ने हँसते हुए की आत्महत्या, वीडियो में कहा- ‘प्यार करती हूँ आरिफ से, परेशान थोड़े न करूँगी’

पिता का आरोप है कि पैसे देने के बावजूद लालची आरिफ बीवी को मायके छोड़ गया था। उन्होंने बताया कि आयशा ने ख़ुदकुशी की धमकी दी तो आरिफ ने 'मरना है तो जाकर मर जा' भी कहा था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,201FansLike
81,851FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe