Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षापुलवामा में आतंकी हमला, CRPF जवान वीरगति को प्राप्त: सेब के बगीचे में छिप...

पुलवामा में आतंकी हमला, CRPF जवान वीरगति को प्राप्त: सेब के बगीचे में छिप कर गोलीबारी, 5 दिन में दूसरा हमला

हमले के बाद हुई पड़ताल में सामने आया है कि सेब के बगीचे के नजदीक से चेकपोस्ट पर फायरिंग की गई जिसमें एएसआई विनोद बुरी तरह घायल हुए। मौके पर मौजूद उनके अन्य साथी उन्हें अस्पताल लेकर गए लेकिन वहाँ वह ज्यादा देर जीवित नहीं रह पाए।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों ने एक बार फिर सुरक्षाबल पर हमला किया है। घटना गंगू क्रॉसिंग की है। हमले में एक सीआरपीएफ जवान के वीरगति प्राप्त करने की खबरें आ रही हैं। उनकी पहचान एएसआई विनोद कुमार के तौर पर हुई है। सुरक्षाबल ने इलाके की घेराबंदी शुरू कर दी है। आतंकियों की तलाश की जा रही है।

अभी तक की पड़ताल में सामने आया है कि सेब के बगीचे के नजदीक से चेकपोस्ट पर फायरिंग की गई जिसमें एएसआई विनोद बुरी तरह घायल हुए। मौके पर मौजूद उनके अन्य साथी उन्हें अस्पताल लेकर गए लेकिन वहाँ वह ज्यादा देर जीवित नहीं रह पाए।

एक अधिकारी ने बताया कि ये हमला रविवार दोपहर 2 बजकर 20 मिनट पर गंगू इलाके में पुलिस और सीआरपीएफ की संयुक्त नाका पार्टी पर अचानक हुआ।

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबल पर आतंकियों का एक हफ्ते में ये दूसरा हमला है। इससे पहले 12 जुलाई 2022 को कश्मीर जोन पुलिस के ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में कहा गया था कि श्रीनगर शहर में आतंकियों ने लाल बाजार क्षेत्र में फायरिंग की। घटना में 3 पुलिसकर्मी जख्मी हो गए और उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

हालाँकि बाद में खबर आई कि मंगलवार को हुए इस हमले में एएसआई मुश्ताक अहमद लोन वीरगति को प्राप्त हो गए। मुश्ताक उस समय लाल चौक ड्यूटी पर थे कि तभी आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। आतंकियों के जाने के बाद मुश्ताक को अस्पताल भी लेकर जाया गया, लेकिन उन्होंने दम तोड़ दिया। घटना की जिम्मेदारी आईएसआईएस द्वारा ली गई थी।

उल्लेखनीय है कुछ पाकिस्तानी पिछले दिनों पुलवामा जैसे हमलों को दोहराने की बात करते सोशल मीडिया पर करते हुए दिखे थे। खुलेआम भारतीय पत्रकार आदित्य राज कौल से कहा गया कि वो लोग बस पुलवामा और उरी स्ट्राइकों का इंतजार करें। ये ट्वीट 8 जुलाई का ही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

5 साल में 123% तक बढ़ गए मुस्लिम वोटर, फैक्ट फाइडिंग रिपोर्ट से सामने आई झारखंड की 10 सीटों की जमीनी हकीकत: बाबूलाल का...

झारखंड की 10 विधानसभा सीटों के कई मुस्लिम बहुल बूथ पर 100% से अधिक वोटर बढ़ गए हैं। यह खुलासा भाजपा की एक रिपोर्ट में हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -