डॉ रेड्डी के पास बन्दूक होती तो वो भी वही करतीं जो पुलिस ने किया: साइना ने ‘मानवाधिकार पत्रकार’ को लताड़ा

"तुम्हारे विचारों से न तो बलात्कारियों के मन में कोई डर बैठेगा और न ही क़ानून बदल जाएगा। घटना के समय अगर डॉक्टर रेड्डी के पास बन्दूक होती तो वो भी चारों को मार गिरातीं।"

हैदराबाद में डॉक्टर प्रीति (बदला हुआ नाम) गैंगरेप व हत्याकांड के चारों आरोपितों को हैदराबाद पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया। घटनास्थल पर क्राइम सीन के रीक्रिएशन के दौरान मोहम्मद आरिफ और जोल्लू शिवा समेत सभी आरोपितों ने पुलिस का बन्दूक छीन कर भागने की कोशिश की और पत्थरबाजी की, जिसके बाद पुलिस को आत्मरक्षा में उन्हें गोली मारनी पड़ी। बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल और पहलवान गीता फोगट सहित कई अन्य सेलेब्रिटीज ने भी हैदराबाद पुलिस की पीठ थपथपाई। एक पत्रकार ने साइना नेहवाल के इस बयान के लिए उनकी आलोचना की, जिसके बाद उन्हें साइना ने करारा जवाब दिया।

विश्व की नंबर एक बैडमिंटन खिलाड़ी रहीं साइना नेहवाल के बयान को बेतुका बताते हुए पत्रकार अन्ना एमएम वेत्तिकाड ने कहा कि इससे उन्हें भले ही तालियाँ मिल जाएँगी लेकिन इससे समाज को काफ़ी हानि होगी। अन्ना ने कहा कि महिलाओं की पॉजिटिव रोल मॉडल होने के बावजूद साइना का इस तरह से बयान देने का दुष्प्रभाव बहुत बड़ा होगा। उन्होंने कहा कि वो साइना से निवेदन करती हैं, भीख माँगती हैं और अनुरोध करती हैं कि किसी भी मुद्दे पर टिप्पणी करने से पहले उसका अच्छे से अध्ययन कर लें।

साइना नेहवाल द्वारा हैदराबाद पुलिस की तारीफ़ किया जाना फ़िल्म समीक्षक वेत्तिकाड को नागवार गुजरा और उन्होंने स्टार बैडमिंटन प्लेयर को भला-बुरा सुना दिया। इसके बाद साइना ने पत्रकार को करारा जवाब दिया। साइना ने स्पष्ट कर दिया कि वो इसीलिए बयान नहीं देती हैं कि लोग तालियाँ पीटें। साइना नेहवाल ने कहा कि पीड़िता डॉक्टर रेड्डी पर जो गुजरी, उसके बारे में उनके पास सोचने तक की भी हिम्मत नहीं है। हालाँकि, उन्होंने कहा कि इस घटना के होने के बावजूद उन्हें बाद में ख़ुशी तब मिली जब चारों बलात्कारियों को पुलिस ने मार गिराया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

साइना नेहवाल ने पत्रकार अन्ना को कहा कि उनके विचारों से न तो बलात्कारियों के मन में कोई डर बैठेगा और न ही क़ानून बदल जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर इस घटना के समय पीड़िता के पास बन्दूक होती तो वो भी यही करतीं। अगर डॉक्टर रेड्डी के पास बन्दूक होती तो वो भी चारों को मार गिराती। साइना नेहवाल के इस जवाब के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने उनकी प्रशंसा की।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

लोहरदगा हिंसा
मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक हिंदुओं के घरों और संपत्ति को चुन-चुन कर निशाना बनाया गया। पथराव करने वालों में 8 से 12 साल तक के मुस्लिम बच्चे भी शामिल थे। 100 से ज्यादा घायलों में से कई की हालत गंभीर।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,804फैंसलाइक करें
35,951फॉलोवर्सफॉलो करें
163,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: