Wednesday, July 17, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय44 साल के सैफुल आरिफ ने बकरी से किया निकाह, मौजूद रहे रिश्तेदार और...

44 साल के सैफुल आरिफ ने बकरी से किया निकाह, मौजूद रहे रिश्तेदार और गाँव वाले: वीडियो भी वायरल

इसमें बहुत से स्थानीय लोगों ने भी हिस्सा लिया। इसके लिए सभी जरूरी रस्मों को भी अदा किया गया। साथ ही शख्स के रिश्तेदार और गाँव वाले भी इस निकाह में मौजूद रहे।

सोशल मीडिया पर फेमस होने या वायरल होने के लिए लोग तरह-तरह की अजीबोगरीब हरकतें करते रहते हैं। ऐसा ही एक ताजा मामला इंडोनेशिया से आया है। जहाँ एक व्यक्ति ने बकरी से निकाह कर लिया है।

रिपोर्ट में बताया गया कि निकाह करने वाले शख्स का नाम सैफुल आरिफ है, जो 44 साल का है। वह YouTube और TikTok पर एक कंटेंट क्रिएटर है। सैफुल इंडोनेशिया के बेनजेंग जिले के क्लैमपोक गाँव में रहते हैं। वहाँ पर 5 जून को उन्होंने बकरी के साथ निकाह किया। इसमें बहुत से स्थानीय लोगों ने भी हिस्सा लिया। इसके लिए सभी जरूरी रस्मों को भी अदा किया गया। साथ ही शख्स के रिश्तेदार और गाँव वाले भी इस निकाह में मौजूद रहे।

इसके अलावा दूल्हे ने निकाह की पूरी ड्रेस भी पहनी थी, जबकि बकरी को एक खास पोशाक पहनाई गई। शख्स ने इस वीडियो को सोशल मीडिया पर अपलोड किया। ‘सूर्या टीवी’ ने इस वीडियो को रीपोस्ट किया। कई न्यूज चैनल्स ने भी इसको पोस्ट किया।

उन्होंने निकाह के लिए बकरी को दहेज भी दिया। यह रकम 117 रुपए थी। इस निकाह का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ। जिसके बाद उस शख्स की जमकर आलोचना हुई। एक शख्स ने ट्वीट कर लिखा कि इस आदमी ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है। इसको इलाज की जरूरत है। दूसरे शख्स ने निकाह में शामिल लोगों और उस युवक पर कार्रवाई की माँग की।

विवाद बढ़ता देख शख्स दोबारा से सोशल मीडिया पर आया। उसने सफाई देते हुए कहा कि ये वीडियो उनकी ओर से मजाक में बनाया गया था। ये निकाह वास्तव में नहीं हुआ था। वीडियो में जो कुछ भी दिख रहा वो उनकी एक्टिंग का पार्ट है, ऐसे में लोग इसे सच ना समझें।

शख्स ने बताया कि इस वीडियो को बनाने का मकसद इसे सोशल मीडिया पर वायरल करना था और उनका इससे किसी को ठेस पहुँचाने का कोई इरादा नहीं था। उनका एकमात्र लक्ष्य लोगों का मनोरंजन करना था। इसके लिए सैफुल ने अल्लाह से माफी माँगी और इस तरह की हरकतें दोबारा न करने का वादा किया। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -