Sunday, July 21, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकराजनीति फ़ैक्ट चेकजिस साल बलिदान हुए टंट्या भील, उस साल पैदा ही हुए थे RSS के...

जिस साल बलिदान हुए टंट्या भील, उस साल पैदा ही हुए थे RSS के संस्थापक: राहुल गाँधी निकले झूठे, कहा था- संघ ने फाँसी पर चढ़वाया

राहुल गाँधी के भाषण की क्लिप अब सोशल मीडिया पर वायरल है। लोग उनका यह बयान ट्वीट करते हुए कह रहे हैं, "इसलिए लोग तुमको पप्पू कहते हैं।"

कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के दौरान मध्यप्रदेश में दिया गया भाषण विवादों में है। अपने भाषण में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी को घेरने के लिए कई बातें कहीं। इसी क्रम में वह आरएसएस पर भी बरसे और ऐसी बातें बोलते गए जो बिलकुल निराधार थीं।

राहुल गाँधी ने बोला कि जनजातीय समुदाय के क्रांतिकारी टंट्या मामा को अंग्रेजों ने फाँसी पर चढ़ाया और अंग्रेजों का साथ देने वाले आरएसएस थी। उन्होंने इस दौरान आदिवासी और वनवासी शब्द को भी मुद्दा बनाया। राहुल ने कहा कि वो लोग जनजातीय समुदाय के लोगों को देश का पहला नागरिक मानते हैं इसलिए आदिवासी कहते हैं जबकि भाजपा उन्हें जंगल में रहने वाला मानती है इसलिए वनवासी बुलाती है।

बता दें कि कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी के इस बयान के बाद उनका जमकर मजाक उड़ रहा है। भाजपा के कुछ नेताओं ने उन्हें दोबारा से पप्पू कहना शुरू कर दिया है। इसका कारण है राहुल गाँधी का भाषण देते समय अर्जित किया गया अल्पज्ञान। 

उन्होंने मध्य प्रदेश में क्रांतिकारी टंट्या मामा की जन्मस्थली में भाषण देने के दौरान 24 मिनट 51 सेकेंड के स्लॉट पर कहा कि आरएसएस की मदद पाकर अंग्रेजों ने टंट्या मामा को फाँसी पर चढ़वाया। जबकि यदि तथ्यों पर गौर करें तो इस बात का हकीकत से दूर-दूर तक वास्ता नहीं है।

क्रांतिकारी टंट्या भील ने साल 1889 को बलिदान दिया था। वहीं संघ की स्थापना करने वाले डॉ केशव हेडगेवार उसी वर्ष जन्मे थे। उन्होंने टंट्या भील के बलिदान के 36 साल (1925) बाद जाकर राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ को स्थापित किया। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर कैसे संघ ने अंग्रेजों की मदद की होगी।

इसी भाषण में राहुल गाँधी ने बिरसा मुंडे के बलिदान का उदाहरण देकर भी आरएसएस को कोसा…बिना ये बात जाने कि क्रांतिकारी बिरसा मुंडा का जन्म 1875 में हुआ था और उन्होंने बलिदान 1900 में दिया था।

राहुल गाँधी के भाषण की क्लिप अब सोशल मीडिया पर वायरल है। लोग उनका यह बयान ट्वीट करते हुए कह रहे हैं, “इसलिए लोग तुमको पप्पू कहते हैं।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -