Saturday, July 20, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेककोरोना वैक्सीन के लिए बुजुर्गों को ड्रग अथॉरिटी से कॉल, माँग रहे OTP-आधार: Fact...

कोरोना वैक्सीन के लिए बुजुर्गों को ड्रग अथॉरिटी से कॉल, माँग रहे OTP-आधार: Fact Check

कोरोना वैक्सीन के आने के बाद से इसे लेकर कई तरह के झूठ मीडिया व सोशल मीडिया पर तैर रहे हैं।

कोरोना वैक्सीन के आते ही इस पर फर्जी जानकारी फैलाने का काम धड़ल्ले से किया जा रहा है। जालसाज इसके जरिए धोखाधड़ी को अंजाम देने की भी कोशिश कर रहे।

खबर है कि कोरोना वैक्सीन के नाम पर जालसाज वरिष्ठ नागरिकों को फोन करके खुद को ड्रग अथॉरिटी की ओर से बता रहे हैं और उनसे उनका आधार व ओटीपी माँग रहे हैं। अब चूँकि ऐसी जानकारियाँ साझा करना साइबर अपराध को बढ़ावा देती है, इसलिए पीआईबी ने इन शिकायतों पर संज्ञान लिया है।

पीआईबी ने इस शिकायत पर फैक्टचेक करते हुए लिखा, “ड्रग अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया की ओर से होने का दावा करने वाले कुछ जालसाज़ वरिष्ठ नागरिकों को COVID19 वैक्सीन आवंटन के लिए अपने आधार और ओटीपी की पुष्टि करने के लिए बुला रहे हैं। यह बदमाशों की करतूत है। ऐसे टेलीकॉलर्स को कभी भी ओटीपी और व्यक्तिगत विवरण न दें।”

यहाँ बता दें कि कोरोना वैक्सीन के आने के बाद से इसे लेकर कई तरह के झूठ मीडिया व सोशल मीडिया पर तैर रहे हैं। हाल में 18 जनवरी को कई एजेंसियों ने दावा किया कि यूपी में वैक्सीन लेने के बाद 48 साल के वार्ड बॉय की मृत्यु हो गई जबकि सच्चाई ये थी कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट में साफ कहा था कि इसका टीके से कोई संबंध नहीं है। उसकी मृत्यु का कारण कोई और बीमारी थी।

कॉन्ग्रेस समर्थक साकेत गोखले ने भी ऐसे फर्जी दावे को सनसनीखेज बनाकर पेश किया। उन्होंने कहा कि गर्भवती महिलाओं को ये वैक्सीन लेने से बचना चाहिए, क्योंकि इसके बारे में जानकारी सार्वजनिक नहीं है। सोचिए, ये हाल तब है जब स्वास्थ्य मंत्री कह चुके हैं कि टीके से जुड़ी सारी जानकारी जमीनी स्तर पर उपलब्ध है और 15 जनवरी को शेयर ट्वीट में बता चुके हैं कि किसे वैक्सीन लेने से बचना है।

अब जिस तरह फर्जी जानकारियों से बचने के लिए सरकार पहले ही सभी सूचना मुहैया करवा चुकी है। उसी प्रकार जालसाजों की धोखाधड़ी से लोगों को बचाने के लिए भी प्रयास कर रही है। सरकार की ओर से स्पष्ट बता दिया गया है कि कोरोना वैक्सीन को देने की प्रक्रिया में वह किस तरह से और किन वर्गों का चुनाव कर रहे हैं। इसके अलावा यह जानकारी भी मौजूद है कि वैक्सीन कब, कहाँ, किसे और कैसे दिया जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -