Wednesday, April 14, 2021
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष व्यंग्य: नक्सली भाभीजी घर पर नहीं हैं तो गई कहाँ? पप्पू-पिंकी के लिए चमत्कार...

व्यंग्य: नक्सली भाभीजी घर पर नहीं हैं तो गई कहाँ? पप्पू-पिंकी के लिए चमत्कार करने आई थी या…

"जब पप्पू-पिंकी जैसे नामी ठगों के इलाके की तरफ बढ़ने की इनपुट दिल्ली से आ गई थी, तो तुमने ढिलाई क्यों बरती?" दारोगा हप्पू सिंह बोले, "मुझे तो मामला जात का भी लगता है सर! किसी बड़े पत्रकार ने भी ‘कौन जात हो?’ पूछना शुरू किया है!"

खड़कसिंह के खड़कने से खड़कती थीं खिड़कियाँ, लेकिन यहाँ तो कोई खड़कसिंह की ही कुण्डी खड़का गया था। मामला संगीन था, और एसपी खड़कसिंह का ख़याल था कि चूक दारोगा हप्पू सिंह से ही हुई होगी। वैसे भी हप्पू सिंह की रिश्वत लिए बिना काम ना करने और रिश्वत लेकर काम करने की शिकायतें उनके पास पहले से आती रही थीं।

इस बार मामला किसी बड़ी चूक का था। राज्य मुख्यालय से कमिश्नर साहब को और कमिश्नर साहब के पास से उनके पास फोन आ चुका था। खड़कसिंह ने स्थानीय ठेकेदार के सूमो से बैटरी निकलवा कर पुलिस जीप में लगवा ली थी। खुद गश्त पर निकलना था सो पेट्रोल आज बेचा नहीं गया।

दारोगा हप्पू सिंह अपने इलाके के बाहर ही मिल गए। खड़कसिंह कड़के, “जब पप्पू-पिंकी जैसे नामी ठगों के इलाके की तरफ बढ़ने की इनपुट दिल्ली से आ गई थी, तो तुमने ढिलाई क्यों बरती?” सलामी ठोकते ही दरोगा हप्पू सिंह अगर-मगर करते शुरू हो गए। इतने में गली के पहले ही मकान से जोरदार आवाज आई। ऐसा लगा किसी ने किसी को जोरदार कंटाप धर दिया है। “आई एम लोविंग इट” की आवाज आई! “कोई दुर्घटना तो हो ही गई है”, खड़कसिंह बोले। हप्पू सिंह की तोंद उनसे पहले कमरे में घुसी।

भड़भूती और मौनमोहन किसी मासूम पर जुटे पड़े थे। पुलिस को देखकर उन्होंने हाथ समेटे। पिटते हुए व्यक्ति ने फिर जनता की तरह आवाज लगाई! “आई एम लोविंग इट!” खड़कसिंह ने हप्पू सिंह को देखा, “तुम्हारा क्षेत्र है, क्या ऐसे ही चलती है व्यवस्था?” हप्पू गड़बड़ाए, “हजूर बिलकुल नया मामला है। भाभी जी के होते इस चिरखुट के साथ ऐसी मारपीट नहीं होती थी।

खड़कसिंह को उनका झूठ पहचानते देर ना लगी। “आखिर ये भाभीजी का मामला क्या है?” वो बोले। खिड़कियों से ली गई आपत्तिजनक तस्वीरें निकालते दारोगा हप्पू सिंह बोले, “मुझे तो मामला जात का भी लगता है सर! किसी बड़े पत्रकार ने भी ‘कौन जात हो?’ पूछना शुरू किया है!

खड़कसिंह खड़खड़ाए, “तो क्या अब हम पर भी जातिवाद का आरोप लगेगा?” सामाजिक न्याय के दौर में ही उनकी बिरादरी को सत्ता की स्थिति से बर्खास्त किया जा चुका था। जमींदारी तो उनकी नेहरू युग में ही चली गई थी, मगर कॉमरेडों ने अब तक उन्हें गालियाँ देना बंद नहीं किया था।

पीटने वाले का नाम अनोखेलाल था। पूरा इलाका उसकी अजीब हरकतों को जानता था। कोई अजीब बात नहीं थी कि मौनमोहन, उर्फ़ काम के मामलों पर चुप्पी साध जाने वाले मनमोहन के खिलाफ गवाही देने कोई नहीं आया।

अनोखेलाल को पीट रहा दूसरा व्यक्ति भड़भूती तो शक्ल से ही शरीफ दिख रहा था। खड़कसिंह कड़के, “मामला क्या है? आखिर पीट क्यों रहे थे इसे?” “हुजूर”, भड़भूती बोले, “ये अश्लील आदमी भाभी जी को ढूँढ रहा था। गली में दो ही लोगों की पत्नियाँ भाभी कहलाने योग्य युवा है। एक मेरी और दूसरी इस मौनमोहन की! चुनांचे हमने इसे धो दिया।” मामला पेंचीदा हो गया था। अगर भाभी जी सचमुच घर पर थी, तो आखिर ये अनोखेलाल उसे ढूँढ क्यों रहा था? आसानी से घर के बाहर आकर मिल आता!

पप्पू-पिंकी गले लगा के गए!” इतने में अनोखेलाल ने रोना शुरू किया। “अरे हम तो मोहल्ले वाले हैं” आगे अनोखेलाल बोला, मगर इतने में ही मौनमोहन ने उसे लात जड़ दी। “मतलब भाभीजी घर में नहीं हैं?” दारोगा हप्पू सिंह बोले। उनका इरादा वैसे भी भड़भूती के घर की तलाशी लेने का था। उसकी प्रिय भौजाई की पसंद की मगज़ीन “मेरी चंट सहेली” वैसे भी उसे दरवाजे पर पड़ी दिख गई थी। समस्या ये थी कि इलाके भर में करते के लिए मशहूर वाली भाभी जी के घर ऐसे ही घुस जाने की उसकी हिम्मत नहीं थी। उसने खड़कसिंह के साथ मौजूद पुलिस दस्ते को देखा और अपना सीना छप्पन इंच किया। देश में ये करना भी आजकल साम्प्रदायिकता की निशानी थी।

कल तक हर केमरे के सामने आने वाली नई भाभी जी आखिर लापता कहाँ हुई, ये एक बड़ा सवाल था। संसद से लेकर विधानसभा तक इस मुद्दे पर हिल चुकी थी। “साहेब मेरी नौकरी…” आखिर दारोगा हप्पू सिंह बोला। “मामला निपटा सको तो बच भी सकती है”, खड़कसिंह खड़के। और अंत में दारोगा हप्पू सिंह ने भड़भूती के मकान के सामने जाकर आवाज लगा दी!

“भाभीजी घर पर हैं?”

थोड़ी देर सन्नाटा रहा। अंत में दरवाजा खुला और एक रेशमी परिधान में लिपटी गोरी ऊँगली ने इशारा किया। कान लगा कर हप्पू सिंह बात सुन आए। खड़कसिंह से वो बोले, “साहेब, भौजाई टेम्प्रोरी थी। आपका हुक्म हो तो एमपी से वापस मँगा लें?” खड़कसिंह सोच में पड़ गए। भाभीजी का घर से अचानक गायब होना एक बड़ी समस्या थी। अगर भड़भूती जी वाली और मौनमोहन जी वाली दोनों घर में थी तो जो नई थी, और पप्पू-पिंकी का प्रचार कर गई थी, वो कौन थी? मामला लापता नई वाली भाभीजी का था। इतने में शोर सुनकर अंगूरी भाभी चली आईं।

अरे ये क्या तुमने तो भड़भूती जी का चमत्कार ही कर डाला!’ वो बोली। दारोगा हप्पू सिंह समझाने लगे, “चमत्कार नहीं भाभी बला..”कि इतने में खड़कसिंह ने उन्हें चकोटी काट ली। “हें हे हें”, खड़कसिंह ने मुस्कुराते, हाथ जोड़ते कहा, “भाभी जी वो नई वाली भाभी?” “एमपी ही तो गई है, एमपी हुई थोड़ी है जो पूरा महकमा हिलाए हुए हो?” अंगूरी भाभी ने पुछा। इतने में भड़भूती जी की वाइफ भी खिड़की से झाँक कर चिल्ला पड़ीं, “पिंकी गले लगा के गई तो थी”। अफ़सोस करते खड़कसिंह बोले, “चलो वापस एमपी वाली ना सही, लेकिन भाभीजी घर पर हैं”।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उद्धव ठाकरे ने लगाई कल रात से धारा 144 के साथ ‘Lockdown’ जैसी सख्त पाबंदियाँ, उन्हें बेस्ट CM बताने में जुटे लिबरल

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने राज्य में कोरोना की बेकाबू होती रफ्तार पर काबू पाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने पीएम से अपील की है कि राज्य में विमान से ऑक्सीजन भेजी जाए। टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाई जाए।

पाकिस्तानी पाठ्यपुस्तकों में पढ़ाया जा रहा काफिर हिंदुओं से नफरत की बातें: BBC उर्दू डॉक्यूमेंट्री में बच्चों ने किया बड़ा खुलासा

वीडियो में कई पाकिस्तानी हिंदुओं को दिखाया गया है, जिन्होंने पाकिस्तान में स्कूल की पाठ्यपुस्तकों में हिंदू विरोधी प्रोपेगेंडा की तरफ इशारा किया है।

‘पेंटर’ ममता बनर्जी को गुस्सा क्यों आता है: CM की कुर्सी से उतर धरने वाली कुर्सी कब तक?

पिछले 3 दशकों से चुनावी और राजनीतिक हिंसा का दंश झेल रही बंगाल की जनता की ओर से CM ममता को सुरक्षा बलों का धन्यवाद करना चाहिए, लेकिन वो उनके खिलाफ जहर क्यों उगल रही हैं?

यूपी के 15,000 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल हुए अंग्रेजी मीडियम, मिशनरी स्कूलों को दे रहे मात

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे भी मिशनरी व कांवेंट स्कूलों के छात्रों की तरह फर्राटेदार अंग्रेजी बोल सकें। इसके लिए राज्य के 15 हजार स्कूलों को अंग्रेजी मीडियम बनाया गया है, जहाँ पढ़ कर बच्चे मिशनरी स्कूल के छात्रों को चुनौती दे रहे हैं।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।

दिल्ली में नवरात्र से पहले माँ दुर्गा और हनुमान जी की प्रतिमाओं को किया क्षतिग्रस्त, सड़क पर उतरे लोग: VHP ने पुलिस को चेताया

असामाजिक तत्वों ने न सिर्फ मंदिर में तोड़फोड़ मचाई, बल्कि हनुमान जी की प्रतिमा को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। बजरंग दल ने किया विरोध प्रदर्शन।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

जहाँ खालिस्तानी प्रोपेगेंडाबाज, वहीं मन की बात: क्लबहाउस पर पंजाब का ठेका तो कंफर्म नहीं कर रहे थे प्रशांत किशोर

क्लबहाउस पर प्रशांत किशोर का होना क्या किसी विस्तृत योजना का हिस्सा था? क्या वे पंजाब के अपने असायनमेंट को कंफर्म कर रहे थे?

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!

यमुनानगर में माइक से यति नरसिंहानंद को धमकी दे रही थी मुस्लिम भीड़, समर्थन में उतरे हिंदू कार्यकर्ता: भारी पुलिस बल तैनात

हरियाणा के यमुनानगर में यति नरसिंहानंद के मसले पर टकराव की स्थिति को देखते हुए मौके पर भारी पुलिस बल की तैनाती करनी पड़ी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,173FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe