Monday, July 22, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'कट्टर गुंडागर्दी है बॉलीवुड का बॉयकॉट करना': 'कांतारा' में पुलिस ऑफिसर बने अभिनेता ने...

‘कट्टर गुंडागर्दी है बॉलीवुड का बॉयकॉट करना’: ‘कांतारा’ में पुलिस ऑफिसर बने अभिनेता ने कहा – एक्टर्स के खिलाफ हो रही नफरत की राजनीति, एक हो फिल्म बिरादरी

उन्होंने लिखा है, "समय आ गया है कि पूरे देश की फिल्म बिरादरी बॉलीवुड फिल्मों के बहिष्कार, कट्टर गुंडागर्दी तथा एक्टर्स के खिलाफ नफरत की राजनीति की निंदा करके बॉलीवुड का समर्थन करे।"

कन्नड़ की सुपरहिट फिल्म कांतारा में वन अधिकारी मुरलीधर की भूमिका निभाने वाले एक्टर किशोर कुमार जी (Kishore Kumar G) ने ‘बॉयकॉट बॉलीवुड’ की तुलना गुंडागर्दी से की है। किशोर, हाल ही में, ट्विटर अकाउंट हैक होने और KGF-2 को ‘बेसिर पैर की फिल्म’ बताकर चर्चा में आए थे।

किशोर कुमार जी ने बॉयकॉट बॉलीवुड को लेकर इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर की है। इस पोस्ट में उन्होंने अखबार की एक कटिंग शेयर की है, जिसमें सुनील शेट्टी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से बॉयकॉट बॉलीवुड ट्रेंड से मुक्ति दिलाने की अपील की थी। इसके साथ ही, किशोर ने लिखा है कि अब समय आ गया है कि ‘बॉयकॉट बॉलीवुड’ के खिलाफ पूरा बॉलीवुड एकजुट हो।

उन्होंने लिखा है, “समय आ गया है कि पूरे देश की फिल्म बिरादरी बॉलीवुड फिल्मों के बहिष्कार, कट्टर गुंडागर्दी तथा एक्टर्स के खिलाफ नफरत की राजनीति की निंदा करके बॉलीवुड का समर्थन करे।”

किशोर ने यह भी कहा है कि यह सरकार की बड़ी चूक है कि वह बॉलीवुड जैसे बड़े उद्योग को शातिर हमलों से नहीं बचा पाई है। उन्होंने लिखा है, “यह सरकारों की विफलता है कि वे दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में किसी व्यवसाय या उद्योग की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं कर सकते। फिर भी, फिल्म उद्योग के लोग बात नहीं कर रहे हैं, जहाँ डर का माहौल बनाया गया है।”

उन्होंने आगे लिखा है, “यह सब कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिम्मेदार सरकारी अधिकारियों के लिए शर्म की बात है। साथ ही, यह स्पष्ट तौर पर कानून का उल्लंघन है जो समाज में जहर घोल रहा है। स्थानीय फिल्म उद्योग में भी आग फैलने से पहले इसे रोकने और दंडित करने की जरूरत है।”

बता दें कि कन्नड़ की सुपरहिट फिल्म कांतारा में वन अधिकारी मुरलीधर की भूमिका निभाने वाले किशोर कुमार जी ब्लॉकबस्टर फिल्म KGF-2 पर टिप्पणी कर चर्चा में आए थे। उन्होंने कहा था, “मुझे नहीं पता कि यह गलत है या सही, लेकिन मैंने KGF 2 नहीं देखी है। यह मेरे टाइप का सिनेमा नहीं है। यह पर्सनल चॉइस है। मैं इस फिल्म (केजीएफ 2) को देखने के बजाय कोई ऐसी छोटे बजट की फिल्म देखना पसंद करूँगा, जो भले ही हिट न हुई हो, लेकिन सीरियस मुद्दे पर हो। ऐसी फिल्म जो कहानी को दर्शाती हो न कि बेसिर पैर की कहानी हो।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -