Wednesday, September 29, 2021
Homeविविध विषयअन्यभारत में Roche Antibody Cocktail को मिली आपातकालीन मंजूरी, कोविड मरीजों को ICU में...

भारत में Roche Antibody Cocktail को मिली आपातकालीन मंजूरी, कोविड मरीजों को ICU में जाने से रोकने में सहायक

Roche Antibody Cocktail कोरोना वायरस संक्रमण से अधिक खतरे वाले मरीजों के उपचार में सहायक है जिनकी स्थिति गंभीर होने की संभावना है। सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड्स कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) ने भारत में कोरोना मरीजों के लिए इलाज के लिए एंटीबॉडी कॉकटेल को आपातकालीन मंजूरी दे दी है।

भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच खबर आ रही है कि संक्रमण से लड़ने के लिए देश में Roche Antibody Cocktail के आपातकालीन उपयोग को मंजूरी दे दी गई है। Roche India के वितरण पार्टनर सिपला ने बुधवार (05 मई) को इसकी जानकारी दी। यह अनुमति अमेरिका में कॉकटेल के आपात इस्तेमाल की मंजूरी के लिए दाखिल किए गए डाटा और यूरोपीय संघ में कमेटी फॉर मेडिसिनल प्रोडक्ट्स फॉर ह्यूमन यूज की वैज्ञानिक राय के आधार पर दी गई है।

इस कॉकटेल दवा को मजूरी मिलने के बाद Roche India ने बयान जारी करके कहा कि आपातकालीन उपयोग को वैश्विक स्तर पर अनुमति मिलने के बाद अब भारत इसे आयात कर सकेगा जिसे सिपला के साथ भागीदारी के माध्यम से वितरित किया जा सकेगा। बयान में कहा गया है कि Roche Antibody Cocktail कोरोना वायरस संक्रमण से अधिक खतरे वाले मरीजों के उपचार में सहायक है जिनकी स्थिति गंभीर होने की संभावना है। सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड्स कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) ने भारत में कोरोना मरीजों के लिए इलाज के लिए एंटीबॉडी कॉकटेल को आपातकालीन मंजूरी दे दी है। 

यह दवा कृत्रिम रूप से निर्मित एंटीबॉडी Casirivimab और Imdevimab का कॉकटेल है। ये दोनों एंटीबॉडी मानव शरीर के द्वारा संक्रमण से बचने के लिए बनाई गई एंटीबॉडी की हूबहू नकल हैं। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने Covid-19 से संक्रमित होने के बाद इसी दवा का उपयोग किया था।

सिपला ने कहा है कि यह Roche Antibody Cocktail माइल्ड और मॉडरेट रूप से संक्रमित मरीजों के लिए उपयोगी है और उन्हें अस्पताल या आईसीयू तक पहुँचने से रोकने में सहायक है। हालाँकि कंपनी ने अभी इस दवा के लॉन्च होने और इसकी कीमत के बारे में जानकारी नहीं दी है। इसे Roche और Regeneron ने मिलकर बनाया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,039FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe