Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजनर्स निहा खान ने 29 कोविड वैक्सीन से भरी सिरिंज फेंक दी, पकड़े जाने...

नर्स निहा खान ने 29 कोविड वैक्सीन से भरी सिरिंज फेंक दी, पकड़े जाने पर कहा- ‘मूड खराब था’, अब होगी सेवा समाप्त

जमालपुर UPHC की प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. आफ़रीन, एएनएम निहा के द्वारा की जा रही लापरवाही से अवगत थीं। लेकिन डॉ. आफ़रीन ने न तो आरोपित एएनएम के खिलाफ खुद कोई कार्रवाई की और न विभाग को इसकी सूचना दी।

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में Covid-19 वैक्सीन से भरी सिरिंज को कूड़ेदान में फेंकने का मामला सामने आया है। इस मामले में आरोपित एएनएम/नर्स निहा खान को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है और आरोपित की सेवा समाप्त करने का निर्देश भी दिया गया है। साथ ही टीकाकरण केंद्र की प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. आफ़रीन के खिलाफ भी कार्रवाई की जा सकती है क्योंकि डॉ. आफ़रीन, निहा द्वारा की जा रही लापरवाही से अवगत थी।

क्या है मामला?

मामला तब सामने आया जब सोमवार (24 मई) को अलीगढ़ के जमालपुर अर्बन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (UPHC) में निरीक्षण के दौरान कूड़ेदान में Covid-19 वैक्सीन से भरी 29 सिरिंज पाई गईं। इसके बाद मामले की सूचना तत्काल मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. भानु प्रताप कल्याणी को दी गई जिनके द्वारा जाँच का आदेश दिया गया। जाँच में केंद्र में तैनात सभी लोगों के बयान दर्ज किए गए। स्वास्थ्य केंद्र में उपस्थित अन्य स्टाफ का कहना है कि एएनएम निहा खान टीकाकरण करने के बजाय वैक्सीन से भरी सिरिंज तोड़कर कूड़ेदान में फेंक रही थी। इसके बाद जब स्टाफ ने निहा से बात की तो उसने कहा कि ‘मूड खराब’ है।

दूसरी तरफ यह भी खबर मिली है कि जमालपुर UPHC की प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. आफ़रीन, एएनएम निहा के द्वारा की जा रही लापरवाही से अवगत थीं। लेकिन डॉ. आफ़रीन ने न तो आरोपित एएनएम के खिलाफ खुद कोई कार्रवाई की और न विभाग को इसकी सूचना दी।

मामला सामने आने के बाद बुधवार (26 मई) को जाँच के लिए समिति गठित की गई जिसकी रिपोर्ट शुक्रवार (28 मई) को जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में रखी गई। रिपोर्ट के बाद निहा खान की सेवा समाप्त करने का आदेश दे दिया गया है और तथ्यों को छुपाने के आरोप में डॉ. आफ़रीन को जमालपुर UPHC से हटाकर हरदुआगंज भेजा जा सकता है।

अलीगढ़ जिलाधीश चंद्र भूषण सिंह ने कहा है कि जाँच के आधार पर दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दे दिया गया है। आपको बता दें कि जमालपुर क्षेत्र में बड़ी संख्या में कोरोना वायरस संक्रमण के मरीज मिले थे। जिसके बाद इस क्षेत्र में हर दिन 250 लोगों का टीकाकरण करने का लक्ष्य रखा गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -