अयोध्या मामले में कल सुबह 10.30 बजे सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला, यूपी में अलर्ट जारी: रिपोर्ट्स

अयोध्या मामले पर ताज़ा जानकारी के हिसाब से सूचना आ रही है कि कल सुबह 10.30 बजे सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला सुनाएगा। अदालत की 5 जजों की संविधान पीठ ने 40 दिन सुनवाई करने के बाद 16 अक्टूबर को फैसला सुरक्षित कर लिया था।

अयोध्या मामले पर ताज़ा जानकारी के हिसाब से सूचना आ रही है कि कल सुबह 10.30 बजे सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला सुनाएगा। अदालत की 5 जजों की संविधान पीठ ने 40 दिन सुनवाई करने के बाद 16 अक्टूबर को फैसला सुरक्षित कर लिया था। 2010 में इलाहबाद हाई कोर्ट ने दो-तिहाई जमीन ज़मीन हिन्दुओं और एक तिहाई मुस्लिमों को दे दी थी।

इस फैसले के साथ ही लगभग 500 साल पुराने इस विवाद के हल हों जाने की उम्मीद बढ़ गई है। बता दें कि इधर, यूपी सरकार ने अयोध्या जमीन विवाद को लेकर आने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर अयोध्या समेत पूरे प्रदेश में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है।

साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी स्कूल, कॉलेज, ट्रेनिंग सेंटर, सहित सभी शैक्षणिक केंद्रों को 9 से लेकर 11 नवंबर तक बंद रखने का आदेश दिया है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

अयोध्या में राम जन्मभूमि जाने वाले सभी रास्तों को बंद कर दिया गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, टेढ़ी बाजार से दोपहिया और चारपहिया वाहनों की आवाजाही पर भी रोक लगा दी गई है। आज से ही सघन चेकिंग शुरू कर दी गई है।

बता दें कि रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि के विवादित 2.77 एकड़ जमीन के स्वामित्व के लिए हिंदू और मुस्लिम पक्षकारों द्वारा दायर की गई अपील पर 40 दिन सुनवाई चली। CJI रंजन गोगोई की अध्यक्षता में 5 जजों वाली पीठ ने इस मामले पर 16 अक्टूबर को अपना फैसला सुरक्षित रखा था।

इस मामले में दोनों पक्षों ने इतिहासकारों, ऐतिहासिक यात्रियों, गैजेटियर, अंग्रेज के जमाने से चले आ रहे जमीन संबंधी कागजातों के साथ अपनी-अपनी आस्था का पक्ष भी रखा। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की रिपोर्टों को भी सुनवाई के दौरान जजों के समक्ष रखा गया। इलाहाबाद हाई कोर्ट ने सितंबर 2010 के अपने फैसले में विवादित भूमि को तीन हिस्सों में बाँटा था – राम लला, निर्मोही अखाड़ा और सुन्नी वक्फ बोर्ड।

(यह डेवलपिंग स्टोरी है। और जानकारी मिलने पर इसे अपडेट किया जाएगा।)

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"हिन्दू धर्मशास्त्र कौन पढ़ाएगा? उस धर्म का व्यक्ति जो बुतपरस्ती कहकर मूर्ति और मन्दिर के प्रति उपहासात्मक दृष्टि रखता हो और वो ये सिखाएगा कि पूजन का विधान क्या होगा? क्या जिस धर्म के हर गणना का आधार चन्द्रमा हो वो सूर्य सिद्धान्त पढ़ाएगा?"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

115,259फैंसलाइक करें
23,607फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: