Thursday, April 18, 2024
Homeदेश-समाज'मारने की बात रेपिस्टों के लिए थी, आम मुस्लिमों के लिए नहीं': धर्मसंसद में...

‘मारने की बात रेपिस्टों के लिए थी, आम मुस्लिमों के लिए नहीं’: धर्मसंसद में बयान को लेकर धर्मदास व साध्वी अन्नपूर्णा पर भी मामला दर्ज

इस पूरे प्रकरण पर अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रवीन्द्र पुरी ने माफी माँगते हुए कहा, "संत महात्माओं ने उत्तेजना में इस तरह की बातें की हैं। ऐसी भाषा का प्रयोग किया जाना उचित नहीं था। संतों की ओर से मैं माफी माँगता हूँ।"

उत्तराखंड के हरिद्वार में हाल ही में आयोजित हुए धर्म संसद में एक समुदाय विशेष को लेकर दिए गए भाषण को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। इस मामले में वसीम रिजवी से जितेंद्र नारायण त्यागी बने उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व प्रमुख के बाद अब साध्वी अन्नपूर्णा और संत धर्मदास के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। वहीं, संतों के बयानों को लेकर अखाड़ा परिषद के प्रमुख रवीन्द्र पुरी ने माफी माँगी है।

वही, शिकायतकर्ता द्वारा रिजवी के खिलाफ UAPA (Unlawful Activities (Prevention) Act, 1967) लगाने के आग्रह पर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने कहा था कि यह मामला UAPA लगाने लायक नहीं है।

DGP अशोक कुमार ने कहा था, “जितेंद्र नारायण के बयान से किसी की हत्या या हिंसा नहीं हुई। इसलिए इस मामले में UAPA एक्ट नहीं लागू होता है। इसी के साथ विवादित वीडियो फेसबुक से हटा दिया गया है। हम नियमानुसार कार्रवाई कर रहे हैं। हमने 153A के 1 और 2 दोनों सेक्शन लगाए हैं। इसी के साथ इस मामले में पुलिस की जाँच भी जारी है।”

बता दें कि उत्तरी हरिद्वार खड़खड़ी स्थित वेद निकेतन में 17 से 19 दिसंबर तक धर्म संसद का आयोजन किया गया था।, जिसमें यति नरसिंहानंद, जितेंद्र नारायण त्यागी उर्फ वसीम रिजवी, संत धर्मदास, साध्वी अन्नपूर्णा समेत कई संत शामिल हुए थे। इस आयोजन का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसको लेकर सोशल मीडिया पर तीखी आलोचना की गई थी।

हरिद्वार के ज्वालापुर निवासी गुलबहार खाँ ने जितेंद्र नारायण त्यागी और अज्ञात के खिलाफ कोतवाली थाने में धार्मिक उन्माद फैलाने का आरोप लगाते हुए शिकायत दी थी। इस मामले में रिजवी के खिलाफ पहले ही मुकदमा दर्ज कर लिया गया था। 

शहर कोतवाली प्रभारी राकेंद्र सिंह कठैत ने बताया कि वायरल वीडियो में संत धर्मदास और साध्वी अन्नपूर्णा की भी भूमिका सामने आई है और उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि अब तीन आरोपी नामजद हो गए है, अन्य लोगों के संबंध में जाँच जारी है।  

उधर धर्म संसद में शामिल आनंद स्वरूप ने कहा कि वे अपने बयानों पर कायम हैं। उन्होंने कहा कि उनके बयान सुविचारित हैं। अगर कोई बहन-बेटियों से दुष्कर्म करे तो क्या उसे नहीं मार डालेंगे? वक्ताओं ने ऐसे व्यक्तियों को मारने की बात की थी, न कि आम मुसलमान की।

इस पूरे प्रकरण पर अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रवीन्द्र पुरी ने नाराजगी जाहिर करते हुए माफी माँगी है। न्यूज 18 से बातचीत में उन्होंने कहा, “संत महात्माओं ने उत्तेजना में इस तरह की बातें की हैं। ऐसी भाषा का प्रयोग किया जाना उचित नहीं था। संतों की ओर से मैं माफी माँगता हूँ।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हलाल-हराम के जाल में फँसा कनाडा, इस्लामी बैंकिंग पर कर रहा विचार: RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भारत में लागू करने की...

कनाडा अब हलाल अर्थव्यवस्था के चक्कर में फँस गया है। इसके लिए वह देश में अन्य संभावनाओं पर विचार कर रहा है।

त्रिपुरा में PM मोदी ने कॉन्ग्रेस-कम्युनिस्टों को एक साथ घेरा: कहा- एक चलाती थी ‘लूट ईस्ट पॉलिसी’ दूसरे ने बना रखा था ‘लूट का...

त्रिपुरा में पीएम मोदी ने कहा कि कॉन्ग्रेस सरकार उत्तर पूर्व के लिए लूट ईस्ट पालिसी चलाती थी, मोदी सरकार ने इस पर ताले लगा दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe