Friday, July 12, 2024
Homeदेश-समाजकमाई डेढ़ करोड़ रुपए और खर्च 4 करोड़: इलाहाबाद हाईकोर्ट के पूर्व जज पर...

कमाई डेढ़ करोड़ रुपए और खर्च 4 करोड़: इलाहाबाद हाईकोर्ट के पूर्व जज पर CBI ने दर्ज की दूसरी FIR, बीवी और साले भी नामजद

जिस वक्त मामला सामने आया था, उस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने आंतरिक जाँच भी करवाई थी, जिसमें आरोप सही पाए गए थे। सुप्रीम कोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने साल साल 2018 में एसएन शुक्ला पर महाभियोग की भी सिफारिश की थी। हालाँकि, बाद में उन पर महाभियोग नहीं लगाया गया।

इलाहबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) के पूर्व न्यायाधीश एसएन शुक्ला पर आय से अधिक सम्पत्ति का केस दर्ज हुआ है। केंद्रीय जाँच ब्यूरो (CBI) द्वारा यह दूसरा केस दर्ज किया गया है। भ्रष्टाचार के इस केस में पूर्व जस्टिस की दूसरी पत्नी सुचिता शुक्ला और उनके साले को भी आरोपित बनाया गया है। पूर्व न्यायधीश शुक्ला ने 5 वर्षों में लगभग ढाई करोड़ रुपए आय से अतिरिक्त खर्च किए हैं।

एसएन शुक्ला जुलाई 2020 में इलाहबाद हाईकोर्ट से रिटायर हुए थे। उन पर 5 वर्षों में कुल 1.5 करोड़ रुपए की कुल कमाई के बदले 4 करोड़ रुपए खर्च का आरोप है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दर्ज FIR में पूर्व जस्टिस एसएन शुक्ला के साले और कुछ अन्य लोगों के भी नाम हैं।

CBI ने जानकारी देते हुए बताया है कि शुक्ला के लखनऊ आवास पर तलाशी ली गई थी। वहीं एक टीम अमेठी में उनके साले सईदीन तिवारी के घर पर पहुँची थी। अब तक की जाँच में यह बात निकल कर आई है कि पूर्व जस्टिस शुक्ला ने भ्रष्टाचार का पैसा बड़े पैमाने पर जमीनें खरीदने में लगाया है। उन्होंने यह जमीनें अधिकतर अपने साले के नाम पर ली हैं।

जानकारी के मुताबिक, पूर्व न्यायाधीश द्वारा साल 2012 में 3.6 लाख रुपए में खरीदी गई एक जमीन को 2 साल बाद 2014 में 30 लाख रुपए में बेच दी थी। इसके अलावा इनके द्वारा साल 2013 में महज 3 लाख रुपए में खरीदी गई एक अन्य जमीन 4 साल बाद 2017 में 70 लाख रुपए में बेची गई थी।

इन दोनों जमीनों को साइन सिटी इंफ़्रा नाम की एक प्रॉपर्टी से जुड़ी कम्पनी ने खरीदा था। पूर्व न्यायाधीश एसएन शुक्ला का साला सईदीन तिवारी एक सरकारी ऑफिस में नौकरी करता है। उसने अपने इनकम टैक्स रिटर्न में इन लैंड डील का कहीं भी जिक्र नहीं किया है।

बताते चलें कि पूर्व जस्टिस शुक्ला पर इससे पहले भी 4 दिसंबर 2019 को एक केस दर्ज हुआ था। तब उन पर पैसे लेकर लखनऊ के एक मेडिकल कॉलेज के हक में फैसला सुनाने का आरोप लगा था। इस केस में छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस आईएम कुद्दुसी और 4 अन्य लोग भी आरोपित किए गए थे।

उस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने आंतरिक जाँच भी करवाई थी, जिसमें आरोप सही पाए गए थे। सुप्रीम कोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने साल साल 2018 में एसएन शुक्ला पर महाभियोग की भी सिफारिश की थी। हालाँकि, बाद में उन पर महाभियोग नहीं लगाया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

उधर कॉन्ग्रेसी बक रहे गाली पर गाली, इधर राहुल गाँधी कह रहे – स्मृति ईरानी अभद्र पोस्ट मत करो: नेटीजन्स बोले – 98 चूहे...

सवाल हो रहा है कि अगर वाकई राहुल गाँधी को नैतिकता का इतना ज्ञान है तो फिर उन्होंने अपने समर्थकों के खिलाफ कभी कार्रवाई क्यों नहीं की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -