Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजबाप हिंदू, अम्मी मुस्लिम: 8 साल के बच्चे को मेला दिखाने के बहाने ले...

बाप हिंदू, अम्मी मुस्लिम: 8 साल के बच्चे को मेला दिखाने के बहाने ले गए नाना-नानी, खतना कराकर बना दिया शमशाद

बीजेपी नेता प्रबल प्रताप सिंह जूदेव ने कहा कि जिले के सन्ना थाना में दर्ज खतना मामले में हिंदू पिता की सहमति के बिना पुत्र का खतना कर धर्मांतरित किया जाना असहनीय है। प्रशासन इसमें लिप्त सभी कुकर्मियों को अविलंब गिरफ्तार करे और धर्मांतरण पर अंकुश लगाए। मालूम हो कि प्रबल प्रताप सिंह जूदेव धर्मांतरित लोगों का घर वापसी कराते रहे हैं।

छत्तीसगढ़ में एक बार फिर धर्मांतरण का मामला सामना आया है। ताजा मामला राज्य के जशपुर जिले के सन्ना थाना क्षेत्र का है। यहाँ नानी ने 8 साल भी के बच्चे का धोखे से खतना करा दिया। पिता चितरंजन सोनवानी ने थाने में शिकायत की है कि उसकी पत्नी, सास और ससुराल के अन्य सदस्यों ने उसके बच्चे को धोखे में रखकर सुन्नत करवा दिया। इसके साथ ही उसने बच्चे का धर्मांतरण करवा कर उसका नाम शमशाद रख दिया। बच्चे का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वह कह रहा है कि उसकी नानी और नाना मेला देखने के बहाने के जाकर सुन्नत करा दिए।

मामले में बीजेपी नेता प्रबल प्रताप सिंह जूदेव का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि जिले के सन्ना थाना में दर्ज खतना मामले में हिंदू पिता की सहमति के बिना पुत्र का खतना कर धर्मांतरित किया जाना असहनीय है। प्रशासन इसमें लिप्त सभी कुकर्मियों को अविलंब गिरफ्तार करे और धर्मांतरण पर अंकुश लगाए। मालूम हो कि प्रबल प्रताप सिंह जूदेव धर्मांतरित लोगों का घर वापसी और धर्मांतरण के खिलाफ लगातार जागरूकता फैलाते रहे हैं। इसके बावजूद धर्मांतरण रुकने का नाम नहीं ले रहा।

इसके अलावा बीजेपी सांसद गोमती राय ने मामले में कार्रवाई नहीं होने पर धरने पर बैठने की धमकी दी है। घांसी समाज के प्रदेश अध्यक्ष देवधन नायक ने कहा कि दलित समाज रीति- रिवाजों व परंपराओं का अपमान है। कार्रवाई नहीं होती है तो समाज आंदोलन करेगा।

इस पूरे मामले में बताया जा रहा है कि ग्राम सन्ना नगरटोली निवासी चितरंजन सोनवानी हिंदू धर्म के घांसी समाज का है। उसने पिछले करीब 10 से 12 वर्ष पहले डुमरकोना के हर्राडिपा गाँव की एक मुस्लिम महिला से लव-मैरिज करते हुए हिंदू रीति-रिवाज से शादी की थी। दोनों हिंदू रीति रिवाज से जीवन-यापन कर रहे थे।

सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था, लेकिन पिछले साल नवंबर में जब उसकी पत्नी बच्चों के साथ मायके गई तो वहाँ उसकी माँ और मायके वालों ने उसके बेटे का खतना करवा कर इस्लाम में धर्मांतरित करा दिया। मायके से वापस लौटने के बाद जब बच्चे के पिता को इस बात की जानकारी हुई तो मामला बिगड़ गया। यह भी बताया जा रहा है कि पूरे परिवार को मुस्लिम धर्म अपनाने के लिए पूर्व में भी कई तरह का प्रलोभन दिया गया था। इसकी खबर पिता और समाज को लगी तो सन्ना में लगातार बैठकों का सिलसिला जारी हो गया। आक्रोशित समाज के साथ शिकायकर्ता थाना पहुँच गया और पूरे मामले की लिखित में शिकायत दर्ज करवाई।

शिकायतकर्ता पिता ने आवेदन में लिखा है, “मैं चितरंजन (टिडु) सोनवानी पिता दामडे सोनवानी जाति घासी ग्राम पंचायत सन्ना का स्थाई निवासी हूँ। निवेदन है कि मैं ग्राम सन्ना में रहता हूँ, हिंदू धर्म का पालन करता हूँ। आज से लगभग 10 वर्ष पूर्व मेरा शादी हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार डुमरकोना हर्राडिपा निवासी रेशमा बेगम के साथ हुई है। उसके बाद से हम लोग हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार सन्ना में जीव-यापन कर रहे थे। हमारे दाम्पत्य सम्बंध से दो बच्चे हैं, जिनका नाम सौरभ सोनवानी उम्र 8 वर्ष एवं द्वितीय पुत्री सानिया सोनवानी उम्र 6 वर्ष है।”

शिकायत में आगे कहा गया है, “मेरे बड़े पुत्र सौरभ सोनवानी उम्र 8 वर्ष को मेरी बीवी रेश्मा बेगम द्वारा मायके ले जाकर एवं मायके पक्ष के कुछ लोगों के साथ मिलकर माह नवम्बर में आस्ता सरडिह ले जाकर वहाँ से अम्बांधपुर ले जाया गया और वहाँ मेरे पुत्र को मेरे मर्जी के खिलाफ इस्लाम धर्म में धर्मान्तरण कराने के उद्देश्य से उसका खतना कर दिया गया है, जिसकी जानकारी मुझे बाद में हुुई। महोदय ज्ञात हो कि मेरे ससुराल वालों के द्वारा मेरे विवाह के पश्चात से मुझे लगातार मुझे इस्लाम धर्म स्वीकार करने का दबाव बनाया जाता रहा है। इस हेतु मुझे कई प्रलोभन भी दिए जाते रहे हैं, जिसमें पिकअप गाड़ी देने की बात कही गई थ, लेकिन मैं इस्लाम धर्म स्वीकार करने के पक्ष में बिल्कुल तैयार नहीं था और नहीं हूँ। इसी कारण से मेरी बीबी रेश्मा बेगम और उसके मायके पक्ष भाई वगैरह मिलकर मेरे नाबालिग पुत्र सौरभ सोनवानी का इस्लाम धर्म में धर्मान्तरण करा दिया। अतः श्रीमान से निवेदन है कि उक्त सम्बन्ध में जाँच कर दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही करने की कृपा करें।”

मामले को लेकर थाने में आज समाज के दर्जनों महिला पुरुष आए थे और उन्होंने कारवाई की माँग की है। सन्ना थाना प्रभारी ने बताया कि सोमवार (10 जनवरी 2022) को इस पूरे मामले की शिकायत हुई है। मामले की जाँच की जा रही है। एक वीडियो में पीड़ित बच्चे ने बताया है कि उसकी नानी उसे मेला दिखाने के बहाने लेकर गई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -