Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजशाहिद ने तलाक़शुदा बीवी शबनम की काटी नाक, शाहिद के अब्बू-भाई समेत 3 के...

शाहिद ने तलाक़शुदा बीवी शबनम की काटी नाक, शाहिद के अब्बू-भाई समेत 3 के ख़िलाफ़ FIR दर्ज

हफीजपुर क्षेत्र के नसरुद्दीन और सकीरा के अनुसार, उन्होंने अपनी बेटी शबनम (35 वर्षीय) का निक़ाह चार साल पहले शाहिद से किया था, जोकि पहले से शादीशुदा था। तीन महीने पहले शाहिद ने शबनम को तलाक़ दे दिया था जिसके बाद वो अपने अम्मी-अब्बू के साथ रहने लगी।

उत्तर प्रदेश के बरेली में शौहर द्वारा अपनी तलाक़शुदा बीवी की चाकू से नाक काट देने का मामला सामने आया है। इससे पीड़िता का चेहरा पूरी तरह से लहूलुहान हो गया। पीड़िता ने पुलिस को जो बयान दिया उसके आधार पर तीन आरोपितों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज कर लिया गया है।

हफीजपुर क्षेत्र के नसरुद्दीन और सकीरा के अनुसार, उन्होंने अपनी बेटी शबनम (35 वर्षीय) का निक़ाह चार साल पहले शाहिद से किया था, जोकि पहले से शादीशुदा था। तीन महीने पहले शाहिद ने शबनम को तलाक़ दे दिया था जिसके बाद वो अपने अम्मी-अब्बू के साथ रहने लगी।

पीड़िता का कहना है कि रविवार (18 अगस्त) सुबह उसके पिता नसरुद्दीन सब्जी का ठेला लेकर फेरी लगाने गए थे। बड़ा भाई नफीसुद्दीन बीमार था। उसे लेकर छोटा भाई शफीकुद्दीन और अम्मी सकीरा इलाज के लिए अस्पताल गई थी। इसके आगे उसने बताया कि जब वो पड़ोस में अपने रिश्तेदार के यहाँ जा रही थी तभी अचानक शाहिद और उसके अब्बू जाहिद, भाई सादे और बासिद ने रोककर बुरा-भला कहते हुए उसके साथ मारपीट की। इसी बीच शाहिद ने चाकू निकालकर शबनम की नाक काट दी

खून से लथपथ शबनम को जान से मारने की धमकी देकर हमलावर वहाँ से फ़रार हो गए। पुलिस ने सीएचसी भेजकर मेडिकल कराया। शबनम की शिक़ायत पर पुलिस ने उसके शौहर और उसके दोनों भाइयों के खिलाफ़ मामला दर्ज कर लिया है। फ़िलहाल, आरोपित अपना घर बंद कर वहाँ से भाग गए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe