Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजकाट कर अलग कर दी थाना प्रभारी की कलाई, SI भी जख्मी: निहंग सिखों...

काट कर अलग कर दी थाना प्रभारी की कलाई, SI भी जख्मी: निहंग सिखों का पुलिस पर हमला, हत्या कर हुए थे फरार

पुलिस गिरफ्तार करने पहुँची थी। लेकिन निहंग सिख अचानक से आक्रामक हो गए, उन्होंने हमला कर के थाना प्रभारी की कलाई ही काट डाली। उनकी दूसरी कलाई पर भी गंभीर जख्म आए हैं।

पंजाब में निहंग सिखों के हमले में कई पुलिसकर्मी घायल हो गए। तरनतारन में रविवार (मार्च 21, 2021) को पुलिस और बदमाशों के बीच संघर्ष हिंसक हो गया। दरअसल, पुलिस को सूचना मिली थी कि महाराष्ट्र के नांदेड़ स्थित तख़्त श्री हुजूर साहिब पर एक बाबा की हत्या के दो वॉन्टेड अपराधी यहाँ छिपे हुए हैं।

महाराष्ट्र पुलिस ने इसकी सूचना पंजाब पुलिस को दी। फिर स्थानीय पुलिस अपराधियों को गिरफ्तार करने पहुँची। वहाँ निहंग सिख अचानक से आक्रामक हो गए और उन्होंने हमला कर के थाना प्रभारी की कलाई ही काट डाली। उनकी दूसरी कलाई पर भी गंभीर जख्म आए हैं।

इसके बाद हुई मुठभेड़ में पुलिस ने भी गोली चलाई और दोनों निहंग सिख मौके पर ही मारे गए। एनकाउंटर में ढेर हुए निहंग सिखों की पहचान महताब सिंह और गुरदेव सिंह के रूप में हुई है। इन्होंने नांदेड़ साहिब में बाबा संतोख सिंह की हत्या की थी और फिर फरार हो गए थे।

पुलिस ने दोनों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया था और इनकी लोकेशन तरनतारन में मिली थी। वहाँ के सिंहपुरा इलाके में उनके होने की सूचना के बाद पुलिस वहाँ गई।

वहाँ छिछरेवाल गाँव में 10 दिन पहले हुई थाना भिखीविंड के हेड कॉन्स्टेबल सरबजीत सिंह की मौत के बाद आज भोग की रस्म चल रही थी। दोनों अपराधी भी यहीं छिपे हुए थे। थाना वल्टोहा के प्रभारी इंस्पेक्टर बलविंदर सिंह और खेमकरण के प्रभारी सब इंस्पेक्टर नरिंदर सिंह वहाँ पहुँचे।

तभी निहंग सिखों ने उन दोनों पर धारदार हथियारों से हमला बोल दिया। आरोपितों ने पुलिस अधिकारियों पर कई बार हमले किए। दोनों पुलिसकर्मियों को एम्बुलेंस से अस्पताल भेजना पड़ा।

मई 12, 2020 को भी इसी तरह का वाकया सामने आया था, जब कोरोना प्रोटोकॉल की ड्यूटी निभा रहे पंजाब पुलिस के ASI हरजीत सिंह पर निहंगों ने तलवार से हमला कर उनकी कलाई काट दी थी। हरजीत खुद कटा हाथ लेकर स्कूटर से अस्पताल पहुँचे थे, जहाँ चंडीगढ़ PGIMER  में घंटों की मशक्कत के बाद सर्जरी सफल रही थी।

तब बताया गया था कि पीजीआई चंडीगढ़ पहुँचते ही डॉक्टरों की टीम ने पहले हाथ पूरी तरह से निरीक्षण किया उसके बाद उन्होंने प्लास्टिक सर्जरी के मुख्य ऑपरेशन थियेटर में सुबह करीब 10 बजे हाथ को जोड़ने का काम शुरू हुआ। शाम 5 बजे तक चले इस ऑपरेशन में डॉक्टरों की टीम ने हाथ की एक एक नस को सतर्कतापूर्वक बाकी शरीर से जोड़ा। कोरोना के दौरान कर्फ्यू पास दिखाने को कहने पर वो भड़क गए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,200FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe