Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाज'स्त्री को ज़िंदा जला कर जश्न मनाना गलत, ऐसी प्रथा को बंद करो': होली...

‘स्त्री को ज़िंदा जला कर जश्न मनाना गलत, ऐसी प्रथा को बंद करो’: होली से पहले फिर सक्रिय हुआ वामपंथी गैंग, YouTuber ने कहा – ऐसे नहीं बनेगा अच्छा समाज

साथ ही उन्होंने लोगों से भी अपील की कि अगर वो 'प्रोग्रेसिव सोसाइटी' का हिस्सा हैं तो इसका विरोध करें।

होली का त्योहार नजदीक आ रहा है, ऐसे में अब इसे लेकर घृणा फैलाने का दौर शुरू हो गया है क्योंकि ये हिन्दुओं द्वारा मनाया जाता है। निर्देश सिंह नामक महिला यूट्यूबर ने एक वीडियो जारी कर होली को लेकर अनाप-शनाप बका है। इस वीडियो में वो कहती दिख रही हैं कि हम खुद को सभ्य समाज में रहने वाला नागरिक समझते हैं, लेकिन आप खुद ही सोचिए कि एक सभ्य समाज में एक स्त्री को जीवित जला कर जश्न मनाना कहाँ तक उचित है?

वीडियो में वो कहती हैं, “अगर हमारी सभ्यताओं में महिलाओं को ज़िंदा जला कर जश्न मनाना रहा है तो मैं इसे गलत मानती हूँ। हमारी सभ्यताओं में स्त्रियों को सती-प्रथा के तहत ज़िंदा चिताओं में जलाया गया तो वो प्रथा भी बदली हमलोगों ने, क्योंकि हम एक प्रोगेसिव सोसाइटी हैं। मुझे लगता है कि होलिका दहन के नाम पर एक स्त्री को जलाना, चाहे काल्पनिक हो, त्योहार या जश्न के रूप में हो – किसी भी रूप में, किसी भी अर्थ में ऐसी प्रथा की सख्त विरोधी हूँ।”

उन्होंने कहा कि स्त्री के प्रतीक को भी जलाना गलत है और वो जीवन भर इसका विरोध करती रहेंगी। साथ ही उन्होंने लोगों से भी अपील की कि अगर वो ‘प्रोग्रेसिव सोसाइटी’ का हिस्सा हैं तो इसका विरोध करें। निर्देश सिंह ने कहा कि जब हमारे बच्चे आज एक स्त्री को जला कर जश्न मनाते हुए देखेंगे तो भविष्य में किसी बहन-बेटी को ज़िंदा जलते देखेंगे तो वो उसका विरोध नहीं कर पाएँगे। यूट्यूबर के अनुसार, होलिका दहन एक निंदनीय है और इससे एक अच्छा समाज नहीं बनेगा।

बता दें कि होलिका एक राक्षसी थी, जो अपने भतीजे प्रह्लाद को जलाना चाहती थी। लेकिन, आग में वो खुद जल गई। प्रह्लाद भगवान विष्णु के अनन्य भक्त के रूप में जाने जाते हैं। लोगों ने यूट्यूबर से पूछा कि क्या एक मासूम को ज़िंदा जलाने की साजिश रचने वाली का समर्थन किया जाना चाहिए? निर्देश सिंह ‘The Hasti’ नाम से यूट्यूब चैनल चलाती हैं। लोग उन्हें सलाह दे रहे हैं कि वो भक्त प्रह्लाद और होलिका दहन की कथा पढ़ें, क्योंकि होलिका ने खुद आग में जाने की साजिश रची थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -