CM रघुवर दास ने इतना गांजा फूँका है कि प्रेस वाली भी… आपत्तिजनक टिप्पणी पर कॉन्ग्रेसी नेता हिरासत में

पत्रकार निधि श्री ने कॉन्ग्रेस नेता अभिजीत राज की बातों का खंडन किया और ट्वीट किया कि सामान्य बातचीत के दौरान जैसे किसी इन्सान का हाथ उसके नाक या माथे पर चला जाता है, ऐसा ही उस वक्त हुआ।

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के लिए यूथ कॉन्ग्रेस नेता अभिजीत राज को 29 मई (बुधवार) को सुबह 10:30 बजे पुलिस ने हिरासत में लिया। पूरे दिन हिरासत में रखने के बाद शाम को उन्हें निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया। दरअसल, कॉन्ग्रेसी नेता ने 27 मई को सोशल मीडिया पर एक फ़ोटो शेयर की जिसमें एक महिला पत्रकार झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास का साक्षात्कार ले रही थीं। इस फ़ोटो में महिला पत्रकार ने अपनी नाक पर हाथ रखा हुआ था। कॉन्ग्रेसी नेता ने इसी फ़ोटो को शेयर करते हुए लिखा, “इतना गांजा फूंका है कि प्रेस वाली भी नाक बंद कर ली, ये है झारखंड के मुख्यमंत्री महोदय, जय हो खाजपा।”

इस फ़ोटो को शेयर करते समय यह दावा किया गया कि झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास कथित रूप से नशे की हालत में थे और वो ऐसी हालत में एक न्यूज़ चैनल की महिला पत्रकार को इंटरव्यू दे रहे थे। बता दें कि कॉन्ग्रेस नेता के इस पोस्ट को 1000 से अधिक लोग शेयर कर चुके हैं। इसके लिए फेसबुक पर अभिजीत राज को ट्रोल भी किया गया। एक यूज़र ने अपने ट्विटर हैंडल से लिखा, “ ऐसी हार के बाद कांग्रेस वालों का पागल होना स्वाभाविक है। अब देखिए, इनके राष्ट्रीय अध्यक्ष की हालत देखिए। एसी कमरे में रहने के बाद पसीने छूट रहे हैं, तो इनका पागल होना बनता है। वैसे भी गर्मी अधिक है, तो क्या करें।”

आपको बता दें कि फ़ोटो में जो महिला पत्रकार हैं वो ABP न्यूज़ चैनल की निधि श्री हैं। उन्होंने कॉन्ग्रेस नेता अभिजीत राज की बातों का खंडन किया और ट्वीट किया कि सामान्य बातचीत के दौरान जैसे किसी इन्सान का हाथ उसके नाक या माथे पर चला जाता है, ऐसा ही उस वक्त हुआ। उन्होंने लिखा कि उनकी इस तस्वीर को ग़लत तरीक़े से फैलाया जा रहा है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसके अलावा निधि ने यह भी बताया कि यह फ़ोटो 23 मई, 2019 की है, जिस दिन लोकसभा चुनावों की मतगणना हुई थी। उस दिन मुख्यमंत्री रघुवर दास का यह साक्षात्कार चैनल पर भी प्रसारित हुआ था। हालाँकि, अभिजीत राज ने थाने में दिए गए अपने बॉन्ड में लिखा कि उसने सोशल मीडिया पर जो फ़ोटो शेयर की थी वो किसी को ठेस पहुँचाने के लिए नहीं की थी, और अगर उससे किसी को ठेस पहुँची हो तो वो उसके लिए क्षमाप्रार्थी है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बीएचयू, वीर सावरकर
वीर सावरकर की फोटो को दीवार से उखाड़ कर पहली बेंच पर पटक दिया गया था। फोटो पर स्याही लगी हुई थी। इसके बाद छात्र आक्रोशित हो उठे और धरने पर बैठ गए। छात्रों के आक्रोश को देख कर एचओडी वहाँ पर पहुँचे। उन्होंने तीन सदस्यीय कमिटी गठित कर जाँच का आश्वासन दिया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,578फैंसलाइक करें
23,209फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: