Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीतिकर्नाटक में 38 सालों का टूटेगा मिथक या होगी त्रिशंकु विधानसभा: एग्जिट पोल में...

कर्नाटक में 38 सालों का टूटेगा मिथक या होगी त्रिशंकु विधानसभा: एग्जिट पोल में काँटे की टक्कर, जानिए किसको मिलेंगी कितनी सीटें

बता दें कि राज्य के कुल 224 सीटों के लिए 2,615 उम्मीदवार मैदान में हैं। सरकार बनाने के लिए बहुमत के तिलिस्मी आँकड़े 113 तक पहुँचना जरूरी है। किस पार्टी के हाथ में राज्य की बागडोर जाएगी, इसका फैसला 13 मई होगा। कर्नाटक चुनाव में हिस्सा लेने वाली प्रमुख पार्टियाँ भाजपा, कॉन्ग्रेस और जनता दल सेक्युलर (JDS) है।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव (Karnataka Assembly Election 2023) के लिए मतदान आज बुधवार (10 मई 2023) एक ही चरण में पूरा हो गया। राज्य के 224 विधानसभा सीटों के लिए 65.69 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। वोटों की गिनती 13 मई 2023 को होगी।

चुनाव आयोग के आँकड़ों के अनुसार, राज्य में शाम 5 बजे तक हुए मतदान में 65.69 प्रतिशत मतदान हुआ है। बीबीएमपी दक्षिण जिले को छोड़कर सभी जिलों में 50 प्रतिशत से अधिक वोटिंग हुई है। इस बार के चुनावों में मतदान करने के लिए कुल 42,48,028 नए मतदाता पंजीकृत किए गए हैं।

बता दें कि राज्य के कुल 224 सीटों के लिए 2,615 उम्मीदवार मैदान में हैं। सरकार बनाने के लिए बहुमत के तिलिस्मी आँकड़े 113 तक पहुँचना जरूरी है। किस पार्टी के हाथ में राज्य की बागडोर जाएगी, इसका फैसला 13 मई होगा। कर्नाटक चुनाव में हिस्सा लेने वाली प्रमुख पार्टियाँ भाजपा, कॉन्ग्रेस और जनता दल सेक्युलर (JDS) है।

अभी तक 38 साल में कोई भी सरकार लगातार दोबारा चुनकर नहीं आई है। हालाँकि, जिस तरह से उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में मिथक टूटे हैं, कुछ ऐसा ही इस बार कर्नाटक में होने की उम्मीद जताई जा रही है। वोटिंग खत्म होने के साथ ही एग्जिट पोल भी सामने आ गए हैं। इनमें से अधिकांश एग्जिट पोल में भाजपा और कॉन्ग्रेस के बीच काँटे की टक्कर बताई गई है।

‘जन की बात’ एवं ‘एशियानेट सुवर्णा न्यूज’ की एग्जिट पोल के अनुसार, भाजपा को 94-117 सीटें मिलती दिखाई गई हैं। वहीं, कॉन्ग्रेस को 91-106 और जेडीएस को 14-24 और अन्य को 0-2 सीटें दी गई हैं। अगर वोट प्रतिशत की बात की जाए तो भाजपा को 37.5-39 प्रतिशत, कॉन्ग्रेस को 38-40 प्रतिशत और जेडीएस को 14-17 प्रतिशत वोट मिलने की संभवाना जताई गई है।

एजेंसी के अनुसार, मुंबई कर्नाटका क्षेत्र के कुल 50 सीटों में से भाजपा को 31 और कॉन्ग्रेस को 19 सीटें दी गई हैं। वहीं, कोस्टल कर्नाटका की कुल 19 सीटों में से भाजपा को 15 और कॉन्ग्रेस 4 सीटें मिलने की बात कही गई है। ओल्ड मैसूर क्षेत्र की कुल 57 सीटों में से भाजपा को 15, कॉन्ग्रेस को 24, जेडीएस को 16 और अन्य को 2 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है।

वहीं, बेंगलुरु क्षेत्र की कुल 32 सीटों में भाजपा को 17 और कॉन्ग्रेस को 15 सीटें मिलने का अनुमान है। हैदराबाद कर्नाटका क्षेत्र की कुल 40 सीटों में से 15 भाजपा, 24 कॉन्ग्रेस और 1 सीट जेडीएस को मिलती दिख रही हैं। सेंट्रल कर्नाटका की कुल 24 सीटों में 13 भाजपा, 11 कॉन्ग्रेस और 2 जेडीएस को मिलने का अनुमान है।

हालाँकि, अलग-अलग एजेंसियों के अनुसार सभी दलों को अलग-अलग सीटें मिलती दिख रही हैं। न्यूज नेशन-CGS की एग्जिट पोल में भाजपा को 114, कॉन्ग्रेस को 86 और जेडीएस को 21 सीटें दी गई हैं। वहीं, अन्य के खाते में 3 सीटें गई हैं।

ZEE न्यूज-Matrize के एग्जिट पोल के अनुसार, कर्नाटक विधानसभा चुनावों में भाजपा को 79-94 सीटें, कॉन्ग्रेस को 103-118 सीटें और जेडीएस को 25-33 सीटें दी गई हैं। वहीं, अन्य को 2-5 सीटें दी गई हैं।

टीवी9 भारतवर्ष और polstrat के अनुसार, राज्य में भाजपा को 88-98, कॉन्ग्रेस को 99-109 और जेडीएस को 21-26 सीटें मिल सकती हैं। वहीं, अन्य को 0-4 सीटें मिल सकती हैं।

P Marq-Republic की एग्जिट पोल के अनुसार, राज्य में भाजपा 85-100, कॉन्ग्रेस को 94-108 सीटें और जेडीएस को 24-32 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं। वहीं, अन्य को 2-6 सीटें दी गई हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -