Wednesday, July 28, 2021
Homeराजनीतिकेरल: महिला कॉन्ग्रेस अध्यक्ष का इस्तीफा, पार्टी ऑफिस के सामने ही सिर मुँड़वाए; महिलाओं...

केरल: महिला कॉन्ग्रेस अध्यक्ष का इस्तीफा, पार्टी ऑफिस के सामने ही सिर मुँड़वाए; महिलाओं को पर्याप्त टिकट नहीं मिलने से नाराज

लतिका खुद इत्तूमनूर सीट से दावेदारी जता रहीं थी। लेकिन पार्टी ने यहाँ से प्रिंस लुकोश को उम्मीदवार बनाया है। उन्होंने कहा, "मैंने इत्तूमनूर से चुनाव लड़ने की इच्छा जताई थी कि क्योंकि मैं यहाँ पैदा हुई और पली-बढ़ी हूँ।"

केरल में कॉन्ग्रेस का संकट खत्म होता नहीं दिख रहा है। विधानसभा चुनाव में महिलाओं को पर्याप्त उम्मीदवारी नहीं मिलने से नाराज पार्टी नेता लतिका सुभाष ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। लतिका केरल महिला कॉन्ग्रेस की अध्यक्ष थीं। विरोध जताते हुए उन्होंने तिरुवनंतपुरम में पार्टी दफ्तर के बाहर ही सिर भी मुँड़वा लिया।

केरल में कॉन्ग्रेस 92 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। 86 उम्मीदवारों की सूची पार्टी ने रविवार को जारी की। इसमें लतिका सुभाष का नाम नहीं था। इस्तीफे के बाद उन्होंने कहा, मैं दूसरी पार्टी में शामिल होने नहीं जा रही हूं। लेकिन विरोध जताने के लिए मैंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

लतिका ने कहा कि कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष एम रामचंद्रन ने उम्मीदवारों की सूची तैयार करते वक्त महिलाओं की दावेदारी की अनदेखी की, जो स्वीकार्य नहीं है। अब तक घोषित 91 उम्मीदवारों में से केवल 9 महिला हैं, जबकि महिला कॉन्ग्रेस ने इन चुनावों में कम से कम 20 सीटें माँगी थी।

लतिका खुद इत्तूमनूर सीट से दावेदारी जता रहीं थी। लेकिन पार्टी ने यहाँ से प्रिंस लुकोश को उम्मीदवार बनाया है। उन्होंने कहा, “मैंने इत्तूमनूर से चुनाव लड़ने की इच्छा जताई थी कि क्योंकि मैं यहाँ पैदा हुई और पली-बढ़ी हूँ।”

केरल में हाल में कई बड़े नेताओं ने कॉन्ग्रेस छोड़ी है। इनमें प्रदेश सचिव एमएस विश्वनाथन, महिला कॉन्ग्रेस सचिव सुजया वेणुगोपाल, इंटक महासचिव पीके अनिल कुमार, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य केके विश्वनाथन जैसे नेता शामिल हैं।

पार्टी केरल में 92 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। कांग्रेस ने अभिनेता धर्माजन को कोझिकोड जिले की बालुस्सेरी सीट से उतारा है। पार्टी ने पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी को पुथुपल्ली सीट से जबकि विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रमेश चेन्नीथला को हरिपद सीट से उम्मीदवार बनाया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

बकरीद की ढील का दिखने लगा असर? केरल में 1 दिन में कोरोना संक्रमण के 22129 केस, 156 मौतें भी

पूरे देश भर में रिपोर्ट हुए कोविड केसों में 53 % मामले अकेले केरल से आए हैं। भारत में कुल मामले जहाँ 42, 917 रिपोर्ट हुए। वहीं राज्य में 1 दिन में 22129 केस आए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,634FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe