Monday, July 22, 2024
Homeराजनीतिभादो से पहले नीतीश कुमार बिहार में फिर जलाएँगे लालू की लालटेन? तेजस्वी के...

भादो से पहले नीतीश कुमार बिहार में फिर जलाएँगे लालू की लालटेन? तेजस्वी के साथ राज्यपाल से मिलेंगे, BJP के मंत्री दे सकते हैं इस्तीफा

कहा जा रहा है कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री का पद नहीं छोड़ेंगे और तेजस्वी यादव को उप-मुख्यमंत्री का पद देते हुए गृह विभाग भी दिया जा सकता है।

बिहार में एक बार फिर से जदयू-राजद की सरकार के लिए समीकरण सेट हो गए हैं। भाजपा कोटे के सभी 16 मंत्री जल्द ही इस्तीफे देंगे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार (9 अगस्त, 2022) की दोपहर राज्यपाल फागू चौहान से मिलने का समय माँगा था, तभी तस्वीर साफ़ हो गई थी। तेजस्वी यादव के साथ उनकी बैठक भी होने वाली है, जिसमें गठबंधन सरकार के समीकरण पर चर्चा होगी। राजद बिहार विधानसभा की सबसे बड़ी पार्टी है।

कहा जा रहा है कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री का पद नहीं छोड़ेंगे और तेजस्वी यादव को उप-मुख्यमंत्री का पद देते हुए गृह विभाग भी दिया जा सकता है। भाजपा ने अब तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं। हालाँकि, केंद्रीय गृह मंत्री एवं भाजपा के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह की नीतीश कुमार से फोन कॉल पर बातचीत की खबर भी सामने आई थी। वामपंथी दलों ने पहले ही जदयू-राजद गठबंधन को समर्थन देने का ऐलान कर रखा है।

सोनिया गाँधी से नीतीश कुमार की बातचीत के बाद ये भी साफ़ हो गया है कि इस सरकार में कॉन्ग्रेस भी शामिल रहेगी। मीडिया ये भी कयास लगा रही है कि नीतीश कुमार 2024 लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री पद के लिए ताल ठोकेंगे और तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री पद की कमान दे दी जाएगी। इस तरह से 2025 बिहार विधानसभा चुनाव सीधे तेजस्वी यादव के नेतृत्व वाली राजद और भाजपा के बीच होगा। भाजपा के पास फ़िलहाल बिहार में कोई सर्वमान्य चेहरा नहीं है।

ये भी जानकारी सामने आई थी कि नीतीश कुमार महागठबंधन के विधायकों का समर्थन पत्र राज्यपाल को सौंपेंगे। जदयू अध्यक्ष ललन सिंह ने जब प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि उनकी पार्टी को तोड़ने का षड्यंत्र हो रहा है, तभी साफ़ हो गया था कि जदयू ने भाजपा पर ये आरोप लगाया है। महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के हाल के बाद नीतीश कुमार की चिंताएँ बढ़ गई थीं। RCP सिंह को जदयू से निकाला जाना एक टर्निंग पॉइंट साबित हुआ।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाइडेन बाहर, कमला हैरिस पर संकट: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में ओबामा ने चली चाल, समर्थन पर कहा – भविष्य में क्या होगा, कोई नहीं...

अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों की दौड़ से बाइडेन ने अपना नाम पीछे लिया तो बराक ओबामा ने उनकी तारीफ की और कमला हैरिस का समर्थन करने से बचते दिखे।

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -