Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीतिभारत की श्रेष्ठता इसकी भौगोलिक, सामाजिक विविधता में ही है: PM मोदी

भारत की श्रेष्ठता इसकी भौगोलिक, सामाजिक विविधता में ही है: PM मोदी

"हम जिस न्यू इंडिया की तरफ आगे बढ़ रहे हैं, वहाँ यही आकांक्षाएँ, यही सपने हमें पूरे करने हैं। भारत का कोई भी व्यक्ति, कोई भी क्षेत्र पीछे ना रह जाए, ये हमें सुनिश्चित करना है। गणतंत्र दिवस की परेड के पीछे भी यही ध्येय है।"

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री ‘ऐट होम’ कार्यक्रम में राष्ट्रीय बाल पुरस्कार-2020 से सम्मानित बच्चों और 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होने वाले आदिवासी कलाकारों, राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) के कैडेट्स और राष्ट्रीय सेवा योजना (NCC) के वोलियंटर और झाँकी में शिरकत करने वाले कलाकारों से शुक्रवार (जनवरी 24, 2020) को मुलाकात किए। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत एक राष्ट्र के साथ-साथ एक जीवंत परंपरा, एक विचार और एक संस्कार है।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने सबका स्वागत करते हुए कहा, “जितने भी साथी एकत्र हुए हैं, आप एक प्रकार से Mini India- New India (मिनी इंडिया-न्यू इंडिया) को दर्शाने वाले लोग हैं। भारत असल में क्या है, ये हमारा देश और पूरी दुनिया आपके माध्यम से समझती है।” इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि NCC और NSS के माध्यम से अनुशासन और सेवा की एक समृद्ध परंपरा जब राजपथ पर दिखती है, तो देश के करोड़ों युवा प्रेरित और प्रोत्साहित होते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- “यहाँ जितने भी युवा साथी आए हैं, मेरा आपसे आग्रह रहेगा कि राष्ट्र के प्रति अपने कर्तव्यों की ज्यादा से ज्यादा चर्चा करें। चर्चा ही नहीं, बल्कि खुद अमल करके, उदाहरण पेश करें। हमारे ऐसे ही प्रयास न्यू इंडिया का निर्माण करेंगे।”

PM मोदी ने कहा- “हम जिस न्यू इंडिया की तरफ आगे बढ़ रहे हैं, वहाँ यही आकांक्षाएँ, यही सपने हमें पूरे करने हैं। भारत का कोई भी व्यक्ति, कोई भी क्षेत्र पीछे ना रह जाए, ये हमें सुनिश्चित करना है। गणतंत्र दिवस की परेड के पीछे भी यही ध्येय है।”

प्रधानमंत्री मोदी गणतंत्र दिवस से पहले गणतंत्र दिवस के परेड में शामिल होने वाले करीब 1730 आदिवासी कलाकारों, NCC कैडेटों, NSS वोलियंटर और झाँकी में शामिल होने वाले कलाकारों से ‘ऐट होम’ कार्यक्रम में मुलाकात कर रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेचुरल फार्मिंग क्या है, बजट में क्यों इसे 1 करोड़ किसानों से जोड़ने का ऐलान: गोबर-गोमूत्र के इस्तेमाल से बढ़ेगी किसानों की आय

प्राकृतिक खेती एक रसायनमुक्त व्यवस्था है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जाता है, जो फसलों, पेड़ों और पशुधन को एकीकृत करती है।

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -