Friday, May 31, 2024
Homeराजनीतिओवैसी के गढ़ में PM मोदी ने की CM योगी की जमकर तारीफ, कहा-...

ओवैसी के गढ़ में PM मोदी ने की CM योगी की जमकर तारीफ, कहा- योगी को विज्ञान पर भरोसा, तोड़ दिया अंधविश्वास

"21वीं सदी में भी जो लोग अंधविश्वास के गुलाम बने हुए हैं वो किसी का भी नुकसान कर सकते हैं। ये अंधविश्वासी लोग तेलंगाना के साथ कभी न्याय नहीं कर सकते हैं।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हैदराबाद में बीजेपी कार्यकर्ताओं की एक रैली को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की जमकर तारीफ की है। उन्होंने तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव को ‘अंधविश्वासी’ बताते हुए कहा कि नोएडा के सीएम योगी आदित्यनाथ संत हैं। लेकिन जब उनके सामने एक शहर में न जाने की बात आई, क्योंकि इससे कुर्सी जाने का खतरा है, तो उन्होंने कहा कि वो विज्ञान पर विश्वास करते हैं। वो शहर भी गए और दोबारा मुख्यमंत्री भी बन गए।

बता दें कि पीएम मोदी उत्तर प्रदेश के शहर नोएडा के बारे में जिक्र कर रहे थे जिसके बारे में कहा जाता रहा है कि जो भी सीएम यहाँ आता है उसकी कुर्सी चली जाती। कई वर्षों तक नोएडा के लोग यूपी के मुख्यमंत्रियों का आने का इंतजार करते रहे। लेकिन इस मिथक को योगी आदित्यनाथ ने तोड़ा और अपने पहले कार्यकाल में ही वो कई बार नोएडा पहुँचे।

हैदराबाद की रैली में पीएम मोदी ने सीएम योगी की इस बात का जिक्र करते हुए तेलंगाना के सीएम पर इशारों-इशारों में निशाना साधा और कहा कि 21वीं सदी में भी जो लोग अंधविश्वास के गुलाम बने हुए हैं वो किसी का भी नुकसान कर सकते हैं। ये अंधविश्वासी लोग तेलंगाना के साथ कभी न्याय नहीं कर सकते हैं। 

पीएम मोदी ने कहा, “जब मैं गुजरात में सीएम था तो भी वहाँ भी कुछ शहरों के नाम के साथ अंधविश्वास जुड़ा था कि जो जाएगा उसकी कुर्सी चली जाएगी। मैं डंके की चोट के साथ-साथ वहाँ बार-बार जाता था। मैं विज्ञान और टेक्नॉलजी पर विश्वास करता हूँ।”

पीएम मोदी ने आगे कहा, “मैं तो आज तेलंगाना की धरती से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्रीमान योगी आदित्यनाथ जी को भी बधाई देता हूँ। वो तो संत और संन्यासी परंपरा से हैं। जब उनके सामने आया कि उस (नोएडा) शहर में नहीं जाना चाहिए तो योगी जी ने कहा कि मैं विज्ञान में विश्वास करता हूँ और वो चले गए और दोबारा मुख्यमंत्री भी बन गए।”  पीएम मोदी ने कहा कि अंधविश्वास के तवज्जो देने वाले लोग उसके भविष्य को कभी संवार नहीं सकते हैं। ऐसे अंधविश्वासी लोगों से हमें तेलंगाना को बचाना है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने इस टिप्पणी से तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव पर निशाना साधा, जिन पर अंधविश्वासी होने के आरोप लगते रहे हैं। पूर्व सांसद के विश्वेश्वर रेड्डी ने उन पर अपने अंधविश्वास के चलते लोगों की धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाया था। दरअसल, 2016 में ये चर्चाएँ चली थीं कि वास्तु को लेकर चिंतित केसीआर ने नए घर में शिफ्ट होने का फैसला लिया था। बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी जब हैदाराबाद में थे तो राज्य के सीएम के चंद्रशेखर राव बेंगलुरु में थे और पूर्व पीएम एचडी देवेगौड़ा से मीटिंग कर रहे थे। यह लगातार दूसरा मौका था, जब सीएम ने पीएम मोदी की अगवानी न करने का फैसला लिया। इससे पहले भी फरवरी में ऐसा हुआ था, जब वह पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात के लिए नहीं पहुँचे थे।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि दशकों तक चले तेलंगाना आंदोलन में हजारों लोगों ने अपना बलिदान दिया था। ये बलिदान तेलंगाना के भविष्य़ के लिए था। ये बलिदान, तेलंगाना की आन-बान-शान के लिए था। तेलंगाना आंदोलन इसलिए नहीं चला था कि कोई एक परिवार तेलंगाना के विकास के सपनों को लगातार कुचलता रहे। परिवारवाद की वजह से देश के युवाओं को, देश की प्रतिभाओं को राजनीति में आने का अवसर भी नहीं मिलता। परिवारवाद उनके हर सपनों को कुचलता है, उनके लिए हर दरवाजा बंद करता है। इसलिए, आज 21वीं सदी के भारत के लिए परिवारवाद से मुक्ति, परिवारवादी पार्टियों से मुक्ति एक संकल्प भी है। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -