Tuesday, July 16, 2024
Homeराजनीतिमम्मी के लिए 'नूरी' बढ़िया है राहुल जी, पर पापा राजीव से 'नूर' लेना...

मम्मी के लिए ‘नूरी’ बढ़िया है राहुल जी, पर पापा राजीव से ‘नूर’ लेना आप भूल गए: बेटे का जाति प्रलाप, बाप चाहते थे जाति विहीन समाज

आज भले राहुल गाँधी कह रहे हैं कि कॉन्ग्रेस की सरकार बनेगी तो जातीय जनगणना कराई जाएगी, लेकिन कभी संसद में उनके पिता पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी ने जाति विहीन समाज की वकालत की थी।

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने जैक रसेल टेरियर नस्ल की एक पपी अपनी मम्मी सोनिया को उपहार में दी है। वे इसे गोवा से लेकर आए हैं। इसका नाम ‘नूरी’ रखा है। राहुल ने एक वीडियो के जरिए अपने परिवार के इस सदस्य के बारे में लोगों को बताया है।

असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) ने कुतिया का नाम नूरी रखे जाने पर एतराज जताया है। वैसे नूरी का मोटे तौर पर अर्थ प्रकाश होता है। लेकिन ऐसा लगता है कि हाल के समय में जाति पर लगातार प्रलाप कर रहे राहुल अपने पापा राजीव से नूर लेना भूल गए हैं।

एक तरफ राहुल जातीय जनगणना के पैरोकार बने घूम रहे हैं, वहीं उनके पापा राजीव जाति विहीन समाज चाहते हैं। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी ने संसद में मंडल कमीशन की सिफारिशों का विरोध करते हुए यह बात कही थी। पूरे देश ने इसे सुना था, पर शायद राहुल इससे रूबरू होना भूल गए।

न्यूज18 ने राजीव गाँधी के उस भाषण की समीक्षा प्रकाशित की है। इस संबोधन के दौरान राजीव की तत्कालीन प्रधानमंत्री वीपी सिंह के साथ तीखी नोकझोंक हुई थी, क्योंकि वे मंडल आयोग की रिपोर्ट को आगे बढ़ा रहे थे।

राजीव गाँधी ने कहा था, “यह बेहद दुखद है कि इस सरकार (वीपी सिंह सरकार) की सोच जाति के इर्द-गिर्द घूमती है। वीपी सिंह हमारे समाज में दरार पैदा कर रहे हैं। इस देश का लक्ष्य जाति विहीन समाज होना चाहिए और आपको ऐसा कोई भी कदम उठाने से बचना चाहिए जो देश को जाति-ग्रस्त समाज की ओर ले जाए।”

राजीव गाँधी ने ये भाषण 6 सितंबर 1990 को संसद में दिया था। उन्होंने आगे कहा था, “जिस तरह से आपने मंडल आयोग को लागू किया है, मेरे लिए यह मेरे देश को तोड़ रहा है। इस समय में देश को इस जाति विभाजन से बचाने का समय है। जातिवाद की वजह से देश को इसके लिए बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ेगी।”

आरक्षण पर ये थी राजीव गाँधी की राय

वीपी सिंह सरकार द्वारा संसद में मंडल कमीशन की रिपोर्ट रखे जाने के समय चर्चा में राजीव गाँधी ने अपने भाषण के अंत में आरक्षण पर भी अपनी राय रखी थी। राजीव गाँधी ने कहा था, “सामाजिक और शैक्षिक रूप से पिछड़े वर्गों को आरक्षण सहित हर संभव मदद की जरूरत है और कॉन्ग्रेस इसमें आपका समर्थन करेगी। हम चाहते हैं कि इसका लक्ष्य सामाजिक और शैक्षिक रूप से पिछड़े वर्गों में सबसे गरीब और सबसे कमजोर लोगों को लक्षित किया जाए, जिसे कॉन्ग्रेस पार्टी ने इस साल 30 अगस्त को संसदीय कार्य समिति के प्रस्ताव में रेखांकित किया है।” राजीव गाँधी का बयान साफ तौर पर कहता है कि वो जाति के आधार पर नहीं, बल्कि आर्थिक तौर पर पिछड़े लोगों और कमजोर लोगों की मदद के पक्षधर थे।

राहुल गाँधी का ऐलान, कॉन्ग्रेस कराएगी जातिगत जनगणना

राजीव गाँधी ने संसद में जो कुछ भी कहा था, वो लोकसभा की कार्यवाही का हिस्सा है। उनके शब्द मिटाए नहीं जा सकते हैं। लेकिन अब राहुल गाँधी जो कुछ भी बोल रहे हैं, वो राजीव गाँधी की सोच के एकदम उलट है। राहुल गाँधी कह चुके हैं कि कॉन्ग्रेस के सत्ता में आते ही जातिगत जनगणना कराई जाएगी।

वैसे, ओबीसी आरक्षण पर राहुल गाँधी और कॉन्ग्रेस किस तरह से लगातार झूठ बोल रहे हैं, उसके बारे में जानने के लिए आप य​ह रिपोर्ट रिपोर्ट पढ़ सकते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -