Friday, July 12, 2024
Homeराजनीतिराजस्थान में कब्रिस्तान-मदरसों के लिए ₹5 करोड़, लोन लेंगे तो सब्सिडी भी... अल्पसंख्यकों के लिए...

राजस्थान में कब्रिस्तान-मदरसों के लिए ₹5 करोड़, लोन लेंगे तो सब्सिडी भी… अल्पसंख्यकों के लिए कुल ₹98.55 करोड़ की मंजूरी

गहलोत सरकार ने अल्पसंख्यक बहुल इलाकों में बुनियादी ढाँचे के विकास के लिए 44 करोड़ रुपए आवंटित करने का फैसला किया। इंदिरा गाँधी शहरी क्रेडिट कार्ड योजना में लोन पर ब्याज सब्सिडी के लिए 5 करोड़ रुपए।

राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) ने अल्पसंख्यकों के लिए लगभग 100 करोड़ रुपए का एक विकास कोष बनाने पर मुहर लगाई है। विकास कोष की अलग-अलग योजनाओं के लिए 98 करोड़ 55 लाख रुपए खर्च करने के संशोधित प्रस्ताव को सोमवार (17 जनवरी 2022) को मुख्यमंत्री ने मंजूरी दी

वक्फ भूमि, कब्रिस्तान और मदरसों के लिए 5 करोड़

प्रस्ताव के अनुसार, इस कोष से अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के परम्परागत हुनर के विकास के लिए 50 लाख, अल्पसंख्यक लोगों को रोजगार देने के लिए अंतरराष्ट्रीय भाषाओं के प्रशिक्षण पर दो करोड़, वक्फ भूमि या सार्वजनिक भूमि पर बने कब्रिस्तान, मदरसों एवं विद्यालयों में चारदीवारी निर्माण के लिए पाँच करोड़ रुपए खर्च किए जाएँगे।

इसके अलावा अल्पसंख्यक शिल्पकारों को विपणन प्रोत्साहन एवं सहायता के लिए एक करोड़ 25 लाख, जयपुर में अंग्रेजी माध्यम के आवासीय विद्यालय के निर्माण के लिए 21 करोड़ 80 लाख रुपए खर्च किए जाएँगे।

अल्पसंख्यक छात्रावासों में ई-स्टडी रूम

15 सरकारी अल्पसंख्यक छात्रावासों में ई-स्टडी रूम विकसित करने के लिए राज्य सरकार के कोष से 58 लाख रुपए आवंटित किए जाएँगे। गहलोत सरकार ने अल्पसंख्यक बहुल इलाकों में बुनियादी ढाँचे के विकास के लिए 44 करोड़ रुपए आवंटित करने का फैसला किया है। इंदिरा गाँधी शहरी क्रेडिट कार्ड योजना में लोन पर ब्याज सब्सिडी के लिए 5 करोड़ रुपए की स्वीकृति दी गई है।

अल्पसंख्यकों के उत्थान के लिए एक ‘शोध पीठ’

इसके साथ ही अल्पसंख्यकों के उत्थान के लिए एक ‘शोध पीठ’ की स्थापना की जाएगी और इसके लिए दो करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। गहलोत प्रशासन ने अल्पसंख्यक किसानों के लिए 15.42 करोड़ रुपए की लागत से सोलर पंप अनुदान योजना स्थापित करने का प्रस्ताव रखा है। एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि अल्पसंख्यक मेधावी युवा प्रोत्साहन योजना के लिए एक करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

उधर कॉन्ग्रेसी बक रहे गाली पर गाली, इधर राहुल गाँधी कह रहे – स्मृति ईरानी अभद्र पोस्ट मत करो: नेटीजन्स बोले – 98 चूहे...

सवाल हो रहा है कि अगर वाकई राहुल गाँधी को नैतिकता का इतना ज्ञान है तो फिर उन्होंने अपने समर्थकों के खिलाफ कभी कार्रवाई क्यों नहीं की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -