Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति49 बार दुबई से लॉगिन, 50 बार अडानी के खिलाफ सवाल: IT मंत्रालय ने...

49 बार दुबई से लॉगिन, 50 बार अडानी के खिलाफ सवाल: IT मंत्रालय ने संसद की एथिक्स कमिटी को बताया, महुआ मोइत्रा बोलीं – पूछताछ से पहले पढ़ लीजिए मेरी चिट्ठी

महुआ ने बताया था कि दर्शन के कर्मचारी सवालों को टाइप करके उनसे पढ़ने को कहते थे और वह आनन-फानन में उसे पढ़ कर अपने फ़ोन पर आई ओटीपी दे देती थीं जो कि सवाल पूछने के लिए आवश्यक थी।

तृणमूल कॉन्ग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा की संसद की लॉगिन आईडी का इस्तेमाल दुबई से कम से कम 49 बार हुआ है। केन्द्रीय सूचना एवं प्रौद्यिगिकी मंत्रालय (IT Ministry) ने यह जानकारी महुआ मोइत्रा पर पैसे लेकर संसद में प्रश्न पूछने के आरोपों की जाँच कर रही संसदीय आचार समिति को दी है। यह खुलासा अंग्रेजी समाचार चैनल ‘टाइम्स नाउ’ ने किया है।

महुआ मोइत्रा पर आरोप हैं कि उन्होंने दुबई में रहने वाले कारोबारी दर्शन हीरानंदानी से महँगे गिफ्ट और पैसे लेकर संसद में अडानी समूह के विरुद्ध प्रश्न पूछे। उन पर यह भी आरोप है कि प्रश्न पूछने के लिए उन्होंने अपने लॉगिन आईडी और पासवर्ड दर्शन हीरानंदानी के साथ साझा किए। दर्शन ने उनका उपयोग दुबई में बैठ कर महुआ के माध्यम से संसद में प्रश्न उठाने के लिए किया।

गौरतलब है कि भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को एक पत्र लिख कर बताया था कि महुआ मोइत्रा ने पैसे लेकर संसद में अडानी समूह को निशाना बनाने के लिए प्रश्न पूछती हैं। उन्होंने इन आरोपों की जाँच की माँग की थी। निशिकांत ने बताया था कि उन्हें यह जानकारी सुप्रीम कोर्ट में वकील जय अनंत देहाद्राई ने दी है जो कि महुआ के ‘पूर्व प्रेमी’ हैं। उन्होंने दुबई से प्रश्न पूछे जाने को सुरक्षा खतरा बताया था।

सांसद निशिकांत दुबे ने इस मामले में देश के केन्द्रीय रेल और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव को भी पत्र लिखा था और जाँच की माँग की थी। मंत्री अश्विनी वैष्णव ने उनके इस पत्र का जवाब देते हुए उनसे कहा था कि NIC (संसद के पोर्टल का रखरखाव करने वाली सरकारी एजेंसी) इस बात का पता लगाएगी।

संसद की आचार समिति ने भी सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय से इस मामले में जानकारी माँगी थी। अब उसने आचार समिति को सूचित किया है कि महुआ मोइत्रा के संसद के आईडी से दुबई में बैठ कर कम से कम 49 बार लॉगिन किया गया। गौरतलब है कि लॉगिन की यह संख्या उनके द्वारा संसद में अडानी समूह पर पूछे गए प्रश्नों की संख्या से मेल खाती है। निशिकांत दुबे ने आरोप लगाया था कि महुआ मोइत्रा द्वारा हाल ही में पूछे गए 61 प्रश्नों में से 50 प्रश्न अडानी समूह से जुड़े हुए थे। दुबई से लॉगिन 49 बार हुआ है।

दर्शन हीरानंदानी ने स्वयं एक पत्र जारी करके कहा था कि महुआ मोइत्रा उनसे महँगे गिफ्ट की माँग करती थीं। दर्शन ने यह भी बताया था कि उनके पास महुआ के संसद पोर्टल की लॉगिन आईडी और पासवर्ड थे जिसका इस्तेमाल उन्होंने अडानी समूह के विरुद्ध प्रश्न पूछने में किया।

महुआ मोइत्रा ने एक अंग्रेजी समाचार टीवी चैनल से बात करते हुए स्वीकार किया था कि उन्होंने अपनी संसद की लॉगिन आईडी दर्शन हीरानंदानी को दी। महुआ ने बताया था कि दर्शन के कर्मचारी सवालों को टाइप करके उनसे पढ़ने को कहते थे और वह आनन-फानन में उसे पढ़ कर अपने फ़ोन पर आई OTP दे देती थीं जो कि सवाल पूछने के लिए आवश्यक थी।

सांसद निशिकांत दुबे के आरोपों के बाद संसद की आचार समिति ने उन्हें और वकील जय अनंत देहाद्राई को 26 अक्टूबर, 2023 को बुलाया था। इसमें उन्होंने मौखिक सबूत समिति के सामने पेश किए थे। समिति ने महुआ को भी 31 अक्टूबर, 2023 को पेश होने को कहा था। हालाँकि, महुआ ने 5 नवम्बर से पहले पेश होने से मना कर दिया था। इसके पश्चात आचार समिति ने उन्हें 2 नवम्बर को पेश होने को कहा था।

वहीं महुआ मोइत्रा ने अब 2 नवम्बर को आचार समिति के समक्ष पेश होने से पहले माँग कर दी है कि उन्हें दर्शन हीरानंदानी से पूछताछ करने का मौका दिया जाए। उन्होंने वकील देहाद्राई से पूछताछ करने की माँग भी आचार समिति के सामने रखी है।

इस बात पर उन्होंने आचार समिति को एक पत्र लिखा है और उसे ‘X’ (पहले ट्विटर) पर भी साझा किया है। महुआ ने यह भी माँग की है दर्शन से यह पूछा जाए कि उन्होंने कब और कितने का गिफ्ट महुआ को दिया और इसकी एक लिस्ट बनाई जाए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

घुमंतू (खानाबदोश) पूजा खेडकर: जिसका बाप IAS, वो गुलगुलिया की तरह जगह-जगह भटक बिताई जिंदगी… इसी आधार पर बन गई MBBS डॉक्टर

पूजा खेडकर ने MBBS में नाम लिखवाने से लेकर IAS की नौकरी पास करने तक में नाम, उम्र, दिव्यांगता, अटेंप्ट और आय प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया।

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -