Monday, July 22, 2024
Homeराजनीतिपहले मंच से चंडी पाठ फिर मजार पर चादरपोशी: नंदीग्राम महासंग्राम में ममता ने...

पहले मंच से चंडी पाठ फिर मजार पर चादरपोशी: नंदीग्राम महासंग्राम में ममता ने खेला ‘हिन्दू-मुस्लिम कार्ड’

“मैं भी हिंदू हूँ और मेरे साथ हिंदू कार्ड मत खेलो! मैं सुबह चंडी पाठ करके घर से निकलती हूँ। मैं चंडी पाठ सुना रही हूँ, जो हिंदू-मुसलमान कर रहे हैं सुन लें। पाँव खींच खींचकर झूठ मत बोलिए।"

बंगाल विधानसभा चुनाव की सबसे हाई प्रोफाइल सीट नंदीग्राम से ममता बनर्जी ने हुँकार भर दी है। पश्चिम बंगाल की सीएम और टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने बीजेपी के उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी को चुनौती देते हुए कहा कि हिंदू कार्ड नहीं खेले। वह भी हिंदू धर्म की ही बेटी हैं। हालाँकि, इसके कुछ देर बात ही वह शमशाबाद मजार पर भी पहुँची और चादरपोशी भी की। इसके बाद ममता बनर्जी ने हरि मंदिर और दुर्गा मंदिर में भी दर्शन किया। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि ममता बनर्जी हर वर्ग के मतदाताओं को साधने की कोशिश कर रही हैं।

ममता बनर्जी बुधवार (मार्च 10, 2021) को यहाँ से पर्चा दाखिल करेंगी और फिर वापस नंदीग्राम आ जाएँगी और 11 मार्च को शिवरात्रि के अवसर पर शिव की पूजा कर कोलकाता जाएँगी और उसी दिन चुनावी घोषणा पत्र जारी करेंगी।

इससे पहले मंगलवार (मार्च 9, 2021) को एक जनसभा में ममता बनर्जी ने भारतीय जनता पार्टी पर जमकर निशाना साधा। साथ ही बीजेपी को हिंदुत्व की राजनीति पर नसीहत भी दी। इस अवसर पर ममता बनर्जी ने चंडी पाठ किया और शिव की भी स्तुति की। 

बीजेपी के हिंदू कार्ड पर ममता बनर्जी ने कहा, “मैं भी हिंदू हूँ और मेरे साथ हिंदू कार्ड मत खेलो! मैं सुबह चंडी पाठ करके घर से निकलती हूँ। मैं चंडी पाठ सुना रही हूँ, जो हिंदू-मुसलमान कर रहे हैं सुन लें। पाँव खींच खींचकर झूठ मत बोलिए। आने वाले दिनों में नंदीग्राम का मॉडल तैयार करूँगी। जनता से ममता ने कहा कि एक अप्रैल को उनको अप्रैल फूल कर दीजिएगा। एक अप्रैल को खेला होबे। चुनाव बाद देखूँगी कि जीभ में कितना जोर है। मिठाई खाइए जीभ की कटुता मिटेगी।”

ममता बनर्जी ने कहा कि मुझे बाहरी लोग कहा जाता है, गुजरात के लोग बाहरी नहीं हैं। गुजरात के गुंडा बाहरी नहीं है। यदि मैं बाहर की हूँ, तो मुख्यमंत्री कैसे हूँ? मेरे साथ हिंदू कार्ड नहीं खेलें। मैं भी हिंदू बेटी हूँ। पहले आप बताएँ कि आप हिंदू हैं या नहीं। मैं भी सुबह घर से चंडी पाठ करके ही निकलती हूँ। मुझसे हिंदू धर्म को लेकर प्रतियोगिता करें।

गौरतलब है कि पिछले दिनों शुभेंदु अधिकारी ने भाजपा के पितृ-पुरुष श्यामा प्रसाद मुखर्जी को याद करते हुए कहा कि उनके योगदान के बिना हमारा भारत एक इस्लामी मुल्क बन गया होता। उन्होंने कहा कि अगर मुखर्जी नहीं होते तो हम बांग्लादेश में रह रहे होते। बेहला के मुचिपारा में आयोजित रैली में उन्होंने ये बातें कहीं। उन्होंने लोगों को चेताया कि अगर TMC तीसरी बार सत्ता में आ जाती है तो वो बंगाल को कश्मीर बना देगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काँवड़िए नहीं जान पाएँगे दुकान ‘अब्दुल’ या ‘अभिषेक’ की, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक: कहा- बताना होगा सिर्फ मांसाहार/शाकाहार के बारे में,

सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कांवड़ रूट पर दुकानदारों के नाम दर्शाने वाले आदेश पर अंतरिम रोक लगा दी है।

AAP विधायक की वकीलगिरी का हाई कोर्ट ने उतारा भूत: गलत-सलत लिख कर ले गया था याचिका, लग चुका है बीवी को कुत्ते से...

दिल्ली हाईकोर्ट के जज ने सोमनाथ भारती की याचिका पर कहा कि वो नोटिस जारी नहीं कर सकते, उन्हें ये समझ ही नहीं आ रहा है, वो मामला स्थगित करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -