Wednesday, April 21, 2021
Home राजनीति बंगाल: भ्रष्टाचार उजागर करने वाले युवक की मौत, TMC पार्षद रुपाली सरकार और उनके...

बंगाल: भ्रष्टाचार उजागर करने वाले युवक की मौत, TMC पार्षद रुपाली सरकार और उनके समर्थकों ने किया था हमला

TMC पार्षद रुपाली सरकार और उसके सहयोगियों ने सौमन दास को कथित रूप से पीटा था। इससे उनके सिर, छाती और कमर में चोटें आईं। उन्हें कमरहटी के सागर दत्ता अस्पताल ले जाया गया, जहाँ इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया।

पश्चिम बंगाल के कामरहटी के बेलघोरिया इलाके में सौमन दास नाम के एक युवक की मृत्यु हो गई। कथित तौर पर तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) पार्षद रुपाली सरकार और उनके सहयोगियों ने सौमेन पर 4 मई को हमला किया था।

भ्रष्टाचार उजागर करने पर रुपाली सरकार और उनके समर्थकों ने सौमन पर हमला किया था। सौमन ने पिछले दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट किया था, जिसमें साफ तौर पर दिख रहा था कि रुपाली सरकार राहत सामग्री बाँटने में भेदभाव कर रही हैं, किसी को दे रही हैं, किसी को नहीं।

सरकार और उसके सहयोगियों ने दास को कथित रूप से पीटा। इससे उनके सिर, छाती और कमर में चोटें आईं। उन्हें कमरहटी के सागर दत्ता अस्पताल ले जाया गया, जहाँ उन्होंने दम तोड़ दिया

वीडियो में सौमन दास ने टीएमसी पार्षद रुपाली सरकार पर जरूरतमंदों को राहत आपूर्ति के वितरण में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था। इस वीडियो के बाद, दूसरे समूह के युवाओं ने एक वीडियो पोस्ट किया। इसमें दिखाया गया कि सौमन दास सामुदायिक किचेन के लिए सामान इकट्ठा कर रहे हैं। इस वीडियो में कथित तौर पर कुछ प्रतिकूल टिप्पणियाँ भी थीं।

इस वीडियो का विरोध करने के बाद सौमन दास के लिए परेशानियाँ शुरू हुई। दूसरे समूह के लोग, जो कथित तौर पर टीएमसी पार्षद रुपाली सरकार के समर्थक थे, ने उन्हें बुरी तरह से पीटा।

दास की माँ ने कहा कि उनका बेटा 100 रुपए लेकर घर से यह कहकर निकला था कि वह अपने दोस्तों के साथ ज़रूरतमंदों को भोजन और अन्य राहत सामग्री मुहैया कराने में योगदान देगा, लेकिन वह उसके बाद घर नहीं लौटा। बाद में उन्हें जानकारी मिली कि रुपाली सरकार और उनके गुंडों ने दास को बेरहमी से पीटा है। जब वे दौड़ेकर वहाँ पहुँचे तो उन्होंने देखा कि दास सड़क पर बेहोश पड़ा था। फिर उन्हें अस्पताल ले जाया गया।

चश्मदीद बताते हैं कि रुपाली सरकार ने दास का कॉलर पकड़कर खींचा था और अपने साथियों के साथ मिलकर उनकी पिटाई की थी। सौमन के रिश्तेदारों ने भी खुलासा करते हुए बताया, “हमें राहत सामग्री नहीं दी जा रही थी। बार-बार अपील के बावजूद पार्षद ने कार्रवाई नहीं की। कार्रवाई करने के बजाय टीएमसी पार्षद के लोगों ने सौमन की बेरहमी से पिटाई की।”

सौमेन दास ने भी दम तोड़ने से पहले खुद पुलिस से पुष्टि की थी कि रुपाली सरकार ने अपने साथियों के साथ मिलकर उन पर हमला किया था। हालाँकि टीएमसी द्वारा संचालित नगरपालिका के अध्यक्ष गोपाल साहा का कहना है, “राहत सामग्री के वितरण में परेशानी हुई। अगर किसी पर कोई आरोप था, तो उसे सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने के बजाय प्रशासन के पास शिकायत दर्ज करानी चाहिए थी। हम मामले की जाँच कर रहे हैं।”

घटना के बाद, एक भीड़ ने तृणमूल कॉन्ग्रेस के पार्षद के घर के बाहर तोड़फोड़ की। पुलिस सूत्रों ने कहा कि 5 मई (मंगलवार) को एक भीड़ रुपाली सरकार के घर के बाहर इकट्ठा हुई और पथराव किया। बाद में रैपिड एक्शन फोर्स के कर्मियों द्वारा उन्हें खदेड़ दिया गया। बैरकपुर के पुलिस आयुक्त मनोज वर्मा ने कहा कि भीड़ द्वारा किए गए पथराव में एक पुलिसकर्मी घायल हो गया। रुपाली सरकार को पुलिस ने इलाके से बाहर निकाल लिया।

टीएमसी पार्षद ने उस समय दावा किया था कि उनकी इस घटना में उनकी कोई भूमिका नहीं है। यह उनको फँसाने की राजनीतिक साजिश है। मगर अब बताया जा रहा है कि उन्होंने खुद ही आत्मसमर्पण कर दिया है और कामाहाती पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हम 1 साल में कितने तैयार हुए? सरकारों की नाकामी के बाद आखिर किस अवतार की बाट जोह रहे हम?

मुफ्त वाई-फाई, मुफ्त बिजली, मुफ्त पानी से आगे लोगों को सोचने लायक ही नहीं छोड़ती समाजवाद। सरकार के भरोसे हाथ बाँध कर...

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

पाकिस्तानी फ्री होकर रहें, इसलिए रेप की गईं बच्चियाँ चुप रहें: महिला सांसद नाज शाह के कारण 60 साल के बुजुर्ग जेल में

"ग्रूमिंग गैंग के शिकार लोग आपकी (सासंद की) नियुक्ति पर खुश होंगे।" - पाकिस्तानी मूल के सांसद नाज शाह ने इस चिट्ठी के आधार पर...

रवीश और बरखा की लाश पत्रकारिताः निशाने पर धर्म और श्मशान, ‘सर तन से जुदा’ रैलियाँ और कब्रिस्तान नदारद

अचानक लग रहा है जैसे पत्रकारों को लाश से प्यार हो गया है। बरखा दत्त श्मशान में बैठकर रिपोर्टिंग कर रही हैं। रवीश कुमार लखनऊ को लाशनऊ बता रहे हैं।

‘दिल्ली में बेड और ऑक्सीजन पर्याप्त, लॉकडाउन के आसार नहीं’: NDTV पर दावा करने के बाद CM केजरीवाल ने टेके घुटने

केजरीवाल के दावे के उलट अब दिल्ली के अस्पतालों में बेड नहीं है। ऑक्सीजन के लिए हाहाकार मचा है। लॉकडाउन लगाया जा चुका है।

‘हाइवे पर किसान, ऑक्सीजन सप्लाई में परेशानी’: कोरोना के खिलाफ लड़ाई में AAP समर्थित आंदोलन ही दिल्ली का काल

ऑक्सीजन की सप्लाई करने वाली कंपनी ने बताया है कि किसान आंदोलन के कारण 100 किलोमीटर की अतिरिक्त दूरी तय करनी पड़ रही है।

प्रचलित ख़बरें

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

रेमडेसिविर खेप को लेकर महाराष्ट्र के FDA मंत्री ने किया उद्धव सरकार को शर्मिंदा, कहा- ‘हमने दी थी बीजेपी को परमीशन’

महाविकास अघाड़ी को और शर्मिंदा करते हुए राजेंद्र शिंगणे ने पुष्टि की कि ये इंजेक्शन किसी अन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। उन्हें भाजपा नेताओं ने भी इसके बारे में आश्वासन दिया था।

‘सुअर के बच्चे BJP, सुअर के बच्चे CISF’: TMC नेता फिरहाद हाकिम ने समर्थकों को हिंसा के लिए उकसाया, Video वायरल

TMC नेता फिरहाद हाकिम का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। इसमें वह बीजेपी और केंद्रीय सुरक्षा बलों को 'सुअर' बता रहे हैं।

हाँ, हम मंदिर के लिए लड़े… क्योंकि वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान कर भीड़ नहीं बुलाई जाती, पेट्रोल बम नहीं बाँधे जाते

हिंदुओं को तीन बातें याद रखनी चाहिए, और जो भी ये मंदिर-अस्पताल की घटिया बाइनरी दे, उसके मुँह पर मार फेंकनी चाहिए।

पत्रकारिता का पीपली लाइवः स्टूडियो से सेटिंग, श्मशान से बरखा दत्त ने रिपोर्टिंग की सजाई चिता

चलते-चलते कोरोना तक पहुँचे हैं। एक वर्ष पहले से किसी आशा में बैठे थे। विशेषज्ञ को लाकर चैनल पर बैठाया। वो बोला; इतने बिलियन संक्रमित होंगे। इतने मिलियन मर जाएँगे।

‘मई में दिखेगा कोरोना का सबसे भयंकर रूप’: IIT कानपुर की स्टडी में दावा- दूसरी लहर कुम्भ और रैलियों से नहीं

प्रोफेसर मणिन्द्र और उनकी टीम ने पूरे देश के डेटा का अध्ययन किया। अलग-अलग राज्यों में मिलने वाले कोरोना के साप्ताहिक आँकड़ों को भी परखा।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,468FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe