Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयगाजा पर कब्जा नहीं करेगा इजरायल, बोले PM नेतन्याहू- हमास का सफाया है लक्ष्य:...

गाजा पर कब्जा नहीं करेगा इजरायल, बोले PM नेतन्याहू- हमास का सफाया है लक्ष्य: लेबनान सीमा भी खाली करवाया, युद्धविराम के आसार नहीं

हमास के हमले में इज़राइल में मरने वालों की संख्या अब 1,400 से अधिक हो गई है, करीब 4000 लोग घायल हुए हैं, जिनमें मुख्य रूप से आम नागरिक शामिल हैं। हमास के हमले के जवाब में इज़राइल ने गाजा में हमास के खिलाफ एक बड़ा अभियान चलाया है।

इजरायल और हमास के बीच जारी संघर्ष में कोई हल निकलता नहीं दिख रहा है। इजरायल ने गाजा पट्टी पर जमकर हमले किए हैं, जिसमें सैकड़ों लोगों की मौत हो चुकी है। इजरायल का कहना है कि वह हमास को पूरी तरह से खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध है। इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा है कि वह गाजा पर कब्जे की नहीं सोच रहे, बल्कि पूरा इजरायल हमास के खात्मे के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि हमास एक इस्लामिक आतंकवादी संगठन है, जो इजरायल के लोगों को मार रहा है।

दक्षिणी गाजा में नहीं हुआ युद्धविराम, मिस्र ने नहीं खोली सीमा

मीडिया में आ रही खबरें, जिसमें बताया गया है कि मिस्र से लगती सीमा खोल दी गई है, ताकि लोग मिस्र के अंदर जा सकते हैं। इजरायल ने इन दावों को खारिज कर दिया। इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि दक्षिणी गाजा में अभी तक किसी युद्धविराम पर सहमति नहीं हुई है।

बता दें कि अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने मिस्र में संवाददाताओं से कहा था कि क्रॉसिंग मानवीय सहायता के लिए खुलेगी। ब्लिंकन ने कहा, “हम संयुक्त राष्ट्र के साथ, मिस्र के साथ, इजराइल के साथ, अन्य के साथ मिलकर एक ऐसा तंत्र बना रहे हैं जिसके जरिए सहायता प्राप्त की जा सके और इसे उन लोगों तक पहुँचाया जा सके जिन्हें इसकी जरूरत है। लेकिन इजरायल ने इससे इनकार कर दिया है।

इजरायल ने 199 बंधकों की पहचान की, बरामदगी के प्रयास तेज

आईडीएफ के प्रवक्ता रियर एडमिरल डैनियल हगारी का कहना है कि सेना ने अब तक 199 बंधकों के परिवारों को सूचित किया है कि उनके लोगों को गाजा पट्टी में बंधक बनाकर रखा गया है। इनमें कई बुजुर्ग, बच्चे और महिलाएँ शामिल हैं। हगारी का कहना है कि सेना के पास गाजा पट्टी में हमास द्वारा बंधक बनाए गए लोगों के ठिकाने के बारे में कुछ जानकारी है। उन्होंने आगे कहा, “हम ऐसा कोई हमला नहीं करेंगे, जिससे हमारे लोगों को ख़तरा हो।” वहीं, इजरायल में हमास का समर्थन करने वाले 100 से अधिक लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इजरायल ने आंतरिक तौर पर ऐसी गिरफ्तारियों की अनुमति दी है। येरुशलम पोस्ट ने इस बारे में जानकारी दी है।

इस बीच, इजरायली सेना ने एक वीडियो जारी किया है, जो हमास आतंकवादी द्वारा बनाया गया था। इस वीडियो में वो लोगों को मारते दिख रहा है, जिसे आखिर में इजरायली सुरक्षा बल के लोग मार गिराते हैं। इस वीडियो में आखिर में वो गिर जाता है और मर जाता है।

इजरायल ने यूएन पर लगाए गंभीर आरोप

इजरायल ने यूएन पर गंभीर आरोप लगाए हैं। इजरायली सेना ने कहा है कि हमास के हमलावरों को यूएन के राहत कार्यों से मदद पहुँच रही है। यूएन की तरफ से दी जा रही सहायता सीधे उन हमास आतंकियों तक पहुँच रही है, जो 7 अक्टूबर को इजरायली लोगों के नरसंहार में शामिल थे।

लेबनान से सटी सीमा से अपने नागरिकों को हटा रहा इजरायल

इस बीच, लेबनान के अंदर से इजरायल पर हो रहे रॉकेट हमलों को देखते हुए इजरायली सेना उत्तरी सीमा पर पहुँच चुकी है और लेबनान से लगी सीमा से 2 किमी के दायरे में रह रहे आम लोगों को इजरायल के आंतरिक इलाकों में जाने को कहा गया है। इजरायली सेना की ये कार्रवाई बताती है कि तनाव हमास के साथ ही हिज्बुल्ला के साथ भी बढ़ गया है और इस सीमा पर इजरायली सेना हिज्बुल्लाह के खिलाफ बड़ा अभियान चलाने जा रही है।

हमास के हमलों में 1400 से अधिक की मौत

बता दें कि हमास के हमले में इज़राइल में मरने वालों की संख्या अब 1,400 से अधिक हो गई है, करीब 4000 लोग घायल हुए हैं, जिनमें मुख्य रूप से आम नागरिक शामिल हैं। हमास द्वारा आतंकी हमले के जवाब में इज़राइल ने गाजा में हमास के खिलाफ एक बड़ा अभियान चलाया है। इसके साथ ही उत्तरी गाजा में बिजली, पानी और राशन की आपूर्ति को रोकते हुए सीज कर दिया है। इजरायल ने उत्तरी गाजा के लोगों को दक्षिणी गाजा जाने के लिए कहा, ताकि वो जमीनी स्तर पर अपने हमलों को शुरू कर सके।

हमास पर ताबड़तोड़ हमले जारी, मौतों की संख्या

इस बीच, रायटर्स ने गाजा के अधिकारियों के हवाले से बताया है कि इजरायली हमले में अब तक कम से कम 2750 लोग मारे जा चुके हैं, तो 10 हजार से अधिक लोग घायल हुए हैं। मरने वालों में महिलाएँ और बच्चे भी शामिल हैं, क्योंकि इजरायल अभी तक हवाई हमले ही कर रहा है। वहीं, इन हमलों के साथ ही 1000 लोग लापता भी हैं। इजरायल के जमीनी हमले की सूरत में ये आँकड़े तेजी से बढ़ सकते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवर्कर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -