Thursday, July 18, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकोरोना की वैक्सीन बनाने में अहम mRNA तकनीक की खोज की थी: कैटालिन कोरिको...

कोरोना की वैक्सीन बनाने में अहम mRNA तकनीक की खोज की थी: कैटालिन कोरिको और वीसमैन को मिला मेडिसिन का नोबल पुरस्कार

ड्रू वीसमैन एक अमेरिकी चिकित्सक-वैज्ञानिक हैं, जो पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर हैं। उन्होंने एमआरएनए टीकों को सुरक्षित और प्रभावी बनाने के लिए एक तकनीक विकसित की। ड्रू वीसमैन ने अपने काम से दुनिया को बेहतर बनाने में मदद की है। उनकी खोजों ने कोविड-19 के खिलाफ विकसित किए गए अधिकांश टीकों को सही तरीके से काम करने में सफल बनाता है।

चिकित्सा के क्षेत्र में 2023 का नोबेल पुरस्कार कैटालिन कारिको और ड्रू वीसमैन को दिया गया है। प्रोफेसर कारिको हंगरी के सेज्ड विश्वविद्यालय में प्रोफेसर हैं, जबकि प्रोफेसर वीसमैन पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय में प्रोफेसर हैं। इन दोनों वैज्ञानिकों को एमआरएनए (mRNA) टीकों के विकास में अहम योगदान के लिए सम्मानित किया गया है।

इन दोनों वैज्ञानिकों की खोजों ने कोविड-19 महामारी से लड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उनके काम के बिना, एमआरएनए टीके संभव नहीं होते, जो दुनिया भर में करोड़ों लोगों की जान बचाने में मददगार साबित हो चुके हैं।

कोविड महामारी आने से पहले उनकी खोज जारी थी। महामारी के दौरान जब वैक्सीन बनाने की जरूरत पड़ी तो उनकी खोज लगभग पूरी हो चुकी थी। साल 2021 में उन्होंने इसे पूरी तरह से विकसित कर लिया था।

अब इसका उपयोग लोगों को गंभीर कोरोना वायरस से बचाने के लिए एमआरएनए टीके विकसित करने के लिए किया जाता है। वैज्ञानिक कैंसर सहित अन्य बीमारियों से निपटने के लिए इस प्रौद्योगिकी का उपयोग करने के तरीके खोजने पर भी काम कर रहे हैं।

नोबल पुरस्कार समिति ने की घोषणा

नोबेल पुरस्कार के आधिकारिक एक्स हैंडल पर लिखा, “कैटालिन कारिको और ड्रू वीसमैन की खोज – फिजियोलॉजी या मेडिसिन में 2023 नोबेल पुरस्कार से सम्मानित – महामारी के दौरान COVID ​​​​-19 के खिलाफ प्रभावी एमआरएनए टीके विकसित करने के लिए महत्वपूर्ण थे। उन्होंने आधुनिक समय में मानव स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़े खतरों में से एक के दौरान वैक्सीन विकास की अभूतपूर्व दर में योगदान दिया है।”

कौन हैं प्रोफेसर कैटालिन कारिको?

कैटालिन कारिको एक हंगेरियन-अमेरिकी बायोकेमिस्ट हैं, जो पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय में प्रोफेसर हैं। उन्होंने एमआरएनए (mRNA) के स्थिरीकरण के लिए एक विधि विकसित की, जिससे इसे टीके के रूप में उपयोग करना संभव हो गया।

न्यूक्लियोसाइड आधारित संशोधनों से संबंधित उनकी खोजों के लिए उन्हें यह पुरस्कार प्रदान किया गया है। उनकी खोजों ने कोविड-19 के खिलाफ प्रभावी एमआरएनए टीकों के विकास को सक्षम बनाया है।

प्रोफेसर डू वीसमैन का अहम कामय़

ड्रू वीसमैन एक अमेरिकी चिकित्सक-वैज्ञानिक हैं, जो पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर हैं। उन्होंने एमआरएनए टीकों को सुरक्षित और प्रभावी बनाने के लिए एक तकनीक विकसित की। ड्रू वीसमैन ने अपने काम से दुनिया को बेहतर बनाने में मदद की है। उनकी खोजों ने कोविड-19 के खिलाफ विकसित किए गए अधिकांश टीकों को सही तरीके से काम करने में सफल बनाता है।

इन टीकों में एमआरएनए को एक लिपोसोम के साथ जोड़ा जाता है जो इसे कोशिकाओं में प्रवेश करने में मदद करता है। एक बार कोशिकाओं में एमआरएनए कोविड-19 के प्रोटीन के लिए कोड बनाने के लिए उपयोग किया जाता है। शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली कोविड-19 प्रोटीन को एक एंटीजन के रूप में पहचानती है और इसके खिलाफ एंटीबॉडी बनाती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काँवड़ यात्रा पर किसी भी हमले के लिए मोहम्मद जुबैर होगा जिम्मेदार: यशवीर महाराज ने ‘सेकुलर’-इस्लामी रुदालियों पर बोला हमला, ढाबों मालिकों की सूची...

स्वामी यशवीर महाराज ने 18 जुलाई 2024 को एक वीडियो बयान जारी कर इस्लामिक कट्टरपंथियों और तथाकथित 'सेकुलरों' को आड़े हाथों लिया है।

3 आतंकियों को घर में रखा, खाना-पानी दिया, Wi-Fi से पाकिस्तान करवाई बात: शौकत अली हुआ गिरफ्तार, हमलों के बाद OGW नेटवर्क पर डोडा...

शौकत अली पर आरोप है कि उसने सेना के जवानों पर हमला करने वाले आतंकियों को कुछ दिन अपने घर में रखा था और वाई-फाई भी दिया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -